Sunday, March 03, 2024
Advertisement

किम जोंग हुए आपे से बाहर, बनाया ऐसा विनाशक प्लान कि अमेरिका के साथ उड़ी रूस की भी नींद

Kim Jong Un & North Korea: उत्तर कोरिया के नेता और सनकी तानाशाह किम जोंग उन की सनक से दुनिया पूरी तरह वाकिफ है। अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों और अमेरिका की चेतावनियों से बेखौफ होकर बैलिस्टिक मिसाइलों और परमाणु परीक्षण करने वाले किम जोंग के नये प्लान के बारे में जानकर अब अमेरिका और रूस के भी होश उड़ गए हैं।

Dharmendra Kumar Mishra Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Updated on: December 02, 2022 21:14 IST
किम जोंग (उत्तर कोरिया का तानाशाह)- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO किम जोंग (उत्तर कोरिया का तानाशाह)

Kim Jong Un & North Korea: उत्तर कोरिया के नेता और सनकी तानाशाह किम जोंग उन की सनक से दुनिया पूरी तरह वाकिफ है। अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों और अमेरिका की चेतावनियों से बेखौफ होकर बैलिस्टिक मिसाइलों और परमाणु परीक्षण करने वाले किम जोंग के नये प्लान के बारे में जानकर अब अमेरिका और रूस के भी होश उड़ गए हैं। किम जोंग उन ने स्वयं अपने इस विनाशक प्लान का खुलासा किया है। उत्तर कोरिया के इस प्लान के बारे में जानकर अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन भी चिंता में पड़ गए हैं। हालांकि उत्तर कोरिया रूस का मित्र है।

यह है किम जोंग उन का विनाशक प्लान

किम जोंग उन उत्तर कोरिया को विश्व की सबसे बड़ी परमाणु शक्ति बनाना चाहते हैं। उनका यह हालिया दावा कि उत्तर कोरिया की विश्व की सबसे शक्तिशाली परमाणु शक्ति विकसित करने की योजना है किसी विश्वसनीय खतरे की तुलना में गीदड़ भभकी हो सकता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसे नजरअंदाज किया जा सकता है। सबसे अच्छा अनुमान यह है कि उत्तर कोरिया के पास अपना कार्यक्रम शुरू करने के तीन दशक बाद अब 45 से 55 परमाणु हथियार बनाने के लिए पर्याप्त विखंडनीय सामग्री है। 1945 में हिरोशिमा को नष्ट करने वाले 15 किलोटन के बम के समान, इन आयुध की क्षमता लगभग 10 से 20 किलोटन के बीच होगी। लेकिन उत्तर कोरिया के पास दस गुना बड़े बम बनाने की क्षमता है। इसकी मिसाइल डिलीवरी प्रणाली भी बड़ी रफ्तार से आगे बढ़ रही है।

अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन कर परीक्षण कर रहा उत्तर कोरिया
उत्तर कोरिया की तकनीकी प्रगति बयानबाजी और उसके लापरवाह कृत्यों में मेल खाती है, जिसमें सभी अंतरराष्ट्रीय मानदंडों का उल्लंघन करते हुए जापान के ऊपर मिसाइलों का परीक्षण करना, आतंक भड़काना और आकस्मिक युद्ध का जोखिम पैदा करना शामिल है। अब सवाल यह है कि इस अलग थलग राष्ट्र को हथियार नियंत्रण वार्ताओं और अंतर्राष्ट्रीय संवाद के दायरे में कैसे लाया जाए। इसकी संभावना कितनी भी कम क्यों न हो, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया गया तो क्षेत्रीय परमाणु हथियारों की दौड़ बढ़ने का जोखिम है। असफलता का इतिहास मौजूदा गतिरोध को 1991 और शीत युद्ध की समाप्ति तक देखा जा सकता है। सोवियत संघ के साथ व्यवहार्य हथियार नियंत्रण संधि करने के अपने प्रयासों के तहत, अमेरिका ने दक्षिण कोरिया से सभी परमाणु हथियार हटा दिए। यह उस समय समझदारी लग रही थी, खासकर जब उत्तर कोरिया ने 1985 में परमाणु हथियार अप्रसार (एनपीटी) संधि पर प्रतिबद्धता जताई थी। इसके तहत सदस्य देश स्वतंत्र पर्यवेक्षकों के साथ अनुपालन की निगरानी के लिए हथियारों के नियंत्रण और कटौती के लिए प्रतिबद्ध होते हैं। उत्तर कोरिया पर भरोसा गलत था।

सबको बरगलाता रहा उत्तर कोरिया
1993 से उत्तर कोरिया ने अगले 30 वर्षों तक प्रत्येक अमेरिकी राष्ट्रपति और अधिकांश अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को बरगलाया या मूर्ख बनाया, 2003 में एनपीटी को छोड़ दिया और 2006 में अपना पहला परमाणु विस्फोट किया। इसने शक्ति के वैश्विक संतुलन को इतना बिगाड़ दिया कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी सदस्यों ने सहमति व्यक्त की कि उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार और संबंधित मिसाइल डिलीवरी प्रणाली विकसित करना बंद करना होगा। 2006 के बाद से प्रतिबंधों के नौ दौर ने इसे लागू करने का प्रयास किया, कोई फायदा नहीं हुआ। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोशिश करने वाले आखिरी व्यक्ति थे, उन्होंने किम जोंग उन को उत्तर कोरियाई अर्थव्यवस्था को खोलने के लिए आमंत्रित किया और यहां तक ​​कि दक्षिण में संयुक्त सैन्य अभ्यास को समाप्त करने का वादा किया। किम ने परमाणु कार्यक्रम से हटने का वचन तो दिया, लेकिन किया कुछ नहीं। रूस और चीन का प्रभाव इस दशक के अंत तक, उत्तर कोरिया के पास 200 बम हो सकते हैं, जो किम जोंग उन के परमाणु महाशक्ति बनने के विचार के मार्ग में सहायक होंगे। यह अभी भी अमेरिका और रूस के भंडार से बहुत कम होगा, जिनके पास सभी परमाणु हथियारों का 90% हिस्सा है।

किसके पास कितने परमाणु बम
इज़राइल के पास (90), भारत के पास (160), पाकिस्तान के पास (165), ब्रिटेन (225), फ्रांस ("300 से कम") और चीन (350) परमाणु बम रखने वाले देश हैं। वहीं रूस सबसे ज्यादा करीब 6400 परमाणु बम के साथ दुनिया में पहले नंबर पर है। जबकि अमेरिका 5800 परमाणु बमों के साथ दूसरे नंबर पर है। इस कड़ी में उत्तर कोरिया अब तक 200 परमाणु बम बना चुका है। इससे किम जोंग के विनाशक प्लान का अंदाजा लगाया जा सकता है। रूस और चीन दोनों ने हाल ही में उत्तर कोरिया पर अपने मिसाइल प्रक्षेपणों पर सख्त प्रतिबंध लगाने का प्रयास किया है। अपनी स्थिति को रेखांकित करने के लिए, उन्होंने हाल ही में दक्षिण कोरियाई वायु रक्षा क्षेत्र के अंदर सैन्य अभ्यास भी किया। हथियारों की क्षेत्रीय होड़ यह सब एक महत्वपूर्ण सवाल उठाता है कि क्या उत्तर कोरिया के साथ संबंधों को सामान्य करने और आगे बढ़ने का रास्ता खोजने के प्रयास में मौजूदा, अप्रभावी प्रतिबंधों को हटा दिया जाना चाहिए? आखिरकार, ऐसे उदाहरण मौजूद हैं जब देशों के परमाणु क्लब में शामिल होने को अंतत: स्वीकार किया गया है।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement