18 नवंबर को मनाया जाएगा बाल यौन शोषण दिवस, संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रस्ताव पारित

इस प्रस्ताव को अफ्रीकी देश सिएरा लियोन और नाइजीरिया ने रखा था और 110 से अधिक देशों ने इसका समर्थन किया था। इसे तालियों की गड़गड़ाहट के बीच आमसहमति से पारित किया गया।

Shashi Rai Edited By: Shashi Rai @km_shashi
Published on: November 08, 2022 12:41 IST
United Nations General Assembly- India TV Hindi
Image Source : AP United Nations General Assembly

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 18 नवंबर का दिन बच्चों के यौन शोषण और दुर्व्यवहार को उजागर करने के मकसद से मनाने के एक प्रस्ताव को सोमवार को मंजूरी दे दी। इस दिवस का उपयोग अपराध की रोकथाम की जरूरतों पर जोर देने, अपराधियों को सज़ा दिलाने और पीड़ितों को इससे उबरने की लंबी प्रक्रिया के हिस्से के रूप में आवाज़ उठाने के लिए भी किया जाएगा। 

110 से अधिक देशों ने किया समर्थन

इस प्रस्ताव को अफ्रीकी देश सिएरा लियोन और नाइजीरिया ने रखा था और 110 से अधिक देशों ने इसका समर्थन किया था। इसे तालियों की गड़गड़ाहट के बीच आमसहमति से पारित किया गया। प्रस्ताव पेश करने वालीं सिएरा लियोन की प्रथम महिला, फातिमा माडा बायो ने बाल यौन शोषण को एक 'जघन्य अपराध' करार दिया। 

'रोकथाम एक आपात स्थिति है, लेकिन संभव है'

उन्होंने कहा, ''रोकथाम एक आपात स्थिति है, लेकिन संभव है।'' इस प्रस्ताव के तहत, हर साल पूरे विश्व में 18 नवंबर का दिन बाल यौन शोषण, दुर्व्यवहार और हिंसा की रोकथाम और उपचार के तौर पर मनाया जाएगा। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन