ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. ऑटो स्‍क्रैपेज पॉलिसी हुई लॉन्‍च, स्क्रैप सर्टिफिकेट के साथ नई गाड़ी खरीदने पर नहीं लगेगा रजिस्ट्रेशन शुल्‍क

ऑटो स्‍क्रैपेज पॉलिसी हुई लॉन्‍च, स्क्रैप सर्टिफिकेट के साथ नई गाड़ी खरीदने पर नहीं लगेगा रजिस्ट्रेशन शुल्‍क

स्क्रैप सर्टिफिकेट जिसके पास होगा उसे नई गाड़ी की खरीद पर रजिस्ट्रेशन के लिए कोई पैसा नहीं देना होगा। इसके साथ ही उसे रोड टैक्स में भी कुछ छूट दी जाएगी।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: August 13, 2021 12:49 IST
PM Narendra Modi launches National Automobile Scrappage Policy, see details benefit- India TV Paisa
Photo:PTI

PM Narendra Modi launches National Automobile Scrappage Policy, see details benefit

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को नेशनल ऑटोमोबाइल स्‍क्रैपेज पॉलिसी (National Automobile Scrappage Policy) को लॉन्‍च करते हुए कहा कि ये पॉलिसी नए भारत की मोबिलिटी को, ऑटो सेक्टर को नई पहचान देने वाली है।  प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में व्‍हीकलर पॉपूलेशन के मॉडर्नाइजेशन को, अनफ‍िट व्‍हीकल्‍स को एक वैज्ञानिक तरीके से सड़कों से हटाने में ये policy बहुत बड़ी भूमिका निभाएगी।

पीएम मोदी ने कहा कि मोबिलिटी में आई आधुनिकता, ट्रेवल और ट्रांसपोर्टेशन का बोझ तो कम करती ही है, आर्थिक विकास के लिए भी मददगार साबित होती है। 21वीं सदी का भारत क्‍लीन, कंजेशन फ्री और सुविधाजनक परिवहन का लक्ष्य लेकर आगे बढ़े, ये आज समय की मांग है।  

उन्‍होंने कहा कि नई स्क्रैपिंग पॉलिसी, वेस्‍ट टू वेल्‍थ यानि कचरे से कंचन के अभियान की, सर्कुलर इकोनॉमी की एक अहम कड़ी है। ये पॉलिसी, देश के शहरों से प्रदूषण कम करने और पर्यावरण की सुरक्षा के साथ तेज़ विकास की हमारे कमिटमेंट को भी दर्शाती है। आज एक तरफ भारत डीप ओशीन मिशन के माध्यम से नई संभावनाओं को तलाश रहा है, तो वहीं सर्कुलर इकोनॉमी को भी प्रोत्साहित कर रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि हमारी कोशिश है कि हम विकास को टिकाऊ और पर्यावरण अनुकूल बनाएं।

पीएम मोदी ने कहा कि इस पॉलिसी से सामान्य परिवारों को हर प्रकार से बहुत लाभ होगा। सबसे पहला लाभ ये होगा कि पुरानी गाड़ी को स्क्रैप करने पर एक सर्टिफिकेट मिलेगा। ये सर्टिफिकेट जिसके पास होगा उसे नई गाड़ी की खरीद पर रजिस्ट्रेशन के लिए कोई पैसा नहीं देना होगा। इसके साथ ही उसे रोड टैक्स में भी कुछ छूट दी जाएगी। दूसरा लाभ ये होगा कि पुरानी गाड़ी की मैंटेनेंस कॉस्ट, रिपेयर कॉस्ट, ईंधन दक्षता में भी बचत होगी।

तीसरा लाभ सीधा जीवन से जुड़ा है। पुरानी गाड़ियों, पुरानी टेक्नोलॉजी के कारण रोड एक्सीडेंट का खतरा बहुत अधिक रहता है, जिससे मुक्ति मिलेगी। चौथा, इससे हमारे स्वास्थ्य प्रदूषण के कारण जो असर पड़ता है, उसमें भी कमी आएगी। उन्होंने कहा कि पुनर्चक्रण, पुन:प्रयोग और भरपाई के सिद्धांत पर चलते हुए यह नीति ऑटो क्षेत्र में देश की आत्मनिर्भरता को भी नई ऊर्जा देगी। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं, यह नीति देश में 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश लाएगी और हजारों रोजगार का सृजन करेगी।

इस अवसर पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी भी मौजूद थे। वाहन स्क्रैपिंग नीति का उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल और सुरक्षित तरीके से, अनुपयुक्त एवं प्रदूषणकारी वाहनों को चरणबद्ध तरीके से हटाने के लिए एक परिवेश तैयार करना है। इस नीति का उद्देश्य देश भर में स्वचालित परीक्षण स्टेशनों और पंजीकृत वाहन स्क्रैपिंग सुविधाओं के रूप में स्क्रैपिंग बुनियादी ढांचा स्‍थापित करना है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत को गति देने के लिए, भारत में इंडस्ट्री को टिकाऊ और उत्‍पादक बनाने के लिए निरंतर कदम उठाए जा रहे हैं। हमारी ये पूरी कोशिश है कि ऑटो मैन्यूफैक्चरिंग से जुड़ी वैल्यू चेन के लिए जितना संभव हो, उतना कम हमें इंपोर्ट पर निर्भर रहना पड़े। इथेनॉल हो, हाइड्रोजन फ्यूल हो या फिर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, सरकार की इन प्राथमिकताओं के साथ इंडस्ट्री की सक्रिय भागीदारी बहुत ज़रूरी है। आरएंडडी से लेकर इंफ्रास्ट्रक्चर तक, इंडस्ट्री को अपनी हिस्सेदारी बढ़ानी होगी। इसके लिए जो भी मदद आपको चाहिए, वो सरकार देने के लिए तैयार है।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार भी लेकर आएगी IPO, इस कंपनी में बेचेगी अपनी हिस्‍सेदारी

यह भी पढ़ें: China को कॉपी कर India कभी नहीं बन पाएगा वर्ल्‍ड फैक्‍टरी, अमिताभ कांत ने सुझाया वर्ल्‍ड लीडर बनने के लिए नया फॉर्मूला

यह भी पढ़ें: 15 अगस्‍त को 1947 रुपये में बुक कर सकेंगे इस ई-स्‍कूटर को...

यह भी पढ़ें: अगर आपने भी भरा था 2020-21 का इनकम टैक्‍स रिटर्न, तो अब आपको मिलेंगे पैसे वापस!

Write a comment
elections-2022