Friday, March 01, 2024
Advertisement

राजेश पायलट का पीएम मोदी ने किया जिक्र तो मचा बवाल, अशोक गहलोत बोले- गुर्जरों को भड़काने का कर रहे काम

राजस्थान विधानसभा चुनाव के मद्देनजर 25 नवंबर को वोटिंग होने वाली है। 3 दिसंबर को चुनाव के परिणाम घोषित होंगे। इस बीच पीएम मोदी द्वारा राजेश पायलट का चुनाव प्रचार के दौरान नाम लिया गया। इसके बाद से अब विवाद छिड़ गया है। इसपर अब अशोक गहलोत ने जवाब दिया है।

Avinash Rai Written By: Avinash Rai @RaisahabUp61
Published on: November 23, 2023 13:42 IST
Rajasthan Assembly election PM Narendra Modi mentioned Rajesh Pilot during campaign Ashok Gehlot sai- India TV Hindi
Image Source : PTI राजेश पायलट का पीएम मोदी ने किया जिक्र तो मचा बवाल

Rajasthan Assembly Election: राजस्थान विधानसभा चुनाव के मद्देनजर 25 नवंबर को वोटिंग होने वाली है। इससे पहले राजेश पायलट के जिक्र ने राज्य की राजनीति में भूचाल ला दिया है। दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा ने चुनाव प्रचार कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि गांधी परिवार से अदावत लेने की सजा राजेश पायलट का बेटा आज भी भुगत रहा है। बता दें कि पीएम मोदी के इस बयान पर सचिन पायलट ने कहा कि पीएम मोदी का यह दावा तथ्यों के परे हैं। उन्होंने कहा, कांग्रेस के नेताओं के बहाने पीएम मोदी गांधी परिवार पर हमला करने से नहीं चूकते हैं। पहले भी भाजपा के नेताओं द्वारा नरसिम्हा राव, जितेंद्र प्रसाद और सीताराम केसरी के साथ किए गए बर्ताव को लेकर हमला किया जा चुका है। 

Related Stories

राजेश पायलट के नाम से गरमाई राजनीति

पीएम मोदी के बयान पर राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। अशोक गहलोत ने इस बाबत बयान देते हुए कहा कि पीएम मोदी अपनी हार से इतना बौखला चुके हैं कि उन्होंने स्वर्गीय राजेश पायलट को चुनाव का मुद्दा बना दिया। वे (पीएम मोदी) गुर्जर समुदाय को भड़काने का प्रयास कर रहे हैं। गहलोत ने कहा, 'भाजपा के राज में ङी फायरिंग की 22 घटनाएं हुईं, जिसमें गुर्जर समाज के कई लोग मारे गए थे। भाजपा की सरकार तक चली गई और जब मैं मुख्यमंत्री बना तो उन्हें भाईचारे और प्यार से समझाया और उन्हें आरक्षण दिया। आज ये गुर्जर समाज के बारे में किस मुंह से बात कर रहे हैं।'

राजेश पायलट कौन थे?

सचिन पायलट के पिता राजेश पायलट की खासियत यह थी कि वे अपने पार्टी और सरकार के खिलाफ हमेशा खुलकर बोलते थे। राजीव गांधी और संजय गांधी के करीबी पायलट कई बार कांग्रेस हाईकमान को अपने तेवर दिखा दिया करते थे। हालांकि तमाम विवादों के बावजूद राजेश पायलट ने कांग्रेस पार्टी नहीं छोड़ी। साल 1980 में पहली बार उन्होंने भरतपुर से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीतकर संसद पहुंचे। साल 1984 में दौसा से दूसरी बार वो सांसद बनें। उसके बाद जून 1991 में नरसिम्हा राव की सरकार में उन्हें आंतरिक सुरक्षा और संचार मंत्री बनाया गया। 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें राजस्थान सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement