1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अब China से ख़त्म होगी भारत की निर्भरता, Semiconductor बनाने के लिए 1 बिलियन डॉलर का निवेश

अब China से ख़त्म होगी भारत की निर्भरता, Semiconductor बनाने के लिए 1 बिलियन डॉलर का निवेश

Semiconductor Manufacturing: भारत के तमिलनाडु में सेमीकंडक्टर की मेन्यूफेक्चरिंग होगी। कंपनी पॉलीमैटेक (Polymatic) राज्य में अपने चिपसेट मेन्यूफेक्चरिंग और पैकेजिंग सुविधा का विस्तार करने जा रही है।

Vikash Tiwary Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: August 04, 2022 14:10 IST
अब भारत में बनेंगे...- India TV Hindi News
Photo:PTI अब भारत में बनेंगे सेमीकंडक्टर चिप

Highlights

  • पहले वर्ष 250 मिलियन चिप्स बनाने का टार्गेट
  • सरकार देगी 25% की सब्सिडी
  • सरकार ने 2.3 लाख करोड़ रुपये की दी प्रोत्साहन राशि

Semiconductor Manufacturing: भारत के तमिलनाडु स्थित सेमीकंडक्टर मेन्यूफेक्चरिंग (Semiconductor Manufacturing) कंपनी पॉलीमैटेक (Polymatic) राज्य में अपने चिपसेट मेन्यूफेक्चरिंग और पैकेजिंग सुविधा का विस्तार करने जा रही है। इसके लिए $1 बिलियन(7,952 करोड़) का निवेश करेगी। इससे भारत की दूसरे देशों पर निर्भरता कम होगी और रोजगार के भी अवसर खुलेंगे।

कंपनी ने अपने पहले वर्ष के उत्पादन क्षमता का निर्धारण कर लिया है। पॉलीमैटेक के संस्थापक अध्यक्ष नंदम ईश्वर राव ने कहा कि पहले वर्ष 250 मिलियन चिप्स बनाने का टार्गेट रखा गया है। कंपनी ने जल्द ही इसके उत्पादन शुरू करने को कहा है। 

सरकार देगी 25% की सब्सिडी

उन्होनें आगे सरकार के तरफ से दी जाने वाली 25% सब्सिडी के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि कंपनी ने उसके लिए आवेदन किए हैं। साथ ही तमिलनाडु सरकार के साथ एक समझौता भी साइन किया गया है। जो आगे उत्पादन में काफी मददगार साबित होगा। राज्य में कंपनी का विस्तार करने के लिए 13 करोड़ डॉलर का निवेश किया गया है। 

दुनिया भर की चिप निर्माता कंपनियां चिप मेन्यूफेक्चरिंग, असेंबली और पैकेजिंग सुविधाओं के निर्माण के लिए केंद्र सरकार के साथ बातचीत कर रही है। एक मिंट में छपी खबर के मुताबिक, नाम न छापने की शर्त पर एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि ताइवान सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी (TSMC) सहित कई कंपनियां वॉल्यूम के हिसाब से दुनिया की सबसे बड़ी चिपमेकर सेमीकंडक्टर मेन्यूफेक्चरिंग सुविधाएं स्थापित करने के लिए विभिन्न राज्य सरकारों के साथ बातचीत कर रही है।

सरकार ने 2.3 लाख करोड़ रुपये की दी प्रोत्साहन राशि

20 जुलाई को केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (आईटी) राजीव चंद्रशेखर ने संसद को बताया कि इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (Meity) को सेमीकंडक्टर पीएलआई योजना के लिए 23 आवेदन प्राप्त हुए थे। पिछले साल दिसंबर में घोषित किए गए इस योजना ने सेमीकंडक्टर मेन्यूफेक्चरिंग, पैकेजिंग और डिजाइन में लगी फर्मों को आकर्षित करने के लिए 2.3 लाख करोड़ रुपये तक के प्रोत्साहन राशि की पेशकश भी की थी।

नंदम ईश्वर राव ने कहा, "कंपनी सेमीकंडक्टर चिप मेन्यूफेक्चरिंग में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम कर रही है।" उन्होनें आगे कहा कि उसके लिए हम सिल्वर पेस्ट (चिप मेन्यूफेक्चरिंग में इस्तेमाल की जाने वाले प्रोडक्ट) और उच्च तापमान वाले Co-fired किए गए सिरेमिक सब्सट्रेट (Ceramic Sybstrates) का आयात कर रहे हैं। हम जल्द उसे भी अपनी कंपनी में उत्पादित करेंगे। 

Latest Business News

Write a comment