1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. मुकेश अंबानी का नया आइडिया, अगले छह माह के भीतर WhatsApp के साथ जुड़ जाएगा JioMart

मुकेश अंबानी का नया आइडिया, अगले छह माह के भीतर WhatsApp के साथ जुड़ जाएगा JioMart

रिलायंस रिटेल के व्हाट्सएप के साथ एक समझौता करने के एक माह बाद ही मई, 2020 में जियोमार्ट को लॉन्च किया गया था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: January 18, 2021 11:39 IST
Reliance's mukesh ambani aims to embed JioMart in WhatsApp- India TV Paisa

Reliance's mukesh ambani aims to embed JioMart in WhatsApp

नई दिल्‍ली। अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की रिलायंस रिटेल लिमिटेड (Reliance Retail Ltd) ने अगले छह महीनों के भीतर अपनी ई-कॉमर्स एप जियोमार्ट (JioMart) को व्‍हाट्सएप (WhatsApp) के साथ जोड़ने की योजना बनाई है। इस एकीकरण के साथ 40 करोड़ भारतीय व्‍हाट्सएप यूजर्स को व्‍हाट्सएप के जरिये खरीदारी करने की सुविधा मिलेगी। इस एकीकरण से जियोमार्ट को पूरे भारत में अपनी पहुंच उपलब्‍ध कराने में मदद मिलेगी और इस तरह रिलायंस रिटेल फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों को भारत के तेजी से विकसित होते ऑनलाइन रिटेल बाजार में कड़ी प्रतिस्‍पर्धा के लिए तैयार होगी।  

अंबानी भारतीय रिटेल मार्केट में एक बड़ी हिस्‍सेदारी हासिल करना चाहते हैं। 2025 तक भारत का ऑनलाइन रिटेल बाजार 1.3 लाख करोड़ डॉलर का होने की उम्‍मीद है। रिलायंस पहले ही भारत की सबसे बड़ी ऑफलाइन रिटेलर है।

रिलायंस रिटेल के व्‍हाट्सएप के साथ एक समझौता करने के एक माह बाद ही मई, 2020 में जियोमार्ट को लॉन्‍च किया गया था। इस समझौते का उद्देश्‍य ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट की रीच को बढ़ाना है। अप्रैल में फेसबुक इंक ने रिलायंस इंडस्‍ट्रीज की डिजिटल इकाई जियो प्‍लेटफॉर्म में 9.9 प्रतिशत हिस्‍सेदारी 5.7 अरब डॉलर में खरीदी है।

व्‍हाट्सएप के प्रवक्‍ता ने कहा कि जियो में निवेश के जरिये हम करोड़ों छोटे उद्यमों और ग्राहकों को डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था का हिस्‍सा बनाना चाहते हैं। यह उद्यमों को उनके ग्राहकों तक पहुंचने को आसान बनाने और अपनी बिक्री बढ़ाने में मदद करेगा।

रिलायंस रिटेल ने अपने प्‍लेटफॉर्म पर लोकल किराना स्‍टोर को भी जोड़ा है। ऐसे में जब एक ग्राहक जियोमार्ट एप पर कोई ऑर्डर करता है तो एप यूजर को उसके नजदीकी किराना स्‍टोर से कनेक्‍ट कर देता है। इसके बाद प्रोडक्‍ट की डिलीवरी या तो किराना स्‍टोर खुद करते हैा या आरआईएल की लॉजिस्टिक इकाई ग्रैब। आरआईएल ने 2019 में ग्रैब का अधिग्रहण 1.4 करोड़ डॉलर में किया था। किराना स्‍टोर को इस बिक्री पर कमीशन दिया जाता है।

रिलायंस इन किराना स्‍टोर को सामान खरीदने में मदद करने के अलावा प्‍वॉइंट ऑफ सेल मशीन, फाइनेंसिंग सुविध, इनवेंट्री मैनेजमेंट और टैक्‍स रिटर्न फाइलिंग सर्विस भी उपलब्‍ध कराती है। व्‍हाट्सएप बिजनेस एप के पास अपना इनवेंट्री मैनेजमेंट फीचर भी है, जो उद्यमों को अपने प्रोडक्‍ट्स और सर्विस को कैटालॉग बनाकर दिखा सकते हैं। यह कैटालॉग बिजनेस प्रोफाइल में डिस्‍प्‍ले होता है। व्‍हाट्सएप ने हाल ही में शॉपिंग बटन को लाइव किया है, जो उपभोक्‍ताओं को सीधे अपने चैट स्‍क्रीन से शॉपिंग के लिए उद्यमों के कैटालॉग तक ले जाता है। व्‍हासएप ने हाल ही में पेमेंट सर्विस भी शुरू की है, जो अभी 2 करोड़ से अधिक यूजर्स के लिए उपलब्‍ध है। इसके लिए व्‍हाट्सएप ने स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के साथ गठजोड़ किया है।

यह भी पढ़ें: महंगे पेट्रोल-डीजल से जनता की जेब हुई खाली लेकिन सरकार की भरी झोली, एक्‍साइज ड्यूटी में हो चुकी इतनी वृद्धि

यह भी पढ़ें: 7,000mAh बैटरी के साथ जल्‍द लॉन्‍च होगा यह फोन, जानिए क्‍या होंगी इसमें अन्‍य खूबियां

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार के वार्षिक बजट से ज्‍यादा है देश की इन 3 कंपनियों की कुल संपत्ति...

यह भी पढ़ें:  मोदी सरकार ने बनाया नया रिकॉर्ड, एक सप्‍ताह में किया ये काम

Write a comment
bigg boss 15