1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Garuda Purana: जिंदगी में बिल्कुल भी न करें ये 4 काम, हो सकता है जानलेवा

Garuda Purana: जिंदगी में बिल्कुल भी न करें ये 4 काम, हो सकता है जानलेवा

गरुड़ पुराण की आचारकांड की नीतियों में ऐसे कामों के बारे में बताया गया है जिससे आपकी उम्र कम हो सकती है और आप कई जानलेवा बीमारी के शिकार हो सकते हैं।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Published on: March 18, 2021 7:17 IST
Garuda Purana: जिंदगी में बिल्कुल भी न करें ये 4 काम, हो सकता है जानलेवा- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Garuda Purana: जिंदगी में बिल्कुल भी न करें ये 4 काम, हो सकता है जानलेवा

गरुड़ पुराण में जीवन से जुड़े कुछ ऐसे रहस्यों के बारे में विस्तार से बताया गया है जिनका पालन करके आप जीवन की हर बाधा को आसानी से पार सकते हैं। गरुड़ पुराण के आचारकांड की नीतियों में कुछ ऐसी ही गूढ़ बातें बताई हैं। जो किसी भी व्यक्ति के लिए परेशानी का कारण बन सकती हैं। ऐसे ही गरुड़ पुराण की आचारकांड की नीतियों में ऐसे कामों के बारे में बताया गया है जिससे आपकी उम्र कम हो सकती है। 

रात को दही खाना

अगर कोई व्यक्ति रात के समय दही का सेवन करता है तो कई बीमारियों का शिकार हो सकता है। दरअसल रात के समय  हम भोजन करके सो जाते हैं जिसके कारण रात का खाना आसानी से नहीं पचता है। ऐसे में दही भी आसानी से नहीं पचता है जिसके कारण इसके साइड इफेक्ट सामने आते हैं। 

Garuda Purana: स्त्री हो या पुरुष कभी भी नहीं करना चाहिए ये 5 काम, करना पड़ेगा अपमान का सामना

शुष्क मांस का सेवन
कभी भी सुखा हुआ मांस नहीं खाना चाहिए। इससे भी मनुष्य की उम्र कम होती है। दरअसल जब मांस की दिन पुराना होता है तो वह सुख जाता है और इस मांस में कई तरह के खतरनाक बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं। जिसका सेवन करके आपके शरीर में यह बैक्टीरिया चले जाते हैं। जिसके कारण आप खी जानलेवा बीमारी के शिकार हो सकते हैं। 

सुबह के समय देर तक सोना
गरुड़ पुराड़ के अनुसार हर काम के लिए एक नियमित समय बताया गया है। इसी अनुसार कहा जाता है कि व्यक्ति को सूर्योदय से पहले उठ जाना चाहिए। इससे आप वातावरण की शुद्ध हवा लेते हैं। इसके साथ ही आप पूजा पाठ और व्यायाम करते हैं। जिससे आपके फेफड़े और पूरा शरीर हेल्दी रहता है। 

Garuda Purana: स्त्री हो या पुरुष कभी भी इन 4 लोगों पर न करें भरोसा, हो सकता है आपके लिए जानलेवा

शमशान के धुंए का सेवन
जब किसी शव का दाह संस्कार किया जाता है तो हमें नहीं पता होता है कि वह व्यक्ति किस बीमारी से संक्रमित है। शरीर के मृत होते ही कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं। ऐसे में शमशान में न जाने कितने शव जलाए जाते हैं। जिसमें कुछ वायरस या बैक्टीरिया शव के साथ नष्ट हो जाते हैं और कुछ हवा में मिल जाते हैं। जब आप शमशान के धुंए में सांस लेते हैं तो यह आपके शरीर में भी प्रवेश कर जाते हैं।  

Garuda Purana: इन 3 चीजों को बिल्कुल भी बीच में न छोड़े, अन्यथा जान-माल को होगा भारी नुकसान

Click Mania
Modi Us Visit 2021