Monday, May 27, 2024
Advertisement

तमिलनाडु के कोयंबटूर में रोड शो करेंगे PM मोदी, बीजेपी के लिए कैसे अहम है ये लोकसभा सीट?

बीजेपी अपने राज्य इकाई के अध्यक्ष के अन्नामलाई के नेतृत्व में एक नए जोश के साथ, तमिलनाडु में पैठ बनाने में जुटी है। एनडीए और INDI गठबंधन दोनों ने अभी तक कोयंबटूर सीट पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है।

Written By: Rituraj Tripathi @riturajfbd
Updated on: March 18, 2024 14:20 IST
Tamil Nadu, Coimbatore,- India TV Hindi
Image Source : PTI तमिलनाडु के कोयंबटूर में रोड शो करेंगे PM मोदी

कोयंबटूर: लोकसभा चुनावों की घोषणा के बाद सभी पार्टियां जोर-शोर से अपनी तैयारियों में जुट गई हैं। बीजेपी दक्षिण भारत में अपनी पैठ बनाने की कोशिश कर रही है। आज शाम पीएम मोदी तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक रोड शो भी करेंगे। सात चरण के लोकसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के बाद राज्य में यह उनकी पहली राजनीतिक भागीदारी है। 

एनडीए और INDI गठबंधन दोनों ने अभी तक इस सीट पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है। बता दें कि बीजेपी ने अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के साथ गठबंधन में राज्य में आम चुनाव लड़ा था और 2019 में उसे कोई सीट नहीं मिली थी। सितंबर 2023 में, दोनों अलग हो गए, जिससे बीजेपी को तमिल मनीला कांग्रेस जैसी छोटी पार्टियों के साथ चुनाव लड़ना पड़ा। 

अन्नामलाई के नेतृत्व में बीजेपी में नया जोश

बीजेपी अपने राज्य इकाई के अध्यक्ष के अन्नामलाई के नेतृत्व में एक नए जोश के साथ, तमिलनाडु में पैठ बनाने में जुटी है। विशेषज्ञों के अनुसार, बीजेपी ने तमिलनाडु में छोटे दलों के साथ अकेले चुनाव लड़ने का जो मौका उठाया है, उससे उसे राज्य में द्रमुक के नेतृत्व वाले INDI गठबंधन और विपक्षी अन्नाद्रमुक के खिलाफ त्रिकोणीय मुकाबले में लगभग 5 सीटें जीतने में मदद मिल सकती है।

बीजेपी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है कोयंबटूर?

पिछले दो लोकसभा चुनावों में बीजेपी को कोयंबटूर में लगभग एक तिहाई वोट मिले थे, लेकिन 2014 में त्रिकोणीय मुकाबला होने पर वह अन्नाद्रमुक के अपेक्षाकृत करीब आ गई थी।

हिंदू मुन्नानी के प्रवक्ता सी शशिकुमार की हत्या के बाद कई मस्जिदों और चर्चों में पथराव की घटनाएं सामने आने के बाद 2016 में कोयंबटूर में व्यापक हिंसा देखी गई थी। एनआईए ने अपने आरोपपत्र में अब प्रतिबंधित चरमपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के सदस्यों को आरोपी के रूप में नामित किया था।

1998 में बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी की कोयंबटूर यात्रा के दौरान कई बम धमाकों में 55 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी. इसके बाद, स्थानीय बीजेपी नेता सीपी राधाकृष्णन 1998 और 1999 में दो बार लोकसभा के लिए चुने गए। हालांकि, वह 2004 के बाद से अपनी सीट बरकरार रखने में असफल रहे। 2019 के लोकसभा चुनावों में उन्हें सीपीआईएम के पीआर नटराजन से हार मिली।

तमिलनाडु में 2021 के विधानसभा चुनावों में, बीजेपी उम्मीदवार और महिला मोर्चा की अध्यक्ष वनथी श्रीनिवासन ने कोयंबटूर दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र में अभिनेता और मक्कल निधि मय्यम के नेता कमल हासन को कांटे की टक्कर में हराया था। मुकाबला हासन, श्रीनिवासन और कांग्रेस के मयूरा जयकुमार के बीच था।

वोट विभाजित ना हों, इसलिए INDI गठबंधन इस सीट से एक ही उम्मीदवार खड़ा कर सकता है, वहीं बीजेपी इस सीट को एक बार फिर से जीतने के लिए पूरा प्रयास कर रही है। 2021 के विधानसभा चुनावों में (234 सदस्यीय तमिलनाडु विधानसभा) बीजेपी के कुल चार विधायक बने, जिसमें से एक कोयंबटूर से भी है। 

ये भी पढ़ें: 

तेलंगाना के राज्यपाल पद से तमिलिसै सौंदरराजन ने इस्तीफा दिया, पुडुचेरी के LG का पद भी छोड़ा

बिहार की सियासत से बड़ी खबर, RJD के टिकट से चुनाव लड़ेंगी लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement