Tuesday, July 23, 2024
Advertisement

मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में पिछले 2 महीने में 93 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल

पन्ना जिले में 60 दिन के अंदर 90 से अधिक छोटे बच्चों की मौत हो गई। डीएम ने मामले में स्वास्थ्य अधिकारी से बात की है। विभाग ने अपने आंकड़े को रिव्यू करने की बात कही है।

Edited By: Mangal Yadav @MangalyYadav
Updated on: July 10, 2024 19:21 IST
सांकेतिक तस्वीर- India TV Hindi
Image Source : FILE सांकेतिक तस्वीर

मध्य प्रदेश के पन्ना जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था ने प्रदेश को शर्मसार कर दिया है। जिले के अंदर 2 महीने के अंदर 93 बच्चों की मौत का नया आंकड़ा सामने आया है। पन्ना जिले के आंकडो ने जिले के अंदर चल रही करोड़ों रुपये की शिशु बाल मृत्यु को रोकने की योजना की हकीकत को सामने रख दिया है। वहीं सरकार के शिशु बाल मृत्यु की संख्या कम करने के दावों की भी पोल खुल गई है। इसके बाद भी स्वास्थ्य व्यवस्था में कोई सुधार नहीं हो रहा है।

स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल

शिशु मृत्यु दर रोकने के लिए सरकार की ओर से पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा लेकिन पन्ना जिले के अंदर 2 महीने के अंदर 93 बच्चों की मौत सरकार और पन्ना जिले कि स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर तीखे सवाल खड़े कर रही है। निमोनिया, पीलिया और डायरिया जैसी सामान्य बीमारियों का इलाज क्यों नही हो पा रहा है। जिस कारण से मौत के आंकड़े बढ़ रहे हैं। 

डीएम ने की CMHO से बात 

वहीं इस पूरे मामले में पन्ना जिले के डीएम सुरेश कुमार ने CMHO से बात की है और अपने ही दिए हुए आंकड़ो को स्वास्थ विभाग ने रिव्यू करने की बात कही है। अब सवाल यह है कि आखिर कब शिशु मृत्युदर में गिरावट आएगी ये देखने वाली बात है।

रिपोर्ट- अमित सिंह 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें मध्य-प्रदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement