1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. COVID-19 के उपचार की नई दवाएं विकसित कर रही है Dr Reddy's, जल्‍द आएगी बाजार में

COVID-19 के उपचार की नई दवाएं विकसित कर रही है Dr Reddy's, जल्‍द आएगी बाजार में

कंपनी ने पिछले कुछ दिनों में रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन समेत कई अन्य संगठनों के साथ भागीदारी की है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 24, 2021 11:33 IST
 Dr Reddy's developing new treatment options for COVID19- India TV Paisa
Photo:PTI

 Dr Reddy's developing new treatment options for COVID19

नई दिल्‍ली। दिग्गज दवा निर्माता डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज (Dr Reddy's) कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए नए विकल्पों पर तेजी से काम कर रही है, जो कुछ माह में बाजार में आ जाएंगे। कंपनी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। डॉ रेड्डी के एक उच्च अधिकारी ने बताया कि कंपनी अगले कुछ महीनों में नए विकल्पों को सामने लाएगी। इस दौरान पहले से इस्तेमाल हो रही दवाओं की आपूर्ति भी सुनिश्चित की जाएगी।

कंपनी ने पिछले कुछ दिनों में रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन समेत कई अन्य संगठनों के साथ भागीदारी की है। उसने रूस के सहयोग से वहां विकसित कोरोना की स्पूतनिक वी वैक्सीन को भारतीय बाजार में उतारा है। डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज के सह-अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक जीवी प्रसाद ने कहा कि हम हर संभव तरीके से कोविड मरीजों की तत्परता के साथ सेवा करने की भावना से प्रेरित हैं। कोविड से बचाव और उपचार के नए विकल्पों को तलाशने के लिए हमने कई संगठनों के साथ हाथ भी मिलाया हैं।

उन्होंने कहा कि डॉ रेड्डी ने पिछले कुछ सप्ताहों में कई दवाओं समेत रेमडेसिवीर के उत्पादन को बढ़ाया है ताकि एक दम से बढ़ी मांग को पूरा किया जा सके। प्रसाद ने कहा कि हम कोविड उपचार के नए विकल्पों पर भी काम कर रहे हैं जो अगले कुछ महीने के दौरान बाजार में आ जाएंगे। इस दौरान हमने यह भी सुनिश्चित किया है कि हमारी मौजूदा दवाओं की आपूर्ति बिना किसी बाधा के सुचारू रूप से जारी रहे। हम अपने सभी बाजारों के लिए मांग को पूरा करने का काम जारी रखे हुए हैं।

वहीं स्पूतनिक वी के साथ समझौते को लेकर डॉ रेड्डी के सीईओ इरेज़ इजरायली ने कहा कि हमारे पास शुरुआत की 25 करोड़ स्पूतनिक वी डोज का अधिकार है, जो 12.5 करोड़ लोगों को लगाई जाएगी। शुरू में वैक्सीन रूस से ही  की जाएगी। छह निर्माताओं के साथ साझेदारी भी की गई है ताकि वैक्सीन को भारत में ही बनाया जा सके।

 

 
Write a comment
Click Mania