1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. बिहार
  4. 1 जून को जातिगत जनगणना की बैठक, सरकार ने विपक्षी दलों को भेजा निमंत्रण पत्र

All Party Meeting on Caste Census: 1 जून को जातिगत जनगणना की बैठक, सरकार ने विपक्षी दलों को भेजा निमंत्रण पत्र

All Party Meeting on Caste Census: संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने सभी विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को इस बैठक में शामिल होने के लिए आमंत्रण पत्र भेजा है।

Malaika Imam Edited by: Malaika Imam @MalaikaImam1
Updated on: May 29, 2022 17:09 IST
All Party Meeting on Caste Census- India TV Hindi
Image Source : ANI All Party Meeting on Caste Census

Highlights

  • जातीय जनगणना पर एक जून को होगी सर्वदलीय बैठक
  • शामिल होने के लिए विपक्षी दलों को भेजा गया निमंत्रण पत्र
  • सभी दल बैठक में शामिल होंगे और अपने-अपने सुझाव देंगे

All Party Meeting on Caste Census: बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में एक जून को सर्वदलीय बैठक आयोजित की जाएगी। इसे लेकर बिहार के संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को इस बैठक में शामिल होने के लिए आमंत्रण पत्र भेजा है। इस बैठक में राज्य स्तर पर जातीय जनगणना कराने को लेकर चर्चा होगी।

इसे लेकर मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा, "मैंने पार्टी के अन्य सभी नेताओं को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वे 1 जून को जाति जनगणना पर चर्चा के लिए हमारे साथ शामिल हों। मुझे यकीन है कि सभी इसमें भाग लेंगे।" इससे पहले बिहार के संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा था कि सभी राजनीतिक दलों को एक जून को होने वाली बैठक के लिए अपने प्रतिनिधियों को भेजने के लिए संदेश भेजा गया है।

उन्होंने कहा कि बैठक अपराह्न 4 बजे मुख्यमंत्री सचिवालय में होगी। उम्मीद है कि सभी दल इसमें शामिल होंगे और अपने-अपने सुझाव देंगे, जिसके आधार पर मंत्रिपरिषद आवश्यक आदेश पारित करेगी। बता दें कि जातीय जनगणना की मांग ने पिछले कुछ समय से बिहार में जोर पकड़ा है। प्रारंभ में पार्टियों का विचार था कि यह केंद्र की ओर से कराया जाएगा।

जाति आधारित आखिरी जनगणना 1921 में हुई थी। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल ने पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर इसकी मांग की थी। हालांकि, केंद्र सरकार ने अंततः अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अलावा अन्य सामाजिक समूहों की गणना कराने में असमर्थता जताई।