Friday, December 01, 2023

कर्नाटक: क्या 2024 लोकसभा चुनाव में बीजेपी-जेडीएस गठबंधन कांग्रेस को हरा पाएगा? चुनावी गुणा-भाग पर एक नजर

जनता दल (सेक्यूलर) के नेता कुमारस्वामी ने आज अमित शाह से मुलाकात की ओर एनडीए में शामिल होने का ऐलान कर दिया। मई में कर्नाटक में संपन्न विधानसभा चुनावों में जेडीएस तीसरे नंबर पर रही थी।

Varun Sharma Written By: Varun Sharma
Updated on: September 23, 2023 21:21 IST
पीएम मोदी के साथ कुमारस्वामी- India TV Hindi
Image Source : पीटीआई/फाइल पीएम मोदी के साथ कुमारस्वामी

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा और उनके बेटे एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली जनता दल-सेक्युलर (जेडीएस) शुक्रवार को एनडीए में शामिल हो गई। एनडीए में शामिल होने से पहले कुमारस्वामी ने गृह मंत्री अमित शाह के साथ मीटिंग की। इस मीटिंग के बाद कुमारस्वामी ने एनडीए में शामिल होने का फैसला लिया। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लिखा- 'इससे एनडीए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के "नए भारत, मजबूत भारत" के दृष्टिकोण को और मजबूती मिलेगी'। कर्नाटक में दोनों पार्टियां मिलकर लोकसभा चुनाव 2024 लड़ेंगी। कर्नाटक में  मई में संपन्न विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी की भारी जीत के बाद से ही गठबंधन को लेकर अफवाहें चल रही थीं।

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और दक्षिण में भाजपा के सबसे बड़े नेता बीएस येदियुरप्पा ने इससे पहले सार्वजनिक तौर पर कहा था कि अमित शाह कर्नाटक में जेडीएस को चार सीटें देने पर सहमत हैं, इसके बाद गठबंधन की बातचीत में तेजी आई।  बाद में, देवेगौड़ा ने यह भी पुष्टि की कि उनकी पार्टी 2024 में कर्नाटक में भाजपा के साथ मिलकर आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेगी।

2023 कर्नाटक विधानसभा चुनाव में क्या हुआ?

2023 के कर्नाटक विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस पार्टी ने 224 सदस्यीय विधानसभा में 42.88 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 135 सीटें जीतीं, जबकि भाजपा सिर्फ 66 सीटों पर सिमट गई। वहीं जेडीएस महज 19 सीटों पर सिमट गई। चुनाव में बीजेपी 36 फीसदी वोट पाने में कामयाब रही जबकि जेडीएस को सिर्फ 13.30 फीसदी वोट मिले। कर्नाटक में कांग्रेस की जीत 1989 के विधानसभा चुनावों के बाद सबसे बड़ी जीत थी जब उसने 178 सीटें जीती थीं और वीरेंद्र पाटिल ने मुख्यमंत्री का पद संभाला था।

2019 लोकसभा चुनाव में क्या हुआ?

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने कर्नाटक में 51.75 फीसदी वोट हासिल करने के साथ 25 सीटें जीतीं थी। गठबंधन में रहने के बाद कांग्रेस और जेडीएस क्रमशः 32.11 प्रतिशत और 9.74 प्रतिशत वोट शेयर के साथ एक-एक सीट जीतने में सफल रहे। 

अमित शाह के साथ कुमारस्वामी

Image Source : PTI
अमित शाह के साथ कुमारस्वामी

कर्नाटक में बीजेपी-जेडीएस गठबंधन का गणित क्या है?

सूबे की सभी 224 विधानसभा क्षेत्रों के गहन विश्लेषण से पता चलता है कि कांग्रेस पार्टी 18 लोकसभा सीटों पर आगे थी, जबकि भाजपा सिर्फ 8 सीटों पर आगे थी। बाकी 2 सीटों (हसन और तुमकुर) पर जेडीएस आगे थी। कांग्रेस पार्टी चिक्कोडी, बागलकोट, बीजापुर, गुलबर्गा, रायचूर, बीदर, कोप्पल, बेल्लारी, हावेरी, दावणगेरे, चित्रदुर्ग, मांड्या, मैसूर, चामराजनगर, बेंगलुरु ग्रामीण, बेंगलुरु सेंट्रल, चिकबल्लापुर और कोलार में आगे थी। भाजपा बेलगाम, धारवाड़, उत्तर कन्नड़, शिमोगा, उडुपी चिकमंगलूर, दक्षिण कन्नड़, बेंगलुरु उत्तर और बेंगलुरु दक्षिण में आगे चल रही थी। इसलिए, अगर ये विधानसभा चुनाव के नतीजे लोकसभा सीटों में तब्दील होते हैं तो कांग्रेस पार्टी को कर्नाटक में 17 सीटों का भारी फायदा मिलने की संभावना है। 

हालाँकि, अगर बीजेपी और जेडीएस एक साथ चुनाव लड़ते तो वे इसे आसानी से जीत सकते थे। विश्लेषण से पता चलता है कि बीजेपी-जेडीएस गठबंधन 18 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस पार्टी से आगे है।  8 सीटों का सीधा लाभ है। गठबंधन, अपनी 10 सीटों (बीजेपी के लिए 8 और जेडीएस के लिए 2) के अलावा, कांग्रेस पार्टी से बीजापुर, रायचूर, मांड्या, मैसूर, बीदर, कोलार, बेंगलुरु ग्रामीण और चिकबल्लापुर जीत सकता था। बीजेपी-जेडीएस गठबंधन कांग्रेस को बागलकोट, गुलबर्गा और बेंगलुरु सेंट्रल में भी कड़ी टक्कर देने के लिए तैयार था। ऐसा लगता है कि इस गणना और अनुमान ने आगामी 2024 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी को राज्य में जीत हासिल करने से रोकने के लिए दोनों पार्टियों को गठबंधन बनाने के लिए मजबूर कर दिया है।

जहां तक ​​विधानसभा चुनावों का सवाल है, बीजेपी-जेडीएस गठबंधन कांग्रेस पार्टी की 90 सीटों के मुकाबले 130 सीटें जीत सकता था। अगर 2023 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी और जेडीएस के बीच गठबंधन होता तो कांग्रेस को 45 सीटों का नुकसान हो सकता था। बीजेपी-जेडीएस गठबंधन बैलहोंगल, मांड्या, मदिकेरी, मालूर, कोलार, मद्दुर, सौंदत्ती येल्लामा, बादामी, नागथन, इंडी, जेवारगी, बसावना बागेवाड़ी, गुलबर्गा उत्तर, शाहपुर, यादगीर, मानवी, बीदर, सिंधनूर, कोप्पल, हलियाल, कारवार जीत सकता था। सिरसी, जगलूर, भद्रावती, श्रृंगेरी, मुदिगेरे, कदुर, चल्लाकेरे, हिरियूर, सिरा, तिप्तूर, कोराटागेरे, गुब्बी, श्रीरंगपट्टना, नागमंगला, चामराजा, हेग्गादेवनकोटे, टी. नरसीपुर, कुनिगल, मगदी, रामानगरम, गांधी नगर, चिक्कबल्लापुर, देवनहल्ली और बंगारपेट सीटें जीत सकता था।

2006 का बीजेपी-जेडीएस गठबंधन

भाजपा और जेडीएस ने इससे पहले 2006 में गठबंधन बनाया था जब भगवा पार्टी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को तोड़ने में कामयाब रही थी। एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली जेडीएस ने धरम सिंह के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया और भाजपा से हाथ मिला लिया। समझौते के मुताबिक, कुमारस्वामी 20 महीने के लिए मुख्यमंत्री बने और येदियुरप्पा उनके उपमुख्यमंत्री बने। 20-20 महीने के सत्ता-साझा करने के फॉर्मूले के तहत, येदियुरप्पा को कुमारस्वामी की जगह लेनी थी।  येदियुरप्पा नवंबर 2007 में दक्षिण में पहले भाजपा मुख्यमंत्री बने, लेकिन उनकी सरकार केवल 7 दिनों के बाद गिर गई क्योंकि जेडीएस ने भाजपा को समर्थन देने से इनकार कर दिया।

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें Explainers सेक्‍शन