1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. शिव नादर ने HCL टेक के एमडी पद से इस्तीफा दिया, सी विजयकुमार का सौंपी जिम्मेदारी

शिव नादर ने HCL टेक के एमडी पद से इस्तीफा दिया, सी विजयकुमार का सौंपी जिम्मेदारी

भारतीय आईटी क्षेत्र के विकास में अग्रणी भूमिका निभाने वाले शिव नादर ने एचसीएल टेक्नोलॉजीज के प्रबंध निदेशक और बोर्ड के सदस्य के पद से इस्तीफा दे दिया है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 20, 2021 10:28 IST
शिव नादर ने HCL टेक के...- India TV Paisa
Photo:HCL TECH

शिव नादर ने HCL टेक के एमडी पद से इस्तीफा दिया, सी विजयकुमार का सौंपी जिम्मेदारी

नयी दिल्ली। भारतीय आईटी क्षेत्र के विकास में अग्रणी भूमिका निभाने वाले शिव नादर ने एचसीएल टेक्नोलॉजीज के प्रबंध निदेशक और बोर्ड के सदस्य के पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि पिछले ही साल जुलाई में नादर ने अपनी बेटी रोशनी नादर मल्होत्रा को आईटी प्रमुख की बागडोर सौंपी थी। पिछले साल जुलाई में, नादर ने अध्यक्ष की भूमिका से इस्तीफा दे दिया था और रोशनी ने उनकी जगह ली थी। इसी के साथ ही रोशनी नादर एक सूचीबद्ध भारतीय आईटी कंपनी की अध्यक्षता करने वाली पहली महिला बनीं।

कंपनी के शिव नादर की जगह मौजूदा अध्यक्ष और सीईओ सी विजयकुमार को कंपनी का नया प्रबंध निदेशक बनाया है। विजयकुमार 20 जुलाई से पांच साल की अवधि के लिए कंपनी के सीईओ और एमडी के पद पर रहेंगे। सोमवार को नियामक को दी जानकारी के अनुसार, 76 वर्षीय शिव नादर, अब कंपनी के बोर्ड के अध्यक्ष एमेरिटस और रणनीतिक सलाहकार की भूमिका निभाएंगे। कंपनी ने बताया कि नादर को इस नई भूमिका के तहत पारिश्रमिक का भुगतान या कोई भी सुविधा प्रदान करने के लिए शेयरधारकों की मंजूरी ली जाएगी। 

शिव नादर भारत में कंप्यूटिंग और आईटी उद्योग के अग्रणी हैं। 1976 में, उन्होंने एचसीएल समूह की स्थापना की, जिसने एक प्रौद्योगिकी हार्डवेयर कंपनी के रूप में शुरुआत की, देश के पहले स्वदेशी कंप्यूटरों का निर्माण किया और फिर एक अधिक व्यापक सॉफ्टवेयर सेवा वैश्विक संगठन में विकसित हुआ।

नादर के नेतृत्व में, एचसीएल को 1978 में पहले 8-बिट माइक्रोप्रोसेसर-आधारित कंप्यूटर और 1989 में दुनिया का पहला फाइन-ग्रेन मल्टी-प्रोसेसर UNIX इंस्टॉलेशन के साथ 'मेड इन इंडिया' आईटी उत्पाद नवाचारों का श्रेय दिया जाता है। एचसीएल ने नोकिया के साथ सबसे बड़े मोबाइल वितरण नेटवर्क के निर्माण के माध्यम से भारत की दूरसंचार क्रांति का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

अपने उद्योग के साथी अजीम प्रेमजी की तरह, नादर ने भी परोपकारी गतिविधियों पर अपने प्रयासों और शिक्षा सहित विभिन्न पहलों का समर्थन करने पर ध्यान केंद्रित किया है। 1994 में, पद्म भूषण प्राप्तकर्ता ने शिव नादर फाउंडेशन की स्थापना की। मार्च 2021 तक, शिव नादर फाउंडेशन ने परिवर्तनकारी शिक्षा के संस्थान बनाने के लिए लगभग 988 मिलियन अमरीकी डालर का निवेश किया था जो भारत की अगली पीढ़ी के लीडर्स का पोषण कर रहे हैं।

Write a comment
Click Mania
bigg boss 15