Saturday, April 06, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. अमेरिका में लिस्टेड कंपनियों की संख्या 50% घटकर 3,700 रह गई, इस कारण स्टॉक मार्केट से बाहर हुईं कंपनियां

अमेरिका में लिस्टेड कंपनियों की संख्या 50% घटकर 3,700 रह गई, इस कारण स्टॉक मार्केट से बाहर हुईं कंपनियां

सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों का विनियामक द्वारा निरीक्षण किया जाता है, जिससे पारदर्शिता सुनिश्चित करने और निवेशकों का विश्वास बनाए रखने में मदद मिलती है।

Alok Kumar Edited By: Alok Kumar @alocksone
Published on: June 11, 2023 15:28 IST
अमेरिकी शेयर बाजार- India TV Paisa
Photo:AP अमेरिकी शेयर बाजार

अमेरिका (America) में एक अजीब बदलाव देखने को मिला है। शेयर बाजार (Share Market) में लिस्टेड कंपनियां लगातार कम हो रही है। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी एक्सचेंजों पर कारोबार करने वाली सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों की संख्या 1996 में अपने चरम पर थी। उस समय करीब 8,000 कंपनियां लिस्टेड थी। सेंटर फॉर रिसर्च इन सिक्योरिटी प्राइसेज के आंकड़ों के मुताबिक, आज यह संख्या 50 फीसदी से ज्यादा घटकर सिर्फ 3,700 रह गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि अमेरिका में 30 साल पहले की तुलना में आधी कंपनियां रह गई हैं, ऐसा नहीं है। बल्कि हुआ यह है कि कंपनियों का तेजी से निजीकरण हो रह रहा है और ऐसी कंपनियां जनता की नजर से बाहर हैं।

निवेशकों के भरोसे में कमी की आशंका

सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों का विनियामक द्वारा निरीक्षण किया जाता है, जिससे पारदर्शिता सुनिश्चित करने और निवेशकों का विश्वास बनाए रखने में मदद मिलती है। रेनेसां कैपिटल में डेटा और सामग्री के प्रमुख मैथ्यू केनेडी ने कहा कि कम कंपनियों के सूचीबद्ध होने से बाजार में समग्र पारदर्शिता और निवेशकों के भरोसे में कमी आ सकती है। यह शक्ति को भी समेकित करता है और प्रतिस्पर्धा की कमी को दर्शाता है : केवल दो स्टॉक, एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट समूचे एसएंडपी 500 के लगभग 15 प्रतिशत हिस्सा है। 

कोरोना महामारी के बाद बदली स्थिति 

अर्थशास्त्रियों का कहना है कि 2020 में महामारी से प्रेरित मंदी और आकाश-उच्च मुद्रास्फीति दरों के बाद के चक्र ने गिरावट की प्रवृत्ति को बढ़ा दिया है। एक नरम अर्थव्यवस्था और बाजार की अस्थिरता के डर ने प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकशों (आईपीओ) को लगभग पूरी तरह से सूखने का कारण बना दिया है। 2022 में यूएस आईपीओ बाजार 94.8 प्रतिशत गिरकर 8 अरब डॉलर हो गया, जो 32 साल का निचला स्तर है। मंदी जारी है, जिस कारण 2023 की पहली तिमाही में नए स्टॉक का कुल पूंजीकरण पिछले वर्ष की तुलना में 60 प्रतिशत कम हो गया। इस बीच, दिवालियापन 2010 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है, एक्सचेंजों से बेड बाथ और बियॉन्ड और पार्टी सिटी जैसे नामों को मिटा रहा है।

(इनपुट: आईएएनएस)

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement