1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. गुजरात
  4. मां हीराबेन से मिले पीएम मोदी, पावागढ़ के मंदिर में करेंगे खास पूजा पाठ

PM Modi Gujarat Visit: मां हीराबेन से मिले पीएम मोदी, पावागढ़ के मंदिर में करेंगे खास पूजा पाठ

PM Modi Gujarat Visit: इस मौके पर पीएम मोदी आज पावागढ़ में पूजा भी करेंगे। इस दौरान वह मंदिर में ध्वजारोहण भी करेंगे। बताया जा रहा है कि इस मंदिर में लगभग 500 सालों बाद ध्वजारोहण किया जाएगा।

Sudhanshu Gaur Edited by: Sudhanshu Gaur @SudhanshuGaur24
Updated on: June 18, 2022 10:47 IST
Narendra Modi with his mother- India TV Hindi
Image Source : ANI Narendra Modi with his mother

Highlights

  • प्रधानमंत्री मोदी की मां हीराबेन का है 100 वां जन्मदिन
  • इस मौके पर वो करेंगे विशेष पूजा-पाठ
  • पावागढ़ में पुनर्विकसित श्री कालिका माता मंदिर का उद्घाटन करेंगे

PM Modi Gujarat Visit: गुजरात दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपनी मां से मुलाकात करने पहुंचे हैं। पीएम मोदी की मां हीराबेन आज आज अपने जीवन के 100 वें वर्ष में प्रवेश कर रही हैं। इस मौके पर पीएम मोदी गांधीनगर स्थित घर पहुंचे हैं। जहां उनकी मां उनके छोटे भाई के साथ रहती हैं। 

इस मौके पर पीएम मोदी आज पावागढ़ में पूजा भी करेंगे। इस दौरान वह मंदिर में ध्वजारोहण भी करेंगे। बताया जा रहा है कि इस मंदिर में लगभग 500 सालों बाद ध्वजारोहण किया जाएगा। पीएम मोदी की मां हीराबेन 100 वर्ष की हो रही हैं, इस मौके पर वो मां काली की विशेष पूजा-पाठ व दर्शन करेंगे। 

पुनर्विकसित श्री कालिका माता मंदिर का उद्घाटन भी करेंगे पीएम 

इसके साथ ही पीएम मोदी पावागढ़ में पुनर्विकसित श्री कालिका माता मंदिर का उद्घाटन करेंगे। वह वडोदरा में गुजरात गौरव अभियान में हिस्सा लेंगे। प्रधानमंत्री सूरत, उधना, सोमनाथ और साबरमती स्टेशनों के पुनर्विकास के साथ-साथ रेलवे क्षेत्र में अन्य परियोजनाओं की आधारशिला भी रखेंगे। पीएम मोदी मातृ और शिशु स्वास्थ्य में सुधार पर ध्यान देने के लिए प्रधानमंत्री 'मुख्यमंत्री मातृशक्ति योजना' की शुरुआत करेंगे। इस पर 800 करोड़ रुपये खर्च होगा।

मंदिर की है आनोखी विरासत 

पावागढ़ मंदिर का इतिहास कई वर्ष पुराना है। ऐसा माना जाता है कि मां काली का ऐसा स्वरूप पूरे देश में दूसरा कहीं नहीं हैं. यहां सिर्फ देवी मां की आंखों के ही दर्शन होते हैं। कहा जाता है कि कई बरस पहले मुस्लिम शासक ने मंदिर का गुम्बद खंडित कर दिया था। इसके बाद इसका नवीनीकरण किया गया है. साथ ही विश्व की हेरिटेज साइट मानी जाने वाली चांपानेर नगरी भी यहीं बसी हुई है।