Monday, February 26, 2024
Advertisement

Karauli Communal Violence: कर्फ्यू जारी, 46 उपद्रवी गिरफ्तार, गहलोत ने बीजेपी पर लगाए यह आरोप

राजस्थान के करौली में हिंदू नववर्ष के दौरान पथराव के बाद भड़की हिंसा के बाद लगाया गया कर्फ्यू जारी है। 46 लोग गिरफ्तार किए गए। सीएम गहलोत ने हिंसा के मामले में बीजेपी पर आरोप लगाए हैं।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 04, 2022 7:22 IST
Ashok Gehlot, CM Rajasthan- India TV Hindi
Image Source : ANI FILE PHOTO Ashok Gehlot, CM Rajasthan

जयपुर। राजस्थान के करौली जिले में हिंदू नववर्ष पर मुस्लिम बहुल इलाके से गुजर रही मोटरसाइकिल रैली के दौरान पथराव के बाद सांप्रदायिक तनाव हो गया था, इसके बाद शनिवार को करौली में कर्फ्यू लगा दिया गया था। यह कर्फ्यू रविवार को भी जारी रहा। इसी बीच 46 उपद्रवियों को करौली हिंसा के मामले में गिरफ्तार किया गया है। सांप्रदायिक हिसा की जांच के लिये एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है। उपद्रव की इन घटनाओं में लगभग 35 लोग घायल हो गए हैं। इसी बीच सीएम अशोक गहलोत ने बीजेपी को इस हिंसा के लिए कटघरे में खड़ा किया है और कई आरोप लगाए हैं। 

भरतपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक प्रसन्न कुमार खमेसरा ने बताया कि शनिवार को फूटा कोट क्षेत्र मेन बाजार करौली में जुलूस के दौरान हुए पथराव के बाद पुलिस ने  कार्रवाई करते हुए 46 लोगों को गिरफ्तार किया है और 7 लोगों को पूछताछ के लिए पुलिस हिरासत में लिया गया है। उन्होंने बताया कि थाना कोतवाली करौली में दर्ज मामले में 13 आरोपियों को तथा 33 लोगों को कर्फ्यू के आदेश का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इस दौरान कुल 21 दुपहिया और चारपहिया वाहन भी पुलिस ने जब्त किये हैं।

पुलिस ने निकाला फ्लैग मार्च

खमेसरा ने बताया कि ‘कानून एवं व्यवस्था को बनाये रखने के लिए शहर में जगह-जगह पुलिस हालात पर नजर रखे हुए है। शहर में पुलिस ने फ्लैग मार्च भी निकाला। अभी हालात नियंत्रण में हैं लेकिन एहतियात के तौर पर कर्फ्यू लगाया गया है।’

शरारती तत्वों के जुलूस पर पथराव के बाद भड़की थी हिंसा

करौली शहर में शनिवार को यह घटना उस वक्त हुई जब हिन्दू संगठनों द्वारा नवसंवत्सर पर आयोजित एक बाइक रैली मुस्लिम बहुल इलाके से गुजर रही थी। तभी कुछ शरारती तत्वों ने पथराव किया। इसके बाद हिंसा भड़क गई और उपद्रवियों ने कुछ दुकानों और मोटरसाइकिलों को आग के हवाले कर दिया। घटना में कई दुकानें, वाहन और अन्य सामान क्षतिग्रस्त हो गये।

बंद रहीं मोबाइल इंटरनेट सेवाएं, हिंसा के वायरल वीडियो की जांच

करौली में रविवार को भी मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित रहीं। पुलिस ने बताया कि सोशल मीडिया पर हिंसा के वीडियो वायरल हुए हैं, जिनकी जांच जयपुर में की जा रही है। वहीं, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने निवास पर समीक्षा बैठक की और आवश्यक दिशा निर्देश दिये। करौली के जिलाधिकारी राजेन्द्र सिंह शेखावत ने बताया स्थिति को नियंत्रण में लेने के लिये लगभग 1200 पुलिसकर्मी तैनात किये गये हैं। उन्होंने बताया कि घटना की जांच के लिये एसआईटी गठित कर जांच प्रारंभ कर दी गई है। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जायेगी। शेखावत ने बताया कि दो अप्रैल की घटना से कानून एवं शांति व्यवस्था प्रभावित हुई है। इस संबंध में अच्छे कम्यूनिकेशन और कॉर्डिनेशन के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है। 

कर्फ्यू में आज दो घंटे की मिलेगी छूट

जिलाधिकारी ने बताया कि दूध, सब्जी सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिये सोमवार को सुबह 8 बजे से 10 बजे तक की कर्फ्यू से छूट प्रदान की गई है। उन्होंने बताया कि कर्फ्यू के दौरान केन्द्र, राज्य सरकार के कार्यालय, अदालतें खुली रहेंगी और राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा जारी रहेगी। आवश्यक सेवाओं को बंद में छूट दी गई है। 

पुलिस उपमहानिरीक्षक राहुल प्रकाश ने बताया कि घटना की जांच के लिये अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है। अधिकारी ने बताया कि लगभग 30 लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें से एक दर्जन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस महानिदेशक से बात कर वर्तमान स्थिति पर पूरी विस्तृत जानकारी ली है।

​​कांग्रेस और बीजेपी के बीच वाकयुद्ध, गहलोत ने बीजेपी को बताया जिम्मेदार

सांप्रदायिक हिंसा से राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया है। इसी बीच, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रविवार को बाडमेर से जयपुर लौट आये और उन्होंने अधिकारियों के साथ एक बैठक की। गहलोत ने कहा कि प्रदेश में कहीं भी साम्प्रदायिक सौहार्द को नुकसान पहुंचाने में शामिल तत्वों की पहचान कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि अपराधी चाहे किसी धर्म, जाति या वर्ग का हो, अपराध में उसकी संलिप्तता पाये जाने पर उसे बख्शा नहीं जाएगा। 

योगी सरकार पर भी गहलोत ने निशाना साधा

इससे पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने बाडमेर में धर्म और जाति के नाम पर हो रहे तनाव के लिये केन्द्र और भाजपा की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही, उन्होंने भाजपा और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार पर भी निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने शनिवार को करौली में और रविवार को ब्यावर में हुई घटना के लिये भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। गहलोत ने कहा, ‘प्रधानमंत्री को अपील करनी चाहिए कि जाति और धर्म के नाम पर जगह जगह धुव्रीकरण बंद हो। यह उचित नहीं है। इसी कारण देश में जगह जगह तनाव हो रहा है। करौली की घटना आपके सामने है। आज ब्यावार में छोटी सी बात को लेकर झगड़ा हो गया। एक व्यक्ति की हत्या हो गई।’ उन्होंने कहा, ‘अब इस तरह के विवाद को भी जाति धर्म के का रंग दे दिया जाता है। झगड़ने वालों का धर्म अलग-अलग है, इसे मुद्दा बनाया जाता है। 

बीजेपी ने भी तथ्यात्मक जांच के लिए 10 सदस्यों की कमेटी बनाई

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने करौली में आगजनी, पत्थरबाजी की घटना के मामले की तथ्यात्मक जांच के लिये 10 सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी घटनास्थल पर जाकर सभी पक्षों से बात कर तथ्यात्मक जानकारी जुटाएगी और प्रदेश अध्यक्ष को तथ्यात्मक रिपोर्ट सौंपेगी। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें राजस्थान सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement