Thursday, February 22, 2024
Advertisement

Telangana Election Result 2023: कौन हैं रेवंत रेड्डी? जिनकी मेहनत ने कांग्रेस को दिलाई तेलंगाना में जीत

आज तेलंगाना, मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023 के रिजल्ट हो गए हैं। ऐसे में आइए जानते हैं उस कांग्रेस अध्यक्ष के बारे में, जिसकी मेहनत ने कांग्रेस को तेलंगाना में जीत दर्ज कराई है।

Shailendra Tiwari Written By: Shailendra Tiwari @@Shailendra_jour
Updated on: December 03, 2023 18:11 IST
Revanth Reddy- India TV Hindi
Image Source : PTI कांग्रेस अध्यक्ष रेवंत रेड्डी

आज तेलंगाना समेत, मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के रिजल्ट जारी किए गए। जिनमें से एक तेलंगाना में कांग्रेस तेजी से बहुमत के आकंड़ो की तरफ बढ़ रही है और पार्टी जल्द ही बहुमत के आकंडों को छू लेगी। इस बीच बात हो रही एक ऐसे नेता की जिसकी मेहनत से कांग्रेस ने तेलंगाना राज्य में शानदार जीत हासिल की है। इनका नाम है रेवंत रेड्डी, रेवंत रेड्डी वर्तमान में तेलंगाना कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। रेवंत रेड्डी ने साल 2021 में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला था। तब तक वह चार साल से अधिक समय से कांग्रेस में थे। उस समय चंद्रशेखर राव (केसीआर) के तत्कालीन तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को विस्थापित करने में सक्षम नहीं थी।

2021 से ही हो रही थी तैयारी

2021 आते-आते, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने भी उपचुनाव जीतकर और राज्य में चार विधायक हासिल करके तेलंगाना में अपनी पैठ बनाना शुरू कर दिया था। उनके तत्कालीन पार्टी प्रमुख बंदी संजय ने भगवा को तेलंगाना के भीतरी इलाकों में गहराई तक पहुंचा दिया और भाजपा जल्द ही राज्य में एक ताकत बन गई। कांग्रेस के प्रवक्ता श्रीकांत भंडारू ने कहा, "इसी समय कांग्रेस में हम सभी ने बैठक की और फैसला किया कि हमें अपना प्रदर्शन बेहतर करना होगा। इसके बाद रेवंत रेड्डी ने कमान अपने हाथ में ले लिया और एक नेता की भूमिका में आ गए।" रेड्डी को कांग्रेस के भीतर बंटे गुटों को एकजुट करने और उन वरिष्ठ कांग्रेसियों के बीच विद्रोह को दबाने के लिए जाना जाता है, जो भाजपा में जाने लगे थे।

2022 से शुरू कर दिया था निर्वाचन क्षेत्रों का दौरा

साल 2022 तक, रेड्डी ने सभी निर्वाचन क्षेत्रों का दौरा करना शुरू कर दिया था और उनके अभियान के परिणाम भी दिखने शुरू हो गए थे। बंदी संजय को पद से हटाने और उनकी जगह किशन रेड्डी को लाने की भाजपा की गलती ने चुनावी मौसम शुरू होने से पहले ही कांग्रेस को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया।

गांधी परिवार ने बढ़ाया रेड्डी का आत्मविश्वास

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, "एक बार चुनावों की घोषणा हो जाने के बाद, उन्होंने केसीआर से सीधा मुकाबला करना शुरू कर दिया और परिवार पर हमला करना शुरू कर दिया। यह कुछ ऐसा था जिसे पहले किसी भी कांग्रेस नेता ने करने की हिम्मत नहीं की थी। रेड्डी का आत्मविश्वास गांधी परिवार द्वारा उनके पीछे अपना ज़ोर लगाने से भी उपजा था। “राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने देखा कि रेड्डी को तेलंगाना कैडर का समर्थन मिल रहा था। कोडंगल से होने के कारण, वह स्थानीय लोगों की तरह ही बोलते हैं।"

जाति फैक्टर ने भी किया काम

रेड्डी की वक्तृत्व क्षमता और उपलब्धता ने स्थानीय लोगों के बीच भी गहरी छाप छोड़ी है, जिनके लिए केसीआर को बड़े पैमाने पर एक फार्म-हाउस सीएम के रूप में देखा जाता था। कांग्रेस में कई लोग मानते हैं कि जाति फैक्टर ने भी रेड्डी के पक्ष में काम किया। अगर रेड्डी को मुख्यमंत्री नामित किया जाता है, तो वह उन रेड्डीओं की लिस्ट में शामिल हो जाएंगे जिन्होंने कांग्रेस पार्टी के लिए तेलुगु राज्य (पूर्व में संयुक्त आंध्र प्रदेश) जीता है। जानकारी दे दें कि 1950 के दशक में नीलम संजीव रेड्डी से लेकर 70 के दशक में मैरी चन्ना रेड्डी से लेकर 90 के दशक में के विजया भास्कर रेड्डी, 2000 के दशक में वाईएस राजशेखर रेड्डी और किरण कुमार रेड्डी तक, रेवंत का नाम हैदराबाद गांधी भवन के प्रवेश द्वार पर बोर्ड पर अंकित किया जा सकता है।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें तेलंगाना सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement