Friday, July 12, 2024
Advertisement

महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज: MVA ने कहा-'हम साथ-साथ हैं', पवार क्यों बोले-थैंक यू मोदी जी?

लोकसभा चुनाव में मिली जीत से उत्साहित महाविकास अघाड़ी के नेताओं ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस किया और चल रही कयासबाजियों पर विराम लगाते हुए एक साथ विधानसभा चुनाव लड़ने की बात कही। इस बीच शरद पवार ने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया, जानिए वजह-

Written By: Kajal Kumari @lallkajal
Updated on: June 16, 2024 8:37 IST
MVA press conference- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO महाविकास अघाड़ी की प्रेस कांफ्रेंस

महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव में वहां के जनता ने अपना मन बता दिया है। लोकसभा चुनाव में जनता ने महायुति गठबंधन को नकार दिया है और महाविकास अघाड़ी के पक्ष में वोट देकर उसे जीत के रूप में ज्यादा सीटें दी हैं। लोकसभा चुनाव में मिली जीत से महाविकास अघाड़ी गठबंधन में शामिल सभी पार्टियां उत्साह से भरी हैं और अब विधानसभा चुनाव की तैयारियों में लग गई हैं। गठबंधन में शामिल उद्धव ठाकरे की शिवसेना, शरद पवार की एनसीपी और कांग्रेस में मनमुटाव की कयासबाजी चल रही थी और गठबंधन के टूटने की बात कही जा रही थी। लेकिन अब तीनों पार्टियों ने साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ने की बात कही है।

महाविकास अघाड़ी ने कहा-हम साथ-साथ हैं

महाविकास अघाड़ी के तीनों घटक दलों के नेताओं ने शनिवार को संयुक्त रूप से प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और इसमें जीत दिलाने वाली जनता का धन्यवाद करते हुए एकजुटता को लेकर भी बहुत कुछ कहा। हालांकि इतना ही नहीं, नेताओं ने इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी धन्यवाद किया है।

महाविकास अघाड़ी गठबंधन ने इस बार के लोकसभा चुनाव में राज्य की 48 सीटों में से 30 सीटें जीत ली हैं। इस गठबंधन में शामिल शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी "धन्यवाद" कह दिया है। पवार ने कहा, "हम पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हैं क्योंकि उन्होंने ही महाविकास अघाड़ी गठबंधन के लिए राजनीतिक माहौल अनुकूल बना दिया और हमें महाराष्ट्र में ये बड़ी जीत मिली है।”

शरद पवार ने महाराष्ट्र में भाजपा को लेकर तंज कसा है, जिसने 2019 के लोकसभा चुनाव में 23 सीटें जीतीं थीं और इस बार केवल नौ सीटें ही जीत पाई है। वास्तव में, आंकड़ों से पता चलता है कि मोदी और भाजपा ने जहां-जहां व्यापक प्रचार किया था, वहां से वह बुरी तरह से हार गई है। 

विधानसभा चुनाव में दिखेंगे कई तेवर

महाराष्ट्र में अभी महायुति गठबंधन की सरकार चल रही है और शिंदे शिवसेना के मुखिया एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री हैं। इस साल के अंत तक राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और उससे पहले महायुति में शामिल अजित पवार की शिवसेना, भाजपा और शिंदे गुट ने लोकसभा चुनाव में बेहद खराब प्रदर्शन किया है। इसे लेकर अब दोनों गठबंधन में विधानसभा चुनाव से पहले सियासत के कई तेवर दिख सकते हैं। हालांकि विपक्षी गठबंधन, महाविकास अघाड़ी ने साफ कर दिया है कि हम साथ-साथ हैं।

जीत से उत्साहित है महाविकास अघाड़ी

एक तरफ जहां एनसीपी से अलग हुए अजीत पवार की एनसीपी को मात्र एक सीट मिली है वहीं शरद पवार की एनसीपी को आठ सीटों पर जीत मिली है। महाविकास अघाड़ी को महाराष्ट्र में मिली जीत को लेकर उद्धव ठाकरे और शरद पवार चर्चा में हैं। उद्धव ठाकरे इस जीत को लेकर उत्साहित हैं, जिसमें उनकी शिव सेना गुट ने नौ सीटें जीतीं और अलग हुए शिंदे शिवसेना गुट ने मात्र सात सीटें जीतीं। अब उद्धव ठाकरे ने कह दिया है कि जो छोड़कर गए थे उनके लिए दरवाजे बंद हैं। लेकिन अफवाहों का बाजार गर्म है कि शिंदे गुट के कुछ लोग वापस ठाकरे गुट में आना चाहते हैं।

कयासों पर उद्धव ठाकरे ने लगाया विराम

इस बीच उद्धव ठाकरे ने कहा, "जिन लोगों ने मेरा समर्थन किया, वे साथ में बने रहेंगे। हम उन सभी लोगों के साथ आगे बढ़ेंगे जो हमारे साथ रहे और संघर्ष किया... लेकिन उन्होंने ये भी कहा, "अगर कुछ लोग जो छोड़कर चले गए थे, हमारे साथ आना चाहते हैं, तो उनके लिए हम देखेंगे..."

ठकरे ने रिवर्स स्विच की बात को खारिज कर दिया और कहा कि ये सब अनर्गल बातें हैं कि वह अपनी शिवसेना को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की 'शिवसेना' के साथ विलय कर सकते हैं और भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में लौट सकते हैं। ठाकरे ने उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर को लेकर भाजपा पर कटाक्ष किया और कहा कि जिसने सोचा था कि वह राज्य की 80 सीटों में से सभी सीटें जीत जाएगी और अपने '400 पार' के लक्ष्य तक ले जाएगी, तो वहां के ''चुनाव के बाद तो अब अयोध्या में राम भाजपा मुक्त हो गए हैं। "धन्यवाद, महाराष्ट्र" धन्यवाद महा विकास अघाड़ी।

 

कांग्रेस ने भी किया वादा-साथ रहेंगे

कांग्रेस नेता चव्हाण ने कहा, "यह प्रेस कॉन्फ्रेंस महाराष्ट्र के लोगों के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए है। लोगों ने एमवीए को वोट दिया और धार्मिक ध्रुवीकरण के प्रयासों को खारिज कर दिया। हाल ही में विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए तीनों पार्टियों की बैठक हुई थी। जिस तरह हमने लोकसभा चुनाव लड़ा, उसी तरह विधानसभा चुनाव भी लड़ेंगे।'' उन्होंने आगे कहा, ''अब राज्य में सत्ता परिवर्तन होगा और इस विधानसभा चुनाव में हमारी जीत निश्चित होगी।”

कबतक चलेगी महायुति की सरकार-एमवीए का तंज

इस बीच, उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार अब केवल भाजपा द्वारा नहीं चलाई जा रही है - जिसके पास 2014 और 2019 में प्रचंड बहुमत था, बल्कि यह एक गठबंधन की सरकार है। पहले यह 'मोदी सरकार' थी लेकिन अब यह 'एनडीए सरकार' है और पता नहीं यह सरकार कब तक चलेगी?"

ठाकरे ने कहा कि राज्य में लोकसभा परिणाम ने भाजपा के झूठ को उजागर कर दिया है। इनलोगों ने पूरे देश में एक माहौल बना दिया था और हर कोई सोचता था कि कोई भी भाजपा के खिलाफ नहीं लड़ सकता। लेकिन महाराष्ट्र के लोगों ने दिखा दिया कि उनका झूठ अब चलने वाला नहीं है। यह संविधान बचाने और लोकतंत्र बचाने की लड़ाई थी।''

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें Explainers सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement