1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अधिक कीमत और आर्थिक सुस्‍ती से भारत में घटी सोने की मांग, जुलाई-सितंबर में बिका केवल 123.9 टन सोना

अधिक कीमत और आर्थिक सुस्‍ती से भारत में घटी सोने की मांग, जुलाई-सितंबर में बिका केवल 123.9 टन सोना

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 के पहले नौ महीने में देश की सोने की कुल मांग गिरकर 496.11 टन रह गई। एक साल पहले जनवरी-सितंबर में यह आंकड़ा 523.9 टन था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: November 05, 2019 13:18 IST
India's gold demand falls 32 pc in Q3 on high prices, economic slowdown- India TV Paisa
Photo:INDIA'S GOLD DEMAND FALLS

India's gold demand falls 32 pc in Q3 on high prices, economic slowdown

नई दिल्‍ली। आर्थिक नरमी और स्थानीय स्तर पर ऊंची कीमतों की वजह से भारत में सोने की मांग पिछले साल के मुकाबले इस साल सितंबर तिमाही में 32 प्रतिशत घटकर 123.9 टन रह गई। वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि सोने का आयात भी 2019 की तीसरी तिमाही में 66 प्रतिशत गिरकर 80.5 टन रह गया।

चीन के बाद भारत सोने का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता देश है। वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल ने मंगलवार को कहा कि आभूषण कारोबारी पहले से आयात किए स्टॉक और पुनर्चक्रण (रीसाइक्लिंग) से अपनी मांग को पूरा कर रहे हैं। इससे आयात में गिरावट आई है। स्थानीय बाजार में, सितंबर में सोने का भाव 39,011 रुपए प्रति 10 ग्राम था, जो अब 38,800 रुपए के आसपास है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 के पहले नौ महीने में देश की सोने की कुल मांग गिरकर 496.11 टन रह गई। एक साल पहले जनवरी-सितंबर में यह आंकड़ा 523.9 टन था। 2018 में सोने की कुल मांग 760.4 टन थी। इसी प्रकार, जनवरी-सितंबर 2019 में सोने का कुल आयात भी घटकर 502.9 टन रहा। पिछले वर्ष की इसी अवधि में 587.3 टन सोने का आयात किया गया था।

2018 में भारत ने 755.7 टन सोने का आयात किया था। वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल भारत के प्रबंध निदेशक सोमसुंदरम पीआर ने कहा कि भारत में सोने की मांग दो वजहों से गिरी है। पहला कारण है सोने की ऊंची कीमतें। दूसरी तिमाही के आखिर से तीसरी तिमाही के अंत में सोने की कीमतों में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है। भारत और चीन समेत विभिन्न देशों में आई आर्थिक नरमी मांग घटने की दूसरी वजह है। इससे उपभोक्ताओं की धारणा प्रभावित हुई है।

उन्होंने कहा कि 2019 की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 32.3 प्रतिशत गिरकर 123.9 टन रह गई। इसमें आभूषणों की कुल मांग का 101.6 टन और 22.3 टन सिक्का/बिस्कुट मांग शामिल है। 2018 की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 183.2 टन थी। सोमसुंदरम ने बताया कि ऊंची कीमतों और ग्रामीण मांग के कमजोर रहने से सोने का आयात कम हुआ है।

उन्होंने कहा कि जब मांग कम है तो लोग सोने का पुनर्चक्रण कर रहे हैं। देश में पुन: प्रसंस्करण किए जाने वाले सोने की कुल मात्रा पहले नौ महीनों में बढ़कर 90.5 टन हो गई, जबकि 2018 के पूरे साल में यह 87 टन था। उन्होंने कहा कि इस परिदृश्य को देखते हुए डब्ल्यूजीसी ने भारत के कुल सोने की मांग के अनुमान को घटाया है। यह 2019 में 700-750 टन के दायरे में रह सकती है। पहले इसके 750-800 टन के दायरे में रहने का अनुमान लगाया गया था। वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक, सोने की वैश्विक मांग 2019 की तीसरी तिमाही में बढ़कर 1,107.9 टन पर पहुंच गई है। एक साल पहले की इसी अवधि में मांग 1,079 टन थी।

Write a comment