1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कोल इंडिया का चौथी तिमाही में प्रॉफिट एक प्रतिशत की गिरावट के साथ 4,587 करोड़ रुपए

कोल इंडिया का चौथी तिमाही में प्रॉफिट एक प्रतिशत की गिरावट के साथ 4,587 करोड़ रुपए

कंपनी के बोर्ड ने ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए प्रति शेयर 10 रुपए के अंकित मूल्य पर और 3.50 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड देने का ऐलान किया है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: June 15, 2021 22:38 IST
कोल इंडिया का मुनाफा...- India TV Paisa
Photo:PTI

कोल इंडिया का मुनाफा घटा

नई दिल्ली। सरकार के स्वामित्व वाली कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) के मार्च 2021 में समाप्त हुई तिमाही में एकीकृत लाभ में 1.1 प्रतिशत की मामूली गिरावट दर्ज की गयी और यह 4,586.78 करोड़ रुपए रहा। लाभ में कमी का कारण कम बिक्री है। सरकारी कंपनी ने पिछले वित्तीय वर्ष की इसी तिमाही में 4,637.95 करोड़ रुपए का एकीकृत लाभ अर्जित किया था।

3.50 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड का ऐलान

कंपनी ने सोमवार को शेयर बाजार को दी गयी सूचना में बताया कि जनवरी-मार्च 2020-21 की तिमाही में उसकी एकीकृत बिक्री वित्तीय वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही के 25,597.43 करोड़ रुपए की तुलना में कम होकर 24,510.80 करोड़ रुपए रही। हालांकि जनवरी-मार्च 2020-21 तिमाही में कंपनी का व्यय 2019-20 की इसी तिमाही के 22,373.046 करोड़ रुपए से कम होकर 21,565.15 करोड़ रुपए रहा। कंपनी ने एक अलग सूचना में बताया कि उसके निदेशक मंडल ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए प्रति शेयर 10 रुपए के अंकित मूल्य पर और 3.50 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड देने की संस्तुति की है। जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में कंपनी का उत्पादन जनवरी-मार्च 2020 तिमाही के 213.71 टन से घटकर 203.42 टन (एमटी) हो गया।

आईओबी का मुनाफा हुआ दोगुना

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) का बीते वित्त वर्ष की मार्च में समाप्त चौथी तिमाही का शुद्ध लाभ दोगुना से अधिक होकर 349.77 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक ने 143.79 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा कि आलोच्य तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 6,073.80 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 5,484.06 करोड़ रुपये रही थी। समीक्षाधीन तिमाही में बैंक का डूबे कर्ज के लिए प्रावधान और अन्य आकस्मिक खर्च बढ़कर 1,380.46 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 1,060.38 करोड़ रुपये था। पूरे वित्त वर्ष 2020-21 में बैंक का शुद्ध लाभ 831.47 करोड़ रुपये रहा। इससे पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में बैंक को 8,527.40 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। वित्त वर्ष के दौरान बैंक की कुल आय बढ़कर 22,524.55 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 20,712.48 करोड़ रुपये रही थी। आईओबी की संपत्ति की गुणवत्ता में इस दौरान सुधार हुआ। 31 मार्च, 2021 को बैंक की सकल गैर-निष्पादित आस्तियां (एनपीए) घटकर 11.69 प्रतिशत रह गईं, जो एक साल पहले 14.78 प्रतिशत पर थीं। इस दौरान बैंक का शुद्ध एनपीए भी 5.44 प्रतिशत से घटकर 3.58 प्रतिशत रह गया। 

यह भी पढ़ें: दिन के डाटा लिमिट की टेंशन होगी खत्म, Jio ने लॉन्च किये ये खास 5 प्लान

यह भी पढ़ें: इन 4 तरह के सिक्कों के बदले मोटी रकम देने को तैयार हैं लोग, क्या आपके पास भी हैं ये

 

Write a comment
टोक्यो ओलंपिक 2020 कवरेज
X