Monday, July 22, 2024
Advertisement

चीन के "जासूसी कैमरे" कर रहे थे इंग्लैंड के सैंड्रिंघम एस्टेट की निगरानी, खुलासे ने उड़ाए होश

चीन के जासूसी गुब्बारे के बाद "स्पाई कैमरे" से निगरानी रखने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि चीन के स्पाई कैमरे इंग्लैंड के राजा चार्ल्स की कंट्री सीट-विशाल सैंड्रिंघम एस्टेट में विभिन्न स्थानों पर लगाए गए थे।

Written By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Updated on: March 05, 2023 12:54 IST
चीन का जासूसी हिकविजन कैमरा- India TV Hindi
Image Source : FILE चीन का जासूसी हिकविजन कैमरा

नई दिल्लीः चीन के जासूसी गुब्बारे के बाद "स्पाई कैमरे" से निगरानी रखने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि चीन के स्पाई कैमरे इंग्लैंड के राजा चार्ल्स की कंट्री सीट-विशाल सैंड्रिंघम एस्टेट में विभिन्न स्थानों पर लगाए गए थे। मेल ऑन संडे की रिपोर्ट के अनुसार चीन की कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा नियंत्रित कंपनी हिकवजिन द्वारा निर्मित सीसीटीवी कैमरों का उपयोग राजा के आवास के अलावा कम से कम 5 सरकारी दफ्तरों में भी किया जा रहा था। महीनों बाद जानकारी होने पर राष्ट्रीय सुरक्षा के आधार पर मंत्रियों ने इन जासूसी कैमरों को सभी संवेदनशील स्थानों से हटवाने का निर्देश दिया है।  

मेल ऑन संडे ने दावा किया है कि हमारी जांच में कैमरे भी मिले, जो चेहरे की पहचान तकनीक के साथ आते हैं। ये कैमरे यूके के स्वास्थ्य और सामाजिक देखभाल विभाग, ऊर्जा सुरक्षा विभाग और पर्यावरण, खाद्य और ग्रामीण मामलों के विभाग सहित व्हाइटहॉल मंत्रालयों के प्रवेश द्वारों पर लगाए गए थे। Hikvision कैमरे यूके गवर्नमेंट इनवेस्टमेंट्स - ट्रेजरी की एक शाखा - के भवन में भी स्थित हैं, जो नेटवेस्ट, चैनल 4 और एचएम लैंड रजिस्ट्री जैसी राज्य समर्थित कंपनियों को चलाती है। पिछले हफ्ते भी खुलासा किया गया था कि कैसे ब्रिटिश सैन्य ठिकाने अभी भी चीनी कैमरों का उपयोग कर रहे हैं।

अमेरिका में भी प्रतिबंधित हैं चीन के हिकविजन कैमरे

चीन के हिकविजन कंपनी के सीसीटीवी कैमरे अमेरिका में भी प्रतिबंधित हैं। हिकविजन ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी से पहले अतीत में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के साथ मिलकर काम किया है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से होने वाले खतरे का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। इसलिए हिकविजन कैमरों को अमेरिकी सरकार द्वारा सभी संघीय एजेंसियों से प्रतिबंधित कर दिया गया है। अब इंग्लैंड में मंत्रियों द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा के आधार पर संवेदनशील स्थलों से उन्हें हटाने के आदेश के बावजूद, सम्राट के मुख्य आवासों में से एक, सैंड्रिंघम में नए नाटक क्षेत्र में चीनी निगरानी कैमरों का उपयोग किया जा रहा है।

हिकविजन चीनी सरकार को फुटेज देने की बात से करता है इन्कार
चीनी कंपनी Hikvision के कैमरे कई देशों में जासूसी का काम कर रहे हैं। इसके बावजूद वह इंग्लैंड के किसी भी फुटेज को चीनी सरकार को सौंपने से इन्कार करता है और कहता है कि यह ब्रिटेन के कानून का अनुपालन करता है। मगर यह फर्म चीन के राष्ट्रीय खुफिया कानून के अधीन है, जो कंपनियों को अपनी खुफिया सेवाओं को जानकारी सौंपने का आदेश दे सकता है। ऐसे में इंग्लैंड की जासूसी से इन्कार नहीं किया जा सकता। हैरानी की बात है कि लंदन के ऊर्जा सुरक्षा विभाग में Hikvision सीसीटीवी कैमरे देखे गए। जबकि सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि व्हाइटहॉल की इमारतें विशेष रूप से संवेदनशील हैं, क्योंकि मंत्री अक्सर उन मेहमानों का स्वागत करते हैं जिनके साथ वे सुरक्षा पर चर्चा करते हैं।

वर्ष 2022 में इंग्लैंड के स्वास्थ्य सचिव ने लगाया था हिकविजन कैमरे पर बैन
पिछले साल अप्रैल 2022 में यूके के तत्कालीन स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने मंत्रालय में Hikvision कैमरों के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया था, क्योंकि उनमें से एक ने अपने पूर्ववर्ती मैट हैनकॉक को अपनी प्रेमिका जीना कोलाएंजेलो को चूमते हुए पकड़ा था। इसके बाद जून में विभाग ने टोरी सांसद इयान डंकन स्मिथ को बताया कि उसने सभी Hikvision कैमरों को हटा दिया है। अब यह घटना सामने आने के बाद बीती रात क्रोधित डंकन स्मिथ ने स्वास्थ्य मंत्रालय पर उनसे झूठ बोलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, 'मैं स्वास्थ्य सचिव [स्टीव बार्कले] को इस पर स्पष्टीकरण देने के लिए लिखूंगा। उन्होंने कहा कि 'कुछ न कहना एक बात है, लेकिन इसके बारे में झूठ बोलना और यह कहना दूसरी बात है कि कैमरा हटा दिया गया।

बकिंघम पैलेस ने सुरक्षा पर टिप्पणी से किया इनकार
इंग्लैंड में कई जगह चीन के जासूसी कैमरे मिलने के बाद बकिंघम पैलेस ने सुरक्षा को लेकर कोई भी टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया है। हालांकि प्रवक्ता ने कहा कि 'हम अपने कर्मचारियों, प्रणालियों और संगठन की सुरक्षा को बहुत गंभीरता से लेते हैं।' वहीं चीन अंतर-संसदीय गठबंधन के ल्यूक डी पुलफोर्ड ने कहा: 'इन कैमरों को हटाने का वादा करने के बाद इससे उत्पन्न सुरक्षा जोखिमों से आंखें मूंद लेना लापरवाही की पराकाष्ठा है।'बिग ब्रदर वॉच के जेक हार्फ़र्ट ने कहा: 'चीनी राज्य के स्वामित्व वाले सीसीटीवी का यूके में कोई स्थान नहीं है। इन कैमरों को हमारी सरकार के केंद्र में ब्रिटिश सड़कों की निगरानी नहीं करनी चाहिए।' वहीं सरकारी सूत्रों ने कहा कि हिकविजन कैमरों को सभी संवेदनशील स्थानों से हटवाना शुरू कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें

बर्फीले पहाड़ के सीने पर चढ़कर सेना के जवानों ने मारा छक्का, दुश्मन रह गया हक्का-बक्का!

इस पड़ोसी देश के प्रधानमंत्री पर लगा 5 हजार हत्याओं का आरोप, सुप्रीम कोर्ट ने मंजूर की याचिका

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement