Wednesday, April 17, 2024
Advertisement

लोकसभा और विधानसभा चुनावों के लिए निर्वाचन आयोग ने मांगे 3.4 लाख जवान, सबसे ज्यादा बंगाल में होगी तैनाती

कुछ ही समय बाद देश में लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों का ऐलान होने वाला है। इस साल के लोकसभा चुनाव में लगभग 97 करोड़ भारतीय मतदान करने के पात्र होंगे। वहीं, दो करोड़ से अधिक नए मतदाता होंगे।

Subhash Kumar Written By: Subhash Kumar @ImSubhashojha
Updated on: February 15, 2024 6:24 IST
चुनाव आयोग ने मांगे जवान। - India TV Hindi
Image Source : PTI चुनाव आयोग ने मांगे जवान।

भारत में कुछ ही दिनों बाद लोकसभा चुनाव 2024 का आयोजन किया जाना है। लोकसभा चुनाव के साथ ही आंध्र प्रदेश, अरूणाचल प्रदेश, ओडिशा तथा सिक्किम में विधानसभा चुनावों का भी आयोजन किया जाएगा। बता दें कि भारत का आम चुनाव दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक चुनाव माना जाता है। क्षेत्रफल, जनसंख्या और लोकसभा सीटों को ध्यान में रखते हुए चुनाव में हर बार बड़े स्तर पर सुरक्षाकर्मियों की जरूरत पड़ती है। इस बार भी चुनाव आयोग ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से चुनाव के लिए जरूरी जवानों की संख्या साझा कर दी है। 

3.4 लाख जवानों की मांग

निर्वाचन आयोग ने आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनाव के लिए गृह मंत्रालय से कुल 3.4 लाख केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों यानी सीएपीएफ की मांग की है। इसके साथ ही आयोग ने जवानों के लिए सभी उपयुक्त सुविधाएं और पर्याप्त संख्या में ट्रेन की व्यवस्था करने की भी मांग की है ताकि चुनाव कार्यों को पूरा करने के लिए जवानों को सुगमता से और समय पर एक जगह से दूसरी जगह भेजा जा सके।

3,400 कंपनियों की तैनाती होगी

आयोग ने गृह मंत्रालय को भेजे गए अपने पत्र में कहा है कि आयोग ने राज्यों के सीईओ द्वारा किए गए अनुरोधों पर विचार किया और स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव सुनिश्चित करने के लिए चरणबद्ध तरीके से सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में सीएपीएफ की अधिकतम 3,400 कंपनियों को तैनात करने का निर्णय लिया है। बता दें कि सीएपीएफ की एक कंपनी में करीब 100 जवान होते हैं। आयोग ने कहा है कि सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों (सीईओ) ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और ‘स्ट्रॉंग रूम’ की सुरक्षा जैसी चुनावी ड्यूटी के लिए सीएपीएफ की तैनाती का अनुरोध किया है।

बंगाल में सबसे ज्यादा कंपनियों की तैनाती

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, आयोग की ओर से पश्चिम बंगाल में चरणबद्ध तरीके से सीएपीएफ की अधिकतम 920 कंपनी तैनात किए जाने की उम्मीद है। इसके बाद जम्मू-कश्मीर में 635, छत्तीसगढ़ में 360 , बिहार में 295, उत्तर प्रदेश में 252 और आंध्र प्रदेश, झारखंड तथा पंजाब, प्रत्येक में 250 कंपनी तैनात की जाएगी। बता दें कि सीएपीएफ में सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी और एनएसजी के जवान शामिल होते हैं। (इनपुट: भाषा)

ये भी पढ़ें- बीजेपी ने राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों की नई लिस्ट जारी की, जेपी नड्डा को गुजरात, अशोक चव्हाण को महाराष्ट्र से मिला टिकट

पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री के पोते विभाकर शास्त्री ने कांग्रेस छोड़ी, बीजेपी में हुए शामिल

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement