Tuesday, May 21, 2024
Advertisement

एक देश-एक चुनाव के खिलाफ ममता बनर्जी, बोलीं - यह संविधान के खिलाफ

ममता बनर्जी ने एक देश-एक चुनाव का विओर्ध करते हुए कहा कि इससे देश के संविधान को नुकसान होगा और केंद्र सरकार इससे संघीय ढांचे को नुकसान पहुंचाना चाहती है।

Edited By: Sudhanshu Gaur @SudhanshuGaur24
Published on: January 11, 2024 19:54 IST
west bengal, Mamata Banerjee- India TV Hindi
Image Source : PTI/FILE ममता बनर्जी

नई दिल्ली: पिछले कुछ समय से देश में एक साथ चुनाव कराए जाने की बात चल रही है। केंद्र सरकार ने इस पर विचार करने के लिए एक समिति भी बनाई हुई है। इसकी अध्यक्षता पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कर रहे हैं। इस कमिटी की बैठक भी हो चुकी है। अब एक देश-एक चुनाव को लेकर ममता बनर्जी का बयान भी सामने आया है। ममता ने इस परिकल्पना को संविधान के ही खिलाफ बता दिया है।

 पत्र लिखकर प्रस्तावित प्रणाली पर जताई आपत्ति

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' पर उच्च स्तरीय समिति के सचिव नितेन चंद्रा को पत्र लिखकर प्रस्तावित प्रणाली पर अपनी आपत्तियां जताई हैं। तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में लिखे पत्र में उन्होंने तर्क दिया कि संविधान एक संघीय तरीके से भारतीय राष्ट्र की कल्पना करता है, जिसके परिणामस्वरूप एक केंद्र सरकार और कई राज्य सरकारों के समानांतर अस्तित्व की व्यवस्था होती है। 

उन्होंने लिखा, "यदि भारतीय संविधान के निर्माताओं ने 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' की अवधारणा का उल्लेख नहीं किया है, तो आप 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' की अवधारणा पर कैसे पहुंचे? जब तक इस मूल पहेली को हल नहीं किया जाता, तब तक इस आकर्षक वाक्यांश पर किसी भी दृढ़ विचार तक पहुंचना मुश्किल है।" पत्र में, तृणमूल प्रमुख ने उस स्थिति का मुद्दा भी उठाया जहां लोकसभा असामयिक रूप से भंग हो जाती है, जबकि राज्य विधानसभाएं अप्रभावित रहती हैं।

इससे राज्य विधानसभाएं होंगी प्रभावित 

उन्होंने पूछा, "केंद्र में सरकार की अस्थिरता और संसद पर परिणामी प्रभाव से राज्य विधानसभाओं को अस्थिर नहीं किया जाना चाहिए। आपकी सम्मानित समिति इन सवालों को कैसे हल करने का प्रस्ताव करती है?" उनके अनुसार, ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार एक ऐसा ढांचा थोपने का प्रयास कर रही है जो भारतीय संविधान में निर्धारित वास्तविक लोकतांत्रिक और संघीय ढांचे की भावना के खिलाफ है।

उन्होंने लिखा, "हम समिति की सबसे गैर-प्रतिनिधित्व संरचना पर आपत्ति जताते हैं और बताते हैं कि व्यावहारिक आपत्तियां प्राप्त होने के डर से किसी भी मुख्यमंत्री को इसमें शामिल नहीं किया गया है।" बनर्जी ने यह भी कहा कि उन्हें संदेह है कि क्या उच्च स्तरीय समिति मामले के दोषों का विश्लेषण करने में गंभीरता से रुचि रखती भी है। उन्होंने कहा, "मुझे यह भी संदेह है कि यह इस बात पर विचार करने में विफल है कि संसदीय चुनाव और राज्य विधानसभा चुनाव प्रकृति में काफी भिन्न हैं।"

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement