1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. Dress of Ramayan Express: रेलवे ने सर्विस स्टाफ की पोशाक बदली, संतों ने रेल मंत्री को चिट्ठी लिख जताई थी आपत्ति

Dress of Ramayan Express: रेलवे ने सर्विस स्टाफ की पोशाक बदली, संतों ने रेल मंत्री को चिट्ठी लिख जताई थी आपत्ति

संतों के एतराज के बाद भारतीय रेलवे ने रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में अपने सर्विस स्टाफ की ड्रेस बदल दी है। भारतीय रेलवे ने आपत्तियों के बाद रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेनों में सवार अपने सेवारत कर्मचारियों की भगवा पोशाक वापस ले ली है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: November 23, 2021 8:36 IST
रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन वेटर्स ड्रेस मामला: रेलवे ने बदली सर्विस स्टाफ की पोशाक, संतों ने रेल मंत- India TV Hindi
Image Source : TWITTER/ANI रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन वेटर्स ड्रेस मामला: रेलवे ने बदली सर्विस स्टाफ की पोशाक, संतों ने रेल मंत्री को चिट्ठी लिख जताई थी आपत्ति

Highlights

  • उज्जैन के संतों ने रेल मंत्री को लिखा था पत्र, रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में वेटर्स की वेशभूषा बदलने की मांग की थी
  • संतों के एतराज के बाद भारतीय रेलवे ने रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन के सर्विस स्टाफ की ड्रेस बदल दी
  • धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से IRCTC ने रामायण सर्किट एक्सप्रेस शुरू की है

नई दिल्ली: रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में सर्विस देने वाले वेटर्स की ड्रेस के विवाद को लेकर भारतीय रेलवे ने बड़ा फैसला लिया है। संतों के एतराज के बाद भारतीय रेलवे ने रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में अपने सर्विस स्टाफ की ड्रेस बदल दी है। भारतीय रेलवे ने आपत्तियों के बाद रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेनों में सवार अपने सेवारत कर्मचारियों की भगवा पोशाक वापस ले ली है। रेलवे का कहना है कि "सेवा कर्मचारियों की पेशेवर पोशाक के रूप में सेवा कर्मचारियों की पोशाक पूरी तरह से बदल दी गई है, असुविधा के लिए खेद है।" संतों के एतराज के बाद रामायण सर्किट ट्रेन (Ramayan Circuit Train) के सर्विस स्टाफ की ड्रेस बदल दी गयी है। IRCTC ने इसकी जानकारी अपने ट्विटर हैंडल पर दी है।

उज्जैन के संतों ने दी थी ट्रेन रोकने की धमकी

दरअसल, उज्जैन के संतों ने रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन के वेटर्स को भगवा कपड़े, धोती, पगड़ी और रुद्राक्ष की माला पहनाने पर आपत्ति जताई थी। सोशल मीडिया पर सामने आए वीडियो में वेटर्स संतों की वेशभूषा में लोगों को खाना सर्व कर रहे हैं, वही लोग जूठे बर्तन उठाते नजर आ रहे हैं। इसके बाद उज्जैन के संतों ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को चिट्‌ठी लिखकर 12 दिसंबर को शुरू होने वाले ट्रेन की अगली ट्रिप का विरोध करने की चेतावनी दी थी। नाराज संतों ने ट्रेन रोकने की बात भी कही थी। हालांकि, इससे पहले ही रेलवे ने रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में सर्विस देने वाले वेटर्स की ड्रेस बदल दी है।

जानिए रामायण सर्किट एक्सप्रेस के बारे में

बता दें कि, धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से आईआरसीटीसी ने रामायण सर्किट एक्सप्रेस शुरू की है। धार्मिक यात्रा से जुड़ी रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में श्रद्धालुओं को खाना ट्रेन के अंदर ही सर्व किया जा रहा है। ये रामायण एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन 7 नवंबर को शुरू हुई जो अयोध्या से रामेश्वरम चलकर राम से जुड़े हुए 15 स्थलों का भ्रमण करते हुए 7,500 किलोमीटर की यात्रा तय करेगी। अब 12 दिसंबर को इसी ट्रेन से दूसरी यात्रा शुरू होगी। रामायण सर्किट ट्रेन के AC फर्स्ट क्लास का किराया 1,02,095 रुपए और सेकंड AC का 82,950 रुपए प्रति व्यक्ति है। जिसमें पूरी यात्रा के दौरान रहना खाना, सड़क मार्ग का किराया औऱ रेल का किराया शामिल है। बता दें कि, रामायण सर्किट एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रियों को सात्विक खाना परोसा जा रहा है। अब इस ट्रेन में काम करने वाले वेटर्स की भगवा ड्रेस को लेकर बवाल मच गया है।

bigg boss 15