1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अप्रैल में तेजी के बाद अब घटने लगी सोने की चमक, जानिये क्या कहते हैं आंकड़े

अप्रैल में तेजी के बाद अब घटने लगी सोने की चमक, जानिये क्या कहते हैं आंकड़े

अक्षय तृतीय के मौके पर सामान्य तौर पर 30-40 टन सोने की बिक्री होती है। लेकिन अनुमान है कि इस बार बिक्री एक टन से भी कम रही है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: May 16, 2021 12:20 IST
अपॅैल में सोने का...- India TV Paisa
Photo:PTI

अपॅैल में सोने का आयात बढ़ा

नई दिल्ली। देश में घरेलू मांग बढ़ने से अप्रैल के दौरान सोने के आयात में उछाल देखने को मिला है, हालांकि इंडस्ट्रियल मांग में सुस्ती से चांदी का आयात लुढ़क गया। हालांकि अक्षय तृतीय से मिले संकेतों की माने तो अब कोरोना की लहर का सोने पर असर देखने को मिलने लगा है। वहीं सोने के आयात का देश के व्यापार घाटे पर नकारात्मक असर पड़ता है, जिसकी वजह से अप्रैल में व्यापार घाटे में भी बढ़त देखने को मिली है। 

कैसा रहा सोने और चांदी का आयात

वाणिज्य मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक सोने का आयात अप्रैल में उछलकर 6.3 अरब डॉलर पहुंच गया।  हालांकि इसी महीने में चांदी का आयात 88.53 प्रतिशत घटकर 1.19 करोड़ डॉलर रहा। आंकड़े के अनुसार सोने का आयात पिछले साल अप्रैल में 28.3 लाख डॉलर (21.61 करोड़ रुपये) का है। स्वर्ण आयात बढ़ने से देश का व्यापार घाटा अप्रैल 2021 में 15.1 अरब डॉलर रहा जो पिछले साल इसी महीने में 6.76 अरब डॉलर था। उद्योग विशेषज्ञों के अनुसार घरेलू मांग बढ़ने से सोने का आयात बढ़ा है। देश का चालू खाते का घाटा दिसंबर तिमाही में 1.7 अरब डॉलर यानी जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) का 0.2 प्रतिशत रहा। 

कैसी रहेगी आगे सोने की मांग
बाजार के जानकार कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर से आने वाले महीनों में मांग प्रभावित होने की आशंका जता रहे हैं। दरअसल अप्रैल के मध्य के बाद से कोरोना की स्थिति गंभीर होना शुरू हो गयी थी, और फिलहाल देश भर में कई जगह पूरे लॉकडाउन तो कई जगह आंशिक लॉकडाउन जारी हैं। इसका असर सोने की मांग पर भी दिखा सोने की खरीदारी के लिहाज से शुभ माने जाने वाले अक्षय तृतीय के दिन कोविड पूर्व स्थिति के मुकाबले बिक्री हल्की रही। महामारी के फैलने और उसपर अंकुश लगाने के लिये विभिन्न राज्यों में ‘लॉकडाउन’ और अन्य पाबंदियों से उपभोक्ता सेंटीमेंट्स पर असर पड़ा है। अक्षय तृतीय के मौके पर सामान्य तौर पर 30-40 टन सोने की बिक्री होती है। लेकिन अनुमान है कि इस बार बिक्री एक टन से भी कम रही है। आगे कोरोना संकट और शादियों का सीजन न होने से सोने की मांग पर असर पड़ने की आशंका है। 

अप्रैल में रत्न और आभूषण का आयात भी बढ़ा
भारत सोने का सबसे बड़ा आयातक देश है। मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करने के लिये सोने का आयात किया जाता है। रत्न एवं आभूषण का निर्यात इस साल अप्रैल में उछलकर 3.4 अरब डॉलर रहा जो अप्रैल 2020 में 3.6 करोड़ डॉलर था। पिछले साल देशव्यापी ‘लॉकडाउन’ के कारण निर्यात पर प्रतिकूल असर पड़ा था। मात्रा के हिसाब से देश में सोने का आयात 800 से 900 टन सालाना रहता है। सरकार ने बजट में सोने पर आयात शुल्क 12.5 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत (7.5 प्रतिशत सीमा शुल्क और 2.5 प्रतिशत कृषि बुनियादी ढांचा और विकास उपकर) कर दिया।

Write a comment
erussia-ukraine-news