Punjab News: CM भगवंत मान के दौरे से पहले जालंधर में लगे मिले खालिस्तान के पोस्टर

Punjab News: पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्प्रे पेंट से लिखे स्लोगन को मिटाया और संविधान चौक के आसपास लगे सीसीटीवी चेक करके आरोपियों की छानबीन शुरू कर दी।

Deepak Vyas Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Updated on: August 29, 2022 10:55 IST
Khalistan- India TV Hindi News
Image Source : INDIA TV Khalistan

Highlights

  • पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्प्रे पेंट से लिखे स्लोगन को मिटाया
  • सीसीटीवी चेक करके आरोपियों की छानबीन शुरू कर दी
  • 31 अगस्त को पूर्व सीएम बेअंत सिंह की पुण्यतिथि

Punjab News: पंजाब के शहर जालंधर में सीएम भगवंत मान (Punjab CM Bhagwant Mann) के दौरे से पहले जालंधर में पोस्टर पर खालिस्‍तानी नारे लिखे होने का मामला सामने आया है। एसएचओ जालंधर कमलजीत ने कहा, 'हम आसपास के सीसीटीवी कैमरे चेक कर रहे हैं।' मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्प्रे पेंट से लिखे स्लोगन को मिटाया और संविधान चौक के आसपास लगे सीसीटीवी चेक करके आरोपियों की छानबीन शुरू कर दी। 

पंजाब के सीएम भगवंत मान के दौरे से एक दिन पहले जालंधर में आतंकी संगठन 'खालिस्तान' (Khalistan) के समर्थन में नारे लगाए गए। वहीं सीएम भगवंत मान सिंह (Punjab CM Bhagwant Mann) और पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह (Beant Singh) के पोस्टरों पर नारे भी लिखे गए, जो 31 अगस्त 1995 में चंडीगढ़ (Chandigarh) के सिविल सचिवालय के बाहर बम विस्फोट में शहीद हुए थे। इस मामले में अभी और जानकारी की तलाश की जा रही है।

इससे पहले 6 जुलाई को पटियाला के एक शख्स को खालिस्तान के समर्थन करने पर करनाल पुलिस ने गिरफ्तार किया था। स शख्स पर आरोप था कि इसने ​दीवार पर खालिस्ताना के समर्थन में नारे लिखे थे। वहीं जून माह में पंजाब के फरीदकोट में एक सेशन कोर्ट के जज के घर की दीवारों पर खालिस्तान के समर्थन में नारे लिखे पाए गए थे। इस मामले में फरीदकोट की एसएसपी ने बताया था कि 'एसएफजे कार्यकर्ता गुरपतवंत सिंह पन्नू का एक वीडियो सामने आया है और दीवारों पर नारे लिखे गए हैं। 

क्या है खालिस्तान?

खालिस्तान का मतलब होता है कि खालसे की सरजमीन। ब्रिटिश साम्राज्य के पतन के बाद एक अलग सिख राष्ट्र की मांग शुरू हुई थी, जिसके बाद भारत के पंजाब के सिख अलगाववादियों द्वारा प्रस्तावित राष्ट्र को खालिस्तान नाम दिया गया। 1980 और 1990 के दशक में ये आंदोलन काफी तेज हुआ था, हालांकि 1995 तक भारत सरकार ने इस पर कंट्रोल कर लिया और आंदोलन सिर नहीं उठा सका। 

31 अगस्त को पूर्व सीएम बेअंत सिंह की पुण्यतिथि

बता दें कि ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मारे गए आम लोगों के विरोध में आज भी ये आंदोलन बहुत छोटे रूप में जिंदा है। कुछ भारतीय सिख और प्रवासी सिख आज भी खालिस्तान का समर्थन करते हैं और इसके लिए मुहिम छेड़े हुए हैं। उल्लेखनीय है कि एक ओर 31 अगस्त को पूर्व सीएम बेअंत सिंह की पुण्यतिथि है और दूसरी ओर कल (29 अगस्त 2022) पंजाब सीएम ‘खेला वतन पंजाब दिया’ का उद्घाटन करने जालंधर के गुरु गोविंद सिंह स्टेडियम जा रहे हैं। ऐसे में अज्ञात लोगों ने इनके पोस्टर्स पर खालिस्तानी नारे लिखे और धमकी दी। बताया जा रहा है कि भगवंत मान के पोस्ट पर 'नेक्स्ट' लिखा हुआ था।

Latest India News

navratri-2022