Wednesday, May 22, 2024
Advertisement

'ये तुम्हारे बाप-दादा की...', कंगना के तीखे हमले पर बोले विक्रमादित्य- कोटि कोटि प्रणाम, हिमाचल में कभी इस्तेमाल नहीं हुई ऐसी भाषा

कंगना रनौत और विक्रमादित्य सिंह के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। कंगना रनौत ने विक्रमादित्य की तुलना छोटा पप्पू से की और कहा कि ये तुम्हारे बाप-दादा की रियासत नहीं है कि तुम मुझे डरा-धमका के वापस भेज दोगे। अब इस पर विक्रमादित्य ने भी फिल्मों की क्वीन को नसीहत दे डाली।

Written By: Khushbu Rawal @khushburawal2
Published on: April 12, 2024 12:44 IST
vikramaditya singh kangana ranaut- India TV Hindi
Image Source : PTI विक्रमादित्य सिंह और कंगना रनौत

हिमाचल प्रदेश की मंडी में एक बार फिर सियासत गरमा गई है। इस बार यहां की बीजेपी प्रत्याशी कंगना रनौत के टारगेट पर हिमाचल कांग्रेस के नेता विक्रमादित्य सिंह हैं जिन्हें मंडी सीट से संभावित उम्मीदवार के तौर पर देखा जा रहा है। कंगना रनौत ने विक्रमादित्य का नाम लिए बगैर उनपर जबरदस्त प्रहार किया है। उन्होंने इशारों में विक्रमादित्य की तुलना छोटा पप्पू से की है। कंगना ने कहा कि एक बड़ा पप्पू दिल्ली में बैठा है, छोटा पप्पू हिमाचल में है। छोटा पप्पू कहता है कि कंगना गौमांस खाती है। बीजेपी प्रत्याशी ने कहा, ''ये तुम्हारे बाप-दादा की रियासत नहीं है कि तुम मुझे डरा-धमकाकर वापस भेज दोगे। यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नया भारत है, जहां चाय बेचने वाला एक छोटा, गरीब लड़का लोगों का सबसे बड़ा नायक और प्रधान सेवक है।'' कंगना रनौत ने ये बातें मनाली की जनसभा में कही।  

'भगवान राम कंगना को जल्द सदबुद्धि दें'

वहीं, अब कंगना पर पर पलटवार करते हुए विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि भगवान राम उन्हें जल्द सदबुद्धि दें। वह क्या खाती हैं और मुंबई में क्या पीती हैं। हिमाचल की जनता को इससे कुछ लेना देना नहीं है। न ही यह हिमाचल के मुद्दे हैं। खाने पीने के बजाय कंगना मुद्दों पर बात करें तो बेहतर रहेगा। उन्होंने कहा, कंगना ने जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है, खास तौर पर हमारे कांग्रेस, हिमाचल प्रदेश के लिए, उसके लिए मैं उन्हें कोटि कोटि प्रणाम करता हूं। आजतक ऐसी भाषा का इस्तेमाल हिमाचल में नहीं हुआ होगा।

पप्पू तक कैसे पहुंची ये लड़ाई?

दरअसल, पिछले हफ्ते हिमाचल के मंत्री और कांग्रेस नेता विक्रमादित्य ने कंगना रनौत को कैंडिडेट बनाने पर सवाल खड़े किए थे। उन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट पर लिखा था कि हिमाचल देवी देवताओं का पवित्र स्थल है देवभूमि है जहां गो मांस का सेवन करने वाले चुनाव लड़ रहे हैं यह हमारी संस्कृति के लिए चिंता का विषय है जिसका राजनीति से कोई सरोकार नहीं है। इसके लिए विक्रमादित्य ने कंगना रनौत के 5 साल पुराने पोस्ट का हवाला दिया जिसमें कंगना ने लिखा था कि बीफ और दूसरा कोई मीट खाने में कोई बुराई नहीं है।

मैंने फिल्मों से हीरो को खत्म कर दिया- कंगना

कंगना रनौत ने सोशल मीडिया के जरिए भी विक्रमादित्य को जवाब दिया था। 8 अप्रैल को किए अपने पोस्ट में कंगना लिखा कि वो बीफ या किसी भी तरह का रेड मीट नहीं खाती। यह बहुत शर्मनाक है कि मेरे बारे में बिना बात के अफवाह फैलाई जा रही हैं। कंगना ने विक्रमादित्य से गोमांस वाली बातों का सबूत भी मांगा। खुद को प्राउड हिंदू बताते हुए कंगना ने लिखा कि वो ऐसा नहीं कर सकती हैं। पोस्ट के आखिर में कंगना ने जय श्रीराम लिखा और भगवा ध्वज की इमोजी भी लगा दी थी।

गो मांस विवाद पर कंगना ने सिर्फ सोशल मीडिया पर ही जवाब नहीं दिया। जब वह मुंबई से लौटकर आई और मनाली में सभा की तो इस दौरान पहले पप्पू वाले बयान के जरिए विक्रमादित्य पर सॉलिड अटैक किया और ये भी कह दिया कि वो फिल्मों को भी हीरो लैस बना चुकी हैं।

कंगना की भाषा शैली पर बोले विक्रमादित्य

वहीं, कंगना ने विक्रमादित्य पर हमला किया तो उन्होंने भी फिल्मों की क्वीन को नसीहत दे डाली। उन्होंने कहा कि इस तरह की भाषा शैली का इस्तेमाल करने के बजाय मनाली, कुल्लू और मंडी की जनता से जुड़े मुद्दे उठाने चाहिए। और कुल्लू त्रासदी की याद दिलाते हुए पूछा कि उस वक्त वो कहां थी? विक्रमादित्य ने कहा, ''मनाली की जनसभा में कंगना ने जिस भाषा शैली का प्रयोग किया है वह हिमाचल की संस्कृति नहीं है। अब तक देवभूमि में ऐसी शब्दावली का प्रयोग नहीं हुआ है। इंटरनेट मीडिया में एक वीडियो शेयर कर विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि प्रदेश के इतिहास की सबसे बड़ी आपदा मनाली में आई थी। मनाली में अपना घर बताने वाली कंगना कांग्रेस को कोसने के बजाय उस पर बात करती तो बेहतर होता।''

कंगना के खिलाफ ताल ठोकेंगे विक्रमादित्य

आपको बता दें कि बीजेपी ने मंडी सीट से कंगना रनौत को अपना प्रत्याशी बनाया है तो वहीं, प्रतिभा सिंह के मैदान से हटने के बाद कांग्रेस पार्टी विक्रमादित्य सिंह को यहां से उम्मीदवार बना सकती हैं। बताया जा रहा है कि इसे लेकर कांग्रेस आलाकमान और विक्रमादित्य सिंह में बातचीत चल रही है क्योंकि विक्रमादित्य सिंह अभी हिमाचल सरकार में मंत्री हैं और वो शर्तों के साथ चुनाव लड़ना चाहते हैं। लेकिन इस बीच कंगना रनौत और विक्रमादित्य सिंह के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है।

यह भी पढ़ें-

आज BJP के 'भीष्म पितामह' से मिलेंगे PM मोदी, रोड शो से निकाला खास समय; जानें इनके बारे में

'चपरासी क्वार्टर से महलों के राजा कैसे बने, देना होगा हिसाब', मीसा भारती के बयान पर भड़के विजय सिन्हा

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement