Tuesday, June 25, 2024
Advertisement

Manipur Violence: इंफाल में मणिपुर के मंत्री के घर के बाहर हुआ धमाका, CRPF जवान सहित महिला घायल

मणिपुर में हिंसक वारदातें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। ताजा मामले में इंफाल में मंत्री के घर के बाहर भीषण धमाका हुआ है जिसमें एक सीआरपीएफ के जवान सहित एक महिला जख्मी हो गई है।

Edited By: Kajal Kumari @lallkajal
Published on: October 08, 2023 14:54 IST
blast near minister house- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO इंफाल में मंत्री के घर के बाहर धमाका

Manipur Violence: मणिपुर में हिंसक वारदातों का सिलसिला जारी है। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि राज्य की राजधानी इंफाल में मणिपुर के एक मंत्री के आवास के बाहर शनिवार की रात हुए एक बम विस्फोट की घटना में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) का एक जवान और एक महिला घायल हो गए। अधिकारियों के अनुसार, यह घटना सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक युमनाम खेमचंद के आवास के गेट के बाहर युमनाम लीकाई लैरेम्बी मनिंग में हुई, जो मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के अधीन पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री हैं।

इंफाल पश्चिम जिले, जहां यह घटना हुई थी, वहां के पुलिस अधिकारियों ने कहा कि बम, संभवतः एक ग्रेनेड, अज्ञात बदमाशों द्वारा फेंका गया था जो मोटरसाइकिल पर सवार थे। यह घटना शनिवार की रात करीब 10 बजे की है। मंत्री के आवास के बाहर ड्यूटी पर तैनात सीआरपीएफ कर्मी को विस्फोट में दाहिने हाथ में मामूली चोटें आईं। विस्फोट में घायल महिला स्थानीय निवासी बताई जा रही है। घटना के तुरंत बाद मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया।

अबतक 178 लोग मारे गए, 50,000 से अधिक लोग विस्थापित

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि, "हमने इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी है और अपराधियों को पकड़ने के लिए जांच शुरू कर दी है।" 29 सितंबर को, प्रदर्शनकारियों के एक बड़े समूह ने इंफाल पूर्वी जिले के खुरई साजोर लीकाई में स्थित भाजपा विधायक और राज्य सरकार में शारीरिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग और उपभोक्ता मामलों के मंत्री एल सुसींद्रो के आवास पर हमला करने की कोशिश की।

राज्य पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) सहित सुरक्षा बल भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले और धुआं बम दागकर भीड़ को तितर-बितर करने में सफल रहे। 3 मई के बाद से इंफाल में मंत्रियों और विधायकों के आवासों पर कई हमले हुए हैं, जब मेइतेई और आदिवासी कुकी के बीच जातीय संघर्ष शुरू हुआ था। पिछले पांच महीने से अधिक समय से जारी हिंसा में कम से कम 178 लोग मारे गए हैं और 50,000 से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं।

ये भी पढ़ें: 

अफगानिस्तान के भूकंप में मारे जाने वालों का आंकड़ा 2000 तक पहुंचा, अभी और बढ़ेगी संख्या

"राजस्थान में दोहराया जाएगा बंगाल वाला इतिहास", गहलोत के मंत्री परसादी लाल का बड़ा बयान

 

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement