ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. जनवरी में सैनिक स्कूल के उद्घाटन के लिए मध्य प्रदेश के दौरे पर जाने वाले थे जनरल रावत

जनवरी में सैनिक स्कूल के उद्घाटन के लिए मध्य प्रदेश के दौरे पर जाने वाले थे जनरल रावत

बिपिन रावत को शहडोल का दौरा करना था, जो उनकी पत्नी का जन्मस्थान है और वह जिले के एक सैनिक स्कूल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने वाले थे। रावत को रीवा के सैनिक स्कूल में जाना था, जो मध्य प्रदेश का एकमात्र सैनिक स्कूल है।

IANS Reported by: IANS
Published on: December 09, 2021 6:39 IST
जनवरी में सैनिक...- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO जनवरी में सैनिक स्कूल के उद्घाटन के लिए मध्य प्रदेश के दौरे पर जाने वाले थे जनरल रावत

Highlights

  • रावत को रीवा के सैनिक स्कूल में जाना था जो मप्र का एकमात्र सैनिक स्कूल है
  • जनरल बिपिन रावत का बुधवार को हेलीकॉप्टर हादसे में निधन हो गया

भोपाल: भारत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत, जिनकी बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर के पास भारतीय वायुसेना के एक हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने से मृत्यु हो गई, को जनवरी 2022 में मध्य प्रदेश का दौरा करना था। उनके एक रिश्तेदार के अनुसार रावत एक सैनिक स्कूल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने वाले थे। भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (63), उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य लोगों का बुधवार को एक हेलीकॉप्टर हादसे में निधन हो गया। उनका वायुसेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर तमिलनाडु में दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

रावत के बहनोई यशवर्धन सिंह ने बताया कि उन्हें शहडोल का दौरा करना था, जो उनकी पत्नी का जन्मस्थान है और वह जिले के एक सैनिक स्कूल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने वाले थे। यशवर्धन सिंह बुधवार को भोपाल में थे और वह दुर्घटना की खबर लगने के बाद जल्द ही दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

सिंह ने कहा, करीब 10 दिन पहले, मैंने उनसे फोन पर बात की थी और मैंने उनसे शहडोल आने का अनुरोध किया था। उन्होंने वादा किया था कि वह सैनिक स्कूल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए शहडोल आएंगे। उन्होंने (रावत) कहा था कि वह रीवा आएंगे और फिर शहडोल भी जाएंगे।

जानकारी के अनुसार रावत को रीवा के सैनिक स्कूल में जाना था, जो मध्य प्रदेश का एकमात्र सैनिक स्कूल है। सिंह ने कहा, हमने शहडोल जिले में एक सैनिक स्कूल स्थापित करने की प्रक्रिया पहले ही शुरू कर दी थी और हम उनका और मेरी बहन का स्वागत करने के लिए उत्सुक थे, क्योंकि वह आखिरी बार 2012 में अपने जन्मस्थान गई थीं।

उन्होंने आगे कहा, जनरल रावत उनके बार-बार अनुरोध के बाद शहडोल जाने के लिए तैयार हो गए थे। 1994 में मेरी शादी के दौरान, वह सीमा क्षेत्र में कहीं फंस गए था, इसलिए वह उपस्थित नहीं हो सके। इसलिए, मैंने उनसे शहडोल आने के लिए बार-बार अनुरोध किया था। उन्हें यह जानकर बहुत खुशी हुई कि मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल इलाके शहडोल में एक सैनिक स्कूल होगा। वह हमेशा सेना और सैनिकों के बलिदान के बारे में बात करते थे।

मधुलिका, जिन्होंने 1985 में जनरल रावत से शादी की थी, मृगेंद्र सिंह की बेटी थीं, जो रीवा रियासत से हैं और 1967 में सोहागपुर विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा के सदस्य के रूप में चुने गए थे और फिर 1972 में दोबार से चुने गए।

elections-2022