1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. काबुल यूनिवर्सिटी के नए VC को मुश्किल से मिले थे पास होने लायक नंबर, प्रोफेसरों को करता था अपमानित

काबुल यूनिवर्सिटी के नए VC को मुश्किल से मिले थे पास होने लायक नंबर, प्रोफेसरों को करता था अपमानित

तालिबानियों ने काबुल विश्वविद्यालय के जिस नए कुलपति मोहम्मद अशरफ गैरत को चुना है, उसने एक बार पत्रकारों की हत्या का आह्वान किया था।

IANS IANS
Updated on: September 24, 2021 14:27 IST
काबुल यूनिवर्सिटी के...- India TV Hindi
Image Source : IANS काबुल यूनिवर्सिटी के नए VC को मुश्किल से मिले थे पास होने लायक नंबर, प्रोफेसरों को करता था अपमानित

काबुल: तालिबानियों ने काबुल विश्वविद्यालय के जिस नए कुलपति मोहम्मद अशरफ गैरत को चुना है, उसने एक बार पत्रकारों की हत्या का आह्वान किया था। विश्वविद्यालय के नए चांसलर के रूप में उसकी नियुक्ति ने सोशल मीडिया पर लोगों के बीच उस समय और अधिक आक्रोश पैदा कर दिया, जब यूजर्स ने उसके कुछ पुराने ट्वीट्स को खंगाला।

पाकिस्तान स्थित फ्राइडे टाइम्स अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि इसके अलावा, आरिफ बहरामी नाम के एक व्यक्ति द्वारा लिखी गई एक फेसबुक पोस्ट, जो अशरफ के कॉलेज क्लास फेलो होने का दावा करती है, सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। बहरामी का दावा है कि जब वह काबुल विश्वविद्यालय में पढ़ रहा था, तब अशरफ का हमेशा अपनी महिला साथियों और प्रोफेसरों के प्रति अपमानजनक व्यवहार रहता था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि व्यक्ति ने यह भी दावा किया कि अशरफ को बहुत आसान विषयों में भी मुश्किल से पास होने लायक अंक मिल पाते थे। हालांकि, अशरफ का दावा है कि आलोचना अनुचित है। प्रतिक्रिया का जवाब देते हुए, उसने कहा, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप शांत रहें और मेरे और मेरी शैक्षणिक पृष्ठभूमि के बारे में पूछताछ करें।

पिछले साल जून में अपने एक ट्वीट में अशरफ ने पत्रकारों की हत्या की बात कही थी। ट्वीट में कहा गया, एक जासूस पत्रकार सौ अरबकी (स्थानीय पुलिस/अर्धसैनिक) से ज्यादा खतरनाक होता है। मुझे उन लोगों के विश्वास पर संदेह है, जो पत्रकारों को मारने से रोकते हैं। जासूस पत्रकारों को मारें। मीडिया को शामिल करें। उसके बाद से ट्वीट को उसके अकाउंट से डिलीट कर दिया गया है।

अफगानिस्तान में सर्वश्रेष्ठ और पहले विश्वविद्यालय के प्रमुख के तौर पर इस नियुक्ति ने सोशल मीडिया में व्यापक प्रतिक्रिया व्यक्त की है क्योंकि एक युवा स्नातक डिग्री धारक ने एक बौद्धिक और अनुभवी पीएचडी धारक की जगह ले ली है। खामा प्रेस ने बताया कि तालिबान के कुछ सदस्यों सहित लोगों ने इस कदम की आलोचना की है और कहा है कि उनमें से और भी अधिक योग्य लोग थे, जिन्हें चुना जा सकता था।

Click Mania
bigg boss 15