Amarnath flood: बादल फटने की कैसे करें भविष्यवाणी? मौसम विभाग के पास भी कोई सिस्टम नहीं

Amarnath flood: हर जुलाई, हिमालय और पश्चिमी घाट में बादल फटना और अचानक बाढ़ आना सुर्खियां बटोरता है, लेकिन इस तरह के मौसम की घटनाओं की भविष्यवाणी करना चुनौतियों से भरा होता है।

Shailendra Tiwari Written By: Shailendra Tiwari
Updated on: July 12, 2022 6:37 IST
IMD says It has no system to predict cloudbrust (Representational Image)- India TV Hindi News
Image Source : FILE PHOTO IMD says It has no system to predict cloudbrust (Representational Image)

Highlights

  • चुनौतियों से भरा होता है ऐसे मौसमों की भविष्यवाणी करना
  • "पहाड़ों में बहुत अधिक नमी जमा होने से ऐसी घटनाएं होती हैं"
  • अमरनाथ गुफा इकोलॉजिकली है बेहद नाजुक

Amarnath flood: मौसम विभाग ने शुक्रवार को अमरनाथ के आसपास हल्की बारिश की भविष्यवाणी की, तो मौसम विज्ञानियों के पास अचानक बादल फटने का अनुमान लगाने का कोई तरीका नहीं था, जिससे ऊपरी इलाकों में भारी मात्रा में बारिश हुई, जिससे बाढ़ और भूस्खलन हुआ और नीचे तीर्थयात्रियों के शिविर बह गए। बता दें बाढ़ और भूस्खलन से 16 लोगों की मौत हो चुकी है और जबकि 40 अभी भी लापता हैं। अधिकारियों ने बचाव कार्य जारी रखा हैं और यात्रा को फिलहाल रोक दिया गया है।

बादल फटने की भविष्यवाणी करने के लिए कोई सिस्टम नहीं

श्रीनगर में मौसम ब्यूरो के साइंटिस्ट सोनम लोटस ने कहा, "अमरनाथ गुफा के ऊपरी इलाके में बादल फटा है और जिससे ज्यादा तेज बारिश हो सकती है।, हो सकता है इसे हमारा मौसम स्टेशन नहीं पकड़ सका। "हमारे पास वहां बारिश को मापने का कोई साधन नहीं है क्योंकि यह बहुत दुर्गम इलाका है।"  मौसम विभाग ने पूर्वानुमान लगाया है कि अगले 5 दिनों में पश्चिमी हिमालय में छिटपुट गरज के साथ भारी बारिश या बिजली गिरने की संभावना है। पिछले साल, इसी तरह की एक घटना जम्मू-कश्मीर के दूरस्थ पहाड़ी किश्तवाड़ जिले के होंजर गांव में हुई थी, जिसमें बादल फटने से 7 लोगों की मौत हो गई थी और कई अब भी लापता हैं। हर जुलाई, हिमालय और पश्चिमी घाट में बादल फटना और अचानक बाढ़ आना सुर्खियां बटोरता है, लेकिन इस तरह के मौसम की घटनाओं की भविष्यवाणी करना चुनौतियों से भरा होता है। "दुनिया भर में, बादल फटने की घटनाओं की भविष्यवाणी करने के लिए कोई सिस्टम नहीं है। 

बादल फटने की बढ़ती घटनाओं के लिए क्लाइमेट चेंज है कारण

नेशनल वेदर फोरकास्टिंग सेंटर (National Weather Forecasting Center) के साइंटिस्ट आर के जेनामणि ने कहा, मॉडलिंग सिस्टम अक्सर यह नहीं पकड़ पाती है कि ये सिस्टम कितनी तेजी से विकसित होते हैं और कितने तीव्र होते हैं। "पहाड़ों में बहुत अधिक नमी जमा होने से ऐसी घटनाएं होती हैं। हम जानते हैं कि इस तरह की घटनाएं अब बढ़ रही हैं।" बादल फटने की बढ़ती घटनाओं के लिए जलवायु परिवर्तन एक कारण हो सकता है।

"ऐसे इलाकों में ज्यादा लोगों को नहीं होना चाहिए इकट्ठा"

एक पूर्व सरकारी मौसम विज्ञानी ने कहा "हम जानते हैं कि जलवायु परिवर्तन के कारण वातावरण की नमी धारण करने की क्षमता बढ़ गई है। मानसून के दौरान, यह और भी स्पष्ट हो जाता है, जिससे बादल फटने या बाढ़ की आपदाएँ आती हैं" उन्होंने आगे कहा कि हम उन जगहों पर तेजी से भीड़ देख रहे हैं जो पहले से ही इस तरह के आयोजनों की चपेट में हैं। ऐसे इलाकों में बड़ी संख्या में लोगों को इकट्ठा नहीं होना चाहिए जहां ज्यादा बारिश की वजह से ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, ऐसी घटनाएं हर साल नहीं होती है, लेकिन ये कुछ वर्षों में एक बार जरूर हो सकती हैं।

भू-विज्ञान मंत्रालय की पिछले साल प्रकाशित एक रिपोर्ट में बताया गया कि 1969 और 2015 के बीच भारत के पश्चिमी तट और पश्चिमी हिमालय की तलहटी में छोटे बादल फटने की घटना बढ़ी है। मौसम विशेषज्ञों के एक आधिकारिक पैनल, इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज ने पिछले साल एक रिपोर्ट में कहा है, "प्रमुख पहाड़ी क्षेत्रों में ज्यादा बारिश होने का अनुमान है और इन सभी में बाढ़, भूस्खलन और झील के फटने के संभावना भी है।"

अमरनाथ गुफा इकोलॉजिकली है बेहद नाजुक

दिवेचा सेंटर फॉर क्लाइमेट चेंज में विजिटिंग साइंटिस्ट अनिल वी कुलकर्णी ने कहा "हमें यह महसूस करना होगा कि हिमालय तेजी से गर्म हो रहा है और  भारत और अन्य हिस्सों की तुलना में अधिक गर्म हो रहा है। ऐसी स्थिति में, पहाड़ों में चरम घटनाएं ज्यादा होंगी" कुलकर्णी ने आगे कहा, "इस विकास का दूसरा पहलू यह है कि अमरनाथ गुफा 4,000 मीटर से ज्यादा की ऊंचाई पर है और इकोलॉजिकली बेहद नाजुक है। अगर वहाँ बहुत ज्यादा लोग हैं, तो वे असुरक्षित हो सकते हैं।"

IMD 90 वेदर रडार लगाने की बना रहा योजना

भू-विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम रविचंद्रन ने पिछले साल कहा था कि आईएमडी कम से कम 90 मौसम रडार लगाने की योजना बना रहा है ताकि गंभीर मौसम की घटनाओं का प्रभावी ढंग से पूर्वानुमान लगाया जा सके। अब तक IMD में करीब 33 राडार हैं और हमारा उद्देश्य पूरे देश का मैप बनाने के लिए कम से कम 90 रडार रखना है।

Latest India News

navratri-2022