1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन हो सकते हैं गणतंत्र दिवस 2021 पर मुख्य अतिथि, पीएम मोदी ने दिया न्यौता

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन हो सकते हैं गणतंत्र दिवस 2021 पर मुख्य अतिथि, पीएम मोदी ने दिया न्यौता

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन गणतंत्र दिवस 2021 पर भारत के मुख्य अतिथि हो सकते हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: December 02, 2020 17:27 IST
PM Modi invites British PM Boris Johnson to be Republic Day chief guest - India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO PM Modi invites British PM Boris Johnson to be Republic Day chief guest 

नई दिल्ली। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन गणतंत्र दिवस 2021 पर भारत के मुख्य अतिथि हो सकते हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 नवंबर को टेलीफोन पर बातचीत के दौरान उन्हें औपचारिक रूप से आमंत्रित किया है। जॉनसन ने अपनी ओर से पीएम मोदी को अगले साल यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) में जी-7 शिखर सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया है। गणतंत्र दिवस परेड में आखिरी ब्रिटिश प्रधानमंत्री 1993 में जॉन मेजर थे। 

हालांकि, नई दिल्ली ने इस मुद्दे पर कुछ आधिकारिक जानकारी नहीं दी है। राजनयिकों को लगता है कि यह पीएम मोदी की एक अच्छी तरह से सोची-समझी रणनीति है, ताकि उनके ब्रिटेन के समकक्ष जो बाइडन प्रशासन वाले अमेरिका के भारत के साथ संबंधों को लेकर असहज न हो सकें। अपने 27 नवंबर के ट्वीट में पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने अगले दशक में भारत-ब्रिटेन संबंधों के महत्वाकांक्षी रोड-मैप पर अपने मित्र यूके के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन के साथ एक शानदार चर्चा की। पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि हम सभी क्षेत्रों व्यापार और निवेश, रक्षा और सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए सहमत हुए हैं।"

ब्रिटेन में इस मामले से परिचित लोगों ने कहा कि दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच बातचीत बहुत सकारात्मक थी, विशेष रूप से पीएम जॉनसन ने भारत के साथ एक मुक्त व्यापार समझौते की पेशकश की और जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर सहयोग को गहरा किया। दोनों नेताओं ने साझेदारी को और मजबूत करने और कोविड -19 प्रतिक्रिया को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। जबकि यूके ग्रेट ब्रिटेन से ग्लोबल ब्रिटेन बनने का इच्छुक है, 1 जनवरी ब्रेक्सिट लंदन पर गंभीर दबाव डालेगा क्योंकि यूरोपीय संघ के पास यूके के कुल व्यापार का 47 प्रतिशथ हिस्सा था, 43 प्रतिशत ब्रिटेन निर्यात और 52 प्रतिशत आयात करता है। यूरोप को एक कठिन सीमा के लिए तैयार करने और आने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ पहले ब्रेक्सिट के बारे में अपनी आशंका व्यक्त करते हुए, यूके व्यापार मुद्दों पर अनिश्चितता का सामना कर रहा है।

वहीं ब्रिटिश हाईकमीशन के प्रवक्ता ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है कि हम फिलहाल इसे लेकर किसी भी तरह से पुष्टि नहीं कर सकते, हालांकि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन जल्द से जल्द भारत आने के इच्छुक हैं।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment