Saturday, June 22, 2024
Advertisement

22 जून को अमेरिकी Parliament के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, बनेगा ये अनोखा रिकॉर्ड

2016 में भी पीएम मोदी ने अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया था और अमेरिका एवं भारत के बीच संबंधों को काफी प्रगाढ़ किया। अमेरिका ने कहा है कि ‘‘एक बार फिर, अमेरिका और भारत के बीच चिरस्थायी मित्रता को आगे बढ़ाने के लिए कांग्रेस (अमेरिकी संसद) की संयुक्त बैठक में हमारे साथ आपके शामिल होने से हमें गर्व होगा।

Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Updated on: June 02, 2023 22:57 IST
नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री, भारत- India TV Hindi
Image Source : FILE नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री, भारत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अमेरिका की आधिकारिक यात्रा के दौरान 22 जून को अमेरिकी संसद के एक संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे और भारत के भविष्य के बारे में अपनी दृष्टि साझा करेंगे। इस दौरान वह अमेरिकी पार्लियामेंट को दो बार संबोधित करने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री और दुनिया के तीसरे ऐसे नेता हो जाएंगे। पीएम मोदी से पहले  ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला, विश्व के उन कुछ नेताओं में शामिल हैं, जिन्हें दो बार अमेरिकी संसद को संबोधित करने का सम्मान प्राप्त हुआ है। 

पीएम मोदी अमेरिकी संसद में दोनों देशों द्वारा सामना की जा रही वैश्विक चुनौतियों पर बोलेंगे। प्रतिनिधि सभा और सीनेट के शीर्ष नेताओं ने शुक्रवार को यह घोषणा की। राष्ट्रपति जो बाइडेन, प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका की राजकीय यात्रा पर उनकी मेजबानी करेंगे, जिसमें 22 जून को एक राजकीय रात्रिभोज भी शामिल है। अमेरिकी संसद के शीर्ष नेताओं ने एक बयान में कहा, ‘‘अमेरिकी प्रतिनिधि सभा और सीनेट के नेतृत्व की ओर से आपको (प्रधानमंत्री मोदी को) 22 जून को कांग्रेस(संसद) की एक संयुक्त बैठक को संबोधित करने के लिए आमंत्रित करना हमारे लिए सम्मान की बात है।

मैक्कार्थी समेत अन्य नेताओं ने किए प्रस्ताव पर हस्तक्षार

अमेरिकी सांसद पीएम मोदी का अमेरिका दौरा कन्फर्म होने के बाद से ही उनके संबोधन की मांग क रहे थे। अब इस मांग पर अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष मैक्कार्थी, सीनेट में बहुमत के नेता चक स्कमर, सीनेट के रिपब्लिकन नेता मिच मैककॉनवेल और प्रतिनिधि सभा के डेमोक्रेटिक नेता हकीम जेफरीज ने हस्ताक्षर किये हैं। यह दूसरा मौका होगा, जब मोदी अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे। उन्होंने जून 2016 में अमेरिका की अपनी यात्रा के दौरान अमेरिकी कांग्रेस को संबोधित किया था। बयान में कहा गया है, ‘‘हमारे साझा मूल्यों और वैश्विक शांति एवं समृद्धि के प्रति दोनों देशों के बीच प्रतिबद्धता का बढ़ना जारी है। आपके संबोधन के दौरान, आपको भारत के भविष्य के बारे में अपनी दृष्टि साझा करने और दोनों देशों द्वारा सामना की जा रही वैश्विक चुनौतियों पर बोलने का अवसर मिलेगा।

देश के इन प्रधानमंत्रियों ने भी किया है अमेरिकी संसद को संबोधित

पीएम मोदी ने 2016 में (अमेरिकी संसद में) अपने संबोधन के दौरान जलवायु परिवर्तन से लेकर आतंकवाद तक, और भारत एवं अमेरिका के बीच रक्षा व सुरक्षा सहयोग से लेकर व्यापार और आर्थिक साझेदारी तक पर बोला था। मोदी सात साल पहले, अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने वाले देश के पांचवें भारतीय प्रधानमंत्री थे। उनसे पहले, तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 19 जुलाई 2005 को, अटल बिहारी वाजपेयी (14 सितंबर 2000), पी वी नरसिम्हा राव (18 मई 1994) और राजीव गांधी ने 13 जुलाई 1985 को संयुक्त सत्र को संबोधित किया था। बयान में कहा गया है।  हम दोनों देशों और विश्व के लिए एक उज्ज्वल भविष्य का निर्माण करने के लिए साथ मिल कर काम करने को उत्सुक हैं।’’

यह भी पढ़ें

LIVE : ओडिशा में बड़ा ट्रेन हादसा, पटरी से उतरी कोरोमंडल एक्सप्रेस, 50 यात्रियों की मौत, 350 घायल

राहुल गांधी ने जताई भारत के लोकतंत्र में बिखराव की आशंका, कहा-ऐसा हुआ तो होगा पूरी दुनिया पर असर

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। US News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement