1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. अभी तक नहीं हुआ कोरोना? यह सिर्फ किस्मत नहीं कुछ और भी है...

Covid-19: अभी तक नहीं हुआ कोरोना? यह सिर्फ किस्मत नहीं कुछ और भी है...

हम सभी उन भाग्यशाली लोगों में से कुछ को जानते हैं, जो किसी तरह, कोविड की चपेट में आने से बचने में कामयाब रहे हैं। शायद आप उनमें से एक हैं। क्या आप में कोई दिव्य शक्ति है? क्या कोई ऐसा वैज्ञानिक कारण है जिसकी वजह से कोई व्यक्ति संक्रमित होने से बचा रह सकता है?

Swayam Prakash Edited by: Swayam Prakash @SwayamNiranjan
Published on: May 19, 2022 18:41 IST
A London University study on Covid-19- India TV Hindi
Image Source : PTI A London University study on Covid-19

Covid-19: हम सभी उन भाग्यशाली लोगों में से कुछ को जानते हैं, जो किसी तरह, कोविड की चपेट में आने से बचने में कामयाब रहे हैं। शायद आप उनमें से एक हैं। क्या आप में कोई दिव्य शक्ति है? क्या कोई ऐसा वैज्ञानिक कारण है जिसकी वजह से कोई व्यक्ति संक्रमित होने से बचा रह सकता है, वह भी तब जब वायरस हर तरफ फैला है? या यह सिर्फ किस्मत है? यूके में 60% से अधिक लोग कम से कम एक बार कोविड पॉजिटिव मिले। हालांकि, उन लोगों की संख्या, जो वास्तव में सार्स-कोव-2 वायरस, से संक्रमित हुए हैं, इससे कहीं अधिक है। 

क्या शरीर में कोई दिव्य शक्ति?

क्वीन्स यूनिवर्सिटी, बेलफास्ट लंदन की स्टडी में पता चला है कि अगर उन लोगों को गिन भी लिया जाए, जिन्हें कोविड हुआ है और उन्हें इसका एहसास नहीं है, अभी भी ऐसे लोगों का एक समूह है जिन्हें कोविड कभी हुआ ही नहीं है। कुछ लोगों के कोविड के प्रति इम्मयून दिखाई होने का कारण एक ऐसा प्रश्न है जो पूरी महामारी के दौरान बना हुआ है। विज्ञान के और भी बहुत से अनबूझे सवालों की तरह यह सवाल भी अब तक अनसुलझा ही है। हम शायद ऐसे लोगों के दिव्य शक्ति संपन्न होने की बात को खारिज कर सकते हैं। लेकिन विज्ञान और भाग्य दोनों की भूमिका होने की संभावना है। चलिए एक नज़र डालते हैं। 

सबसे सरल व्याख्या यह है कि ये लोग कभी भी वायरस के संपर्क में नहीं आए हैं। यह निश्चित रूप से उन लोगों के लिए हो सकता है, जिन्हें महामारी के दौरान इससे बचाने के लिए अतिरिक्त प्रयास किए गए हैं। लेकिन इसकी बहुत कम संभावना है कि कोई व्यक्ति काम या स्कूल जा रहा है, लोगों से मिल-जुल रहा है खरीदारी कर रहा है और इस दौरान वह वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति के संपर्क में नहीं आया है। 

क्या वैक्सीन बनी हथियार?

ऐसे लोग हैं जिन्होंने उच्च स्तर के जोखिम में होने के बावजूद, जैसे कि अस्पताल के कर्मचारी या ऐसे लोगों के परिवार के सदस्य जिन्हें कोविड हुआ है, कोविड की चपेट में आने से बचने में कामयाब रहे हैं। हम कई अध्ययनों से जानते हैं कि टीके न केवल गंभीर बीमारी के जोखिम को कम करते हैं, बल्कि वे सार्स-कोव-2 के घरेलू संचरण की संभावना को भी लगभग आधा कर सकते हैं। तो निश्चित रूप से टीकाकरण कुछ करीबी संपर्कों को संक्रमित होने से बचाने में मदद कर सकता था। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये अध्ययन ओमिक्रोन के आने से पहले किए गए थे। ओमिक्रोन संचरण पर टीकाकरण के प्रभाव पर डेटा अभी भी सीमित है। 

ये फैक्टर हो सकते हैं कवच 

कुछ लोग संक्रमण के संपर्क में क्यों नहीं आए हैं, इसके बारे में एक सिद्धांत यह है कि, वह लोग वायरस के संपर्क में तो हैं, लेकिन यह श्वसन तंत्र में प्रवेश करने के बावजूद संक्रमित करने में विफल रहा। यह कोशिकाओं तक पहुंच प्राप्त करने के लिए सार्स-कोव-2 के लिए आवश्यक रिसेप्टर्स की कमी के कारण हो सकता है। एक बार जब कोई व्यक्ति संक्रमित हो जाता है, तो शोधकर्ताओं ने पहचाना है कि सार्स-कोव-2 की इम्यून प्रतिक्रिया में अंतर लक्षणों की गंभीरता को निर्धारित करने में भूमिका निभाते हैं। यह संभव है कि एक त्वरित और मजबूत इम्यून रिएक्शन वायरस को बड़े पैमाने पर खुद को दोहराने से रोक सकती है। संक्रमण के प्रति हमारा इम्यून रिस्पॉन्स की प्रभावशीलता काफी हद तक हमारी उम्र और हमारी आनुवंशिकी द्वारा परिभाषित होती है। एक स्वस्थ जीवन शैली निश्चित रूप से मदद करती है।