1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. राणा कपूर की कंपनी भी संभाल रहे थे यस बैंक के शीर्ष अधिकारी: ED

राणा कपूर की कंपनी भी संभाल रहे थे यस बैंक के शीर्ष अधिकारी: ED

प्रवर्तन निदेशालय की यस बैंक धोखाधड़ी मामले की जांच में खुलासा

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: August 14, 2020 23:15 IST
- India TV Paisa
Photo:PTI

yes bank 

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कथित 3,700 करोड़ रुपये के यस बैंक धोखाधड़ी मामले की जांच करते हुए दावा किया है कि बैंक के वित्तीय एवं निवेश रणनीति के तत्कालीन अध्यक्ष वरुण मनमोहन कपूर बैंक के संस्थापक राणा कपूर और उनके परिवार के सदस्यों की अन्य कंपनियों के काम को भी संभालते थे।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि 13 जुलाई को मुंबई की एक पीएमएलए अदालत में दायर ईडी के पूरक आरोपपत्र (चार्जशीट) में इस रहस्योद्घाटन का जिक्र है। इसमें 11 अन्य अभियुक्तों के नाम भी शामिल हैं।

ईडी ने कहा कि कपूर ने जून में वित्तीय जांच एजेंसी को अपने बयान में कहा था कि वह निजी ऋणदाता के तत्कालीन एमडी और सीईओ राणा कपूर को रिपोर्ट करते थे। इसके साथ ही उन्होंने ईडी से यह दावा भी किया कि वह डीओआईटी क्रिएशन (आई) प्राइवेट लिमिटेड (डीसीपीएल) के मामलों को भी संभाल रहे थे, जो कि कपूर परिवार के स्वामित्व वाली कंपनी है।

डीसीपीएल में उनकी भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के बारे में पूछे जाने पर, कपूर ने कहा कि उन्हें 2018 में सीईओ के तौर पर नियुक्त किया गया था और फर्म राणा कपूर की तीन बेटियों राधा, रोशनी और रेखा के स्वामित्व वाली मॉर्गन क्रेडिट्स प्राइवेट लिमिटेड (एमसीपीएल) की 100 प्रतिशत सहायक कंपनी थी। यह तीनों डीसीपीएल के भी मालिक थे। ईडी ने यह भी कहा कि कपूर ने उन्हें बताया था कि राणा कपूर की बेटियों का डीसीपीएल के दिन-प्रतिदिन के मामलों में बहुत सीमित दखल होता था।

यह भी पता चला है कि राणा कपूर के निर्देश पर कपूर को 2016 से 2018 के बीच डीसीपीएल और उसकी समूह की कंपनियों डीओआईटी क्रिएशन (आई) प्राइवेट लिमिटेड, डीओआईटी क्रिएटिव कंज्यूमर वेंचर्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, डीओआईटी अर्बन वेंचर (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, आरएवीआई आदि में निवेश के अवसरों का मूल्यांकन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

कुल 19 व्यक्तियों या संस्थाओं के खिलाफ 100 पन्नों का अनुपूरक आरोपपत्र (चार्जशीट) दायर किया गया है, जिसमें पिछली चार्जशीट में शामिल आठ नाम भी हैं, जिसे धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत विशेष अदालत में दायर किया गया है। आरोपियों में दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएफएचएल) के सीएमडी कपिल वधावन, उनके भाई और डीएचएफएल के नॉन-एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर धीरज वधावन, राणा कपूर, उनकी पत्नी बिंदू, उनकी बेटियां और चार्टर्ड अकाउंटेंट धुलरेश जैन के नाम शामिल हैं।

Write a comment
X