1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. रिव्यू पढ़कर करते हैं ऑनलाइन शॉपिंग तो हो जाएं सावधान, जाने क्या चल रहा है फर्जीवाड़ा

रिव्यू पढ़कर करते हैं ऑनलाइन शॉपिंग तो हो जाएं सावधान, जाने क्या चल रहा है फर्जीवाड़ा

कंपनियां ये रिव्यू थोक में उपलब्ध करा रही हैं, जिसके लिए वो 5 पाउंड प्रति रिव्यू ले रही हैं, जो कि 500 रुपये प्रति रिव्यू के बराबर है। इसके साथ ही मुफ्त उपहार का भी ऑफर दिया जा रहा है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: February 16, 2021 17:10 IST
रिव्यू का...- India TV Paisa
Photo:PTI

रिव्यू का फर्जीवाड़ा

नई दिल्ली। अगर आप ऑनलाइन खरीदारी के लिए प्रोडक्ट के साथ दिए गए ग्राहकों के रिव्यू की मदद लेते हैं तो ये खबर आपके लिए ही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक कई कंपनियां एमेजॉन पर सामान की बिक्री बढ़ाने के लिए ऊंचे दाम पर  फर्जी रिव्यू बेच रही हैं। मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक ये फर्जी रिव्यू थोक के हिसाब से ऑनलाइन बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। यानि पैसा देकर कोई भी अपने किसी भी प्रोडक्ट के जितने चाहे उतने पॉजिटिव रिव्यू पोस्ट करवा सकता है।

क्या है रिपोर्ट का खुलासा

ब्रिटेन की कंज्यूमर ग्रुप ‘विच ?’ के हवाले से मीडिया में आई खबरों के मुताबिक कंपनियां ये रिव्यू थोक में उपलब्ध करा रही हैं, जिसके लिए वो 5 पाउंड प्रति रिव्यू ले रही हैं, जो कि 500 रुपये प्रति रिव्यू के बराबर है। ग्रुप के मुताबिक ये वेबसाइट मनचाहे रिव्यू के बदले लोगों को फ्री में प्रोडक्ट देने का भी वादा करती हैं। वहीं कंज्यूमर ग्रुप 'विच?' द्वारा की गई रिसर्च के अनुसार, विक्रेता इन नकली रिव्यू को 15 पाउंड (1500 रुपये) में खरीद सकते हैं, जबकि थोक में रिव्यू खरीदने के पैकेज 50 रिव्यू के लिए 620 पाउंड से शुरू होते हैं, जो कि 8,000 पाउंड (1,000 रिव्यू) तक जा सकते हैं।

कैसे करती हैं ये कंपनियां काम

ग्रुप ने करीब 10 वेबसाइट की पहचान की है। उसके मुताबिक इसमें से 5 कंपनियों के कॉन्टैक्ट में 7 लाख से ज्यादा लोग हैं, जो उत्पादों के लिए रिव्यू लिखते हैं। इन्हें हर रिव्यू पर कुछ रकम, कोई फ्री गिफ्ट, डिस्काउंट आदि मिलते हैं। ये वेबसाइट रिव्यू लिखने वालों को सलाह भी देती हैं कि वो अच्छे रिव्यू कैसे लिखें। रिपोर्ट मे बताया गया है कि फर्जी रिव्यू के साथ साथ आम लोगों को भी सकारात्मक रिव्यू के लिए ऑफर दिया जाता है।

क्या है एमेजॉन का पक्ष

इस मामले में बीबीसी की रिपोर्ट में एमेजॉन के प्रवक्ता ने कहा कि वो नकली रिव्यू हटाते रहते हैं और ऐसे काम में लगे लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी करते हैं।

क्या होता है कंपनियों को फायदा

रिपोर्ट के मुताबिक कंपनियां इन रिव्यू का इस्तेमाल अपनी सेल्स बढ़ाने या फिर मुकाबले में खड़ी दूसरी कंपनियों की सेल्स गिराने में करती हैं। कई बार रिव्यू की मदद से सस्ते उत्पादों को ऊंचे दामों में बेचने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। 

कैसे करें शॉपिंग

शॉपिंग के लिए पूरी तरह से रिव्यू पर निर्भर न रहें। प्रोडक्ट की तकनीकी जानकारी पर ज्यादा फोकस करें, खरीद पर अंतिम फैसला लेने से पहले और जानकारी लें।  

Write a comment
X