Thursday, April 18, 2024
Advertisement

ईरान ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मारा, जैश अल-अदल कमांडर की मौत

ईरान के सैनिकों ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मार गिराया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ईरानी सैनिकों ने आतंकी संगठबन जैश अल-अदल के सरगना को मार डाला है।

Kajal Kumari Edited By: Kajal Kumari @lallkajal
Updated on: February 24, 2024 9:40 IST
iran killed pakistani trrorist- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO ईरान ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मारा

ईरान के सरकारी मीडिया  ईरान इंटरनेशनल इंग्लिश ने बताया कि ईरान के सैन्य बलों ने पाकिस्तानी क्षेत्र में घुसकर आतंकी संगठन जैश अल-अदल के वरिष्ठ कमांडर इस्माइल शाहबख्श और उसके कुछ साथियों को मार डाला है। कुछ दिनों पहले ही दोनों देशों ने एक-दूसरे पर हवाई हमले किए थे जिसके  एक महीने बाद ही, ईरान की सेना ने एक सशस्त्र संघर्ष में एक आतंकवादी समूह पर हमला किया और कई आतंकियों को मार गिराया है।

कौन हैं जैश अल -अदल के आतंकी

अल अरबिया न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, 2012 में गठित, जैश अल-अदल, जिसे ईरान द्वारा "आतंकवादी" संगठन के रूप में नामित किया गया है, एक सुन्नी आतंकवादी समूह है जो ईरान के दक्षिणपूर्वी प्रांत सिस्तान-बलूचिस्तान में संचालित होता है। पिछले कुछ वर्षों में जैश अल-अदल ने ईरानी सुरक्षा बलों पर कई हमले किए हैं। अल अरबिया न्यूज के मुताबिक, दिसंबर में जैश अल-अदल ने सिस्तान-बलूचिस्तान में एक पुलिस स्टेशन पर हमले की जिम्मेदारी ली थी, जिसमें कम से कम 11 पुलिस कर्मियों की जान चली गई थी।

ईरान और पाकिस्तान ने किया था समझौता

द न्यूज इंटरनेशनल ने बताया है कि, पिछले महीने, एक-दूसरे के क्षेत्रों में "आतंकवादी इकाइयों" के खिलाफ मिसाइल हमले करने के कुछ हफ्तों बाद, पाकिस्तान और ईरान ने पारस्परिक रूप से सुरक्षा सहयोग का विस्तार करने पर सहमति व्यक्त की थी। समझौते की घोषणा पाकिस्तान के विदेश मंत्री जलील अब्बास जिलानी और उनके ईरानी समकक्ष होसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन द्वारा पाकिस्तान विदेश कार्यालय में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान की गई।

जिलानी ने कहा कि ईरान और पाकिस्तान दोनों "गलतफहमी" को काफी जल्दी सुलझा सकते हैं। उन्होंने कहा कि दोनों देश अपने-अपने क्षेत्रों में आतंकवाद से लड़ने और एक-दूसरे की चिंताओं को दूर करने पर भी सहमत हुए थे लेकिन उसके बाद ही ईरान ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मारा।

ईरान और पाकिस्तान के बीच बढ़ गया था तनाव

गौरतलब है कि तेहरान और इस्लामाबाद द्वारा 'आतंकवादी इकाइयों' को निशाना बनाकर एक-दूसरे पर मिसाइल हमले करने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। ईरान ने 16 जनवरी की देर रात को जैश अल-अदल के दो "महत्वपूर्ण मुख्यालयों" को नष्ट करने के लिए पाकिस्तान में मिसाइल और ड्रोन हमले किए थे। अल अरबिया न्यूज ने तस्नीम न्यूज एजेंसी का हवाला देते हुए बताया कि इस्लामाबाद ने आरोप लगाया कि हमलों में दो बच्चों की मौत हो गई और तीन लड़कियां घायल हो गईं।

इसके बाद ही पाकिस्तान ने 17 जनवरी को ईरान से अपने राजदूत को वापस बुला लिया और घोषणा की कि वह अपनी संप्रभुता के "घोर उल्लंघन" के विरोध में उस समय अपने गृह देश का दौरा करने वाले ईरानी दूत को वापस लौटने की अनुमति नहीं देगा। इसके अगले दिन, 18 जनवरी को, पाकिस्तान ने जवाबी कार्रवाई में ईरान के अंदर हमले किए। इस्लामाबाद ने कहा कि उसने 'आतंकवादी आतंकवादी संगठनों', अर्थात् बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) और बलूचिस्तान लिबरेशन फ्रंट (बीएलएफ) द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले ठिकानों को निशाना बनाया।

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, हालांकि, बाद में दोनों देश दोनों देशों के राजदूतों की अपने-अपने पदों पर वापसी पर सहमत हुए और तनाव को 'कम करने' के लिए पारस्परिक रूप से काम करने का भी फैसला किया।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement