1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में बढ़े CNG के दाम, बुधवार सुबह से देनी पड़ेगी ज्यादा कीमत

दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में बढ़े CNG के दाम, बुधवार सुबह से देनी पड़ेगी ज्यादा कीमत

लगातार तीसरे महीने सीएनजी की कीमतों में बढ़त दर्ज

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: August 04, 2020 23:29 IST
- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

CNG prices revised in Delhi NCR

नई दिल्ली। दिल्ली एनसीआर में सीएनजी की कीमतों में बदलाव किया गया है। इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने दिल्ली नोएडा और गाजियाबाद में सीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी की है। दिल्ली में सीएनजी का दाम अब 43 पैसे प्रति किलो बढ़ गया है। अभी तक दिल्ली में सीएनजी 43.80 रुपए प्रति किलो पर मिल रही है लेकिन बुधवार सुबह 6 बजे से ग्राहकों को 44.23 रुपए प्रति किलो की दर से भुगतान करना होगा। कीमतों में बढ़त अंतर्राष्ट्रीय बाजार की कीमतों के आधार पर तय की गई हैं। 

नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में भी सीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी की गई है। उत्तर प्रदेश के इन तीनों शहरों में अब सीएनजी का दाम बढ़कर 50.08 रुपए प्रति किलो हो गया है जो अभी तक 49.65 रुपए प्रति किलो था, यानि यूपी के इन 3 शहरों में भी दाम 43 पैसे प्रति किलो बढ़ा है। मुजफ्फरनगर और कानपुर में कीमतें स्थिर रखी गई हैं। मुजफ्फरनगर में दाम अब 58.25 रुपए और कानपुर में 61.50 रुपए प्रति किलो पर स्थिर रहेगा। 


बात हरियाणा के शहरों की करें तो गुरुग्राम और रेवाड़ी में CNG का दाम 55 रुपए प्रति किलो पर स्थिर है लेकिन, करनाल में बुधवार सुबह से सीएनजी का दाम 43 पैसे प्रति किलो बढ़कर 52.28 रुपए होगा जो पहले 51.85 रुपए था। करनाल के अलावा कैथल में भी अब CNG का दाम 52.28 रुपए प्रति किलो हो गया है और वहां भी 43 पैसे प्रति किलो की बढ़ोतरी हुई है

आज की बढ़ोतरी को मिलाकर जून से अबतक दिल्ली एनसीआर में सीएनजी कीमतों में करीब 2.5 रुपये प्रति किलो की बढ़त दर्ज हो चुकी है। इससे पहले दिल्ली एनसीआर में पिछले महीने 10 जुलाई को भी सीएनजी कीमतों में 1 रुपये प्रति किलो की बढ़त की गई थी। वहीं 2 जून को भी कीमतों में 1 रुपये प्रति किलो की बढ़त की गई थी। हालांकि अप्रैल के महीने में सीएनजी कीमतों में 3.2 रुपये प्रति किलो की कटौती भी की गई थी। दरअसल महामारी की शुरुआत में अंतरराष्ट्रीय कीमतों में तेज गिरावट की वजह से ग्राहकों को अप्रैल में कटौती का फायदा मिला। हालांकि आर्थिक गतिविधियों की शुरुआत के साथ अंतरराष्ट्रीय कीमतों में बढ़त की वजह से घरेलू कीमतों में भी बढ़त जारी है।

 

Write a comment
X