1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. Mahindra ने छोड़ा Ford का हाथ, पूर्व में घोषित ऑटोमोटिव ज्‍वॉइंट वेंचर को खत्‍म करने का ऐलान

Mahindra ने छोड़ा Ford का हाथ, पूर्व में घोषित ऑटोमोटिव ज्‍वॉइंट वेंचर को खत्‍म करने का ऐलान

दोनों कंपनियों ने अक्टूबर, 2019 में ज्वॉइंट वेंचर बनाने की घोषणा की थी। फोर्ड मोटर कंपनी ने एक बयान में कहा कि दोनों कंपनियों के बीच हुए समझौते की अंतिम तारीख 31 दिसंबर, 2020 थी।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: January 01, 2021 12:26 IST
Mahindra, Ford to scrap previously announced automotive joint venture- India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

Mahindra, Ford to scrap previously announced automotive joint venture

नई दिल्‍ली। भार की प्रमुख ऑटो कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) और अमेरिका की दिग्‍गज ऑटो कंपनी फोर्ड मोटर कंपनी (Ford Motor Co) ने शुक्रवार को अपने पूर्व घोषि‍त ऑटोमोटिव ज्‍वॉइंट वेंचर को खत्‍म करने की घोषणा की है। फोर्ड मोटर ने कहा है कि वह भारत में अपना स्‍वतंत्र ऑपरेशन पूर्व की तरह चालू रखेगी। दोनों कंपनियों ने संयुक्‍त रूप से कहा है कि वह पूर्व घोषित अपनी-अपनी कंपनियों के बीच ऑटोमोटिव ज्‍वॉइंट वेंचर बनाने में आगे नहीं बढ़ पाएंगे।

दोनों कंपनियों ने अक्‍टूबर, 2019 में ज्‍वॉइंट वेंचर बनाने की घोषणा की थी। फोर्ड मोटर कंपनी ने एक बयान में कहा कि दोनों कंपनियों के बीच हुए समझौते की अंतिम तारीख 31 दिसंबर, 2020 थी। इस समय सीमा के गुजर जाने के बाद दोनों कंपनियों ने समझौते को रद्द करने का फैसला किया है।  

फोर्ड मोटर ने कहा कि यह कदम महामारी की वजह से पिछले 15 महीनों के दौरान वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था और कारोबारी परिस्थितियों में कई फंडामेंटल परिवर्तन आए हैं। इन बदलावों ने फोर्ड और महिंद्रा दोनों को अपनी-अपनी पूंजी व्‍यय योजनाओं पर फ‍िर से विचार करने को मजबूर किया है।

दोनों कंपनियों ने फैसला किया है कि वे अपनी संबंधित कंपनियों के बीच पहले से घोषित ऑटोमोटिव संयुक्त उद्यम पर अमलीजामा नहीं पहनाएंगे। फोर्ड मोटर कंपनी ने एक बयान में कहा कि दोनों कंपनियों ने अक्टूबर 2019 में इस संबंध में एक निश्चित समझौता किया था, जिसकी अवधि 31 दिसंबर 2020 को खत्म हो गई। कंपनी ने कहा कि पिछले 15 महीनों के दौरान महामारी के चलते वैश्विक आर्थिक और व्यावसायिक स्थितियों में बुनियादी बदलावों के चलते यह फैसला किया गया। ऐसे में फोर्ड और महिंद्रा ने अपनी पूंजी आवंटन की प्राथमिकताओं को फिर से निर्धारित किया। फोर्ड ने आगे कहा कि भारत में स्वतंत्र परिचालन यथावत जारी रहेगा।

एमएडंएम ने शेयर बाजार को बताया कि इस फैसले का कंपनी की उत्पादन योजनाओं पर कोई असर नहीं होगा, और वह एसयूवी खंड में विस्तार योजनाओं पर आगे बढ़ती रहेगी। कंपनी ने बताया कि वह इलेक्ट्रिक एसयूवी में अग्रणी स्थान पाने के लिए प्रयास तेज करेगी।

Write a comment