1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. सिनेमा
  4. बॉलीवुड
  5. जूही चावला ने भारत में 5G टेक्नोलॉजी के खिलाफ दायर किया मुकदमा, सुनवाई आज

जूही चावला ने भारत में 5G टेक्नोलॉजी के खिलाफ दायर किया मुकदमा, सुनवाई आज

जूही चावला का कहना है कि इस रेडियोफ्रीक्वेंसी से लोगों की सेहत के साथ-साथ पर्यावरण पर भी बुरा असर पड़ेगा।

India TV Entertainment Desk India TV Entertainment Desk
Updated on: May 31, 2021 14:34 IST
Juhi Chawla files suit against implementation of 5G in India first hearing on 31st May- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM: IAMJUHICHAWLA जूही चावला ने भारत में 5G टेक्नोलॉजी के खिलाफ दायर किया मुकदमा, सुनवाई आज   

बॉलीवुड की दिग्गज अदाकारा जूही चावला पर्यावरण को लेकर फैंस को जागरुक करती रहती हैं। वो सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर करती हैं। भारत में जल्द ही 5G तकनीक लॉन्च होने जा रही है। ऐसे में एक्ट्रेस ने इसको लेकर चिंता जाहिर की है। उनका कहना है कि इस रेडियोफ्रीक्वेंसी से लोगों की सेहत के साथ-साथ पर्यावरण पर भी बुरा असर पड़ेगा। इस मामले को लेकर उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। जिसकी पहली सुनवाई आज है। 

दुनिया भर की दूरसंचार कंपनियां, सरकारों के समर्थन से, अगले कुछ वर्षों (या महीनों!) के भीतर 5वीं पीढ़ी के वायरलेस नेटवर्क (5G) को शुरू करने के लिए तैयार हैं। यह वैश्विक स्तर पर अभूतपूर्व सामाजिक परिवर्तन के रूप में स्वीकार किए जाने के लिए तैयार है। धरती पर मौजूद हर शख्स को किसी भी हिस्से में बिना देरी के वायरलेस सुपर-हाई-स्पीड का एक्सेस मिलने का आश्वासन दिया जा रहा है।

क्या माधुरी दीक्षित की वजह से जूही चावला ने ठुकरा दी थी शाहरुख खान की सुपरहिट फिल्म?

भारत ने प्रौद्योगिकी और डिजिटल संचार के क्षेत्र में अपनी प्रगति और उपलब्धियों को दिखाने के प्रयास में '5जी रेस' में भी प्रवेश किया है। हालांकि, इस दौड़ में प्रतिस्पर्धा करने की इच्छा ने हमारे राष्ट्र को वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों के स्वास्थ्य के लिए कुछ खतरनाक कारकों पर ध्यान देने से कुछ हद तक विचलित कर दिया है।

यदि 5G के लिए दूरसंचार उद्योग की योजनाएं साकार होती हैं, तो कोई भी व्यक्ति, कोई जानवर नहीं, कोई पक्षी नहीं, कोई कीट और पृथ्वी पर कोई भी पौधा आरएफ विकिरण के स्तर से बच नहीं पाएगा। दिन के 24 घंटे, साल के 365 दिन आज की तुलना में  10x से 100x गुना अधिक होगा। ये 5G योजनाएं मनुष्यों पर गंभीर, अपरिवर्तनीय प्रभाव और धरती के सभी पारिस्थितिक तंत्रों को स्थायी नुकसान पहुंचा सकता है। 

जूही ने साझा किया, 'हम तकनीकी प्रगति के कार्यान्वयन के खिलाफ नहीं हैं। इसके विपरीत, हम नवीनतम उत्पादों का उपयोग करने का आनंद लेते हैं। हालांकि, बाद के उपकरणों का उपयोग करते समय, हम निरंतर दुविधा में रहते हैं, क्योंकि वायरफ्री गैजेट्स और नेटवर्क सेल टावरों से आरएफ विकिरण के संबंध में अपने स्वयं के शोध और अध्ययन करने के बाद, हमारे पास यह मानने का पर्याप्त कारण है कि विकिरण अत्यंत हानिकारक है और लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए हानिकारक है।'

 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Bollywood News in Hindi के लिए क्लिक करें सिनेमा सेक्‍शन
Write a comment
X