Friday, February 23, 2024
Advertisement

Kaal Bhairav Jayanti 2023 Upay: काल भैरव जंयती पर आजमाएं इन 11 उपायों में से कोई एक, इसमें छिपा है आपके जीवन की हर समस्या का समाधान

आज मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है। आज भगवान शिव के पांचवे रुद्रावतार बाबा काल भैरव की जंयती है। काल भैरव बाबा अपने भक्तों की संकट से रक्षा करते हैं। आइए आचार्य इंदु प्रकाश से जानते हैं बाबा भैरव नाथ का आशीर्वाद पाने के लिए आज के दिन कौन से उपाय करने चाहिए।

Written By : Acharya Indu Prakash Edited By : Aditya Mehrotra Published on: December 05, 2023 6:00 IST
Kaal Bhairav Jayanti 2023- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Kaal Bhairav Jayanti 2023

Kaal Bhairav Jayanti 2023 Upay: आज 5 दिसंबर 2023 दिन मंगलवार है। आज श्री महाकाल भैरव अष्टमी है। माना जाता है कि आज, यानि मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को काल भैरव की उत्पत्ति हुई थी। काल भैरव भगवान शिव का ही एक रूप हैं। आज के दिन काल भैरव की विशेष रूप से उपासना की जाती है। महादेव के ये पांचवे रुद्रावतार कहलाए जाते हैं। श्री भैरव नाथ अपने भक्तों पर बड़ी जल्दी कृपालु हो जाते हैं। इनकी उपासना बड़ी ही फलदायी मानी जाती है। आज के दिन श्री भैरव की उपासना से व्यक्ति को हर तरह की परेशानी से छुटकारा मिल जाता है।

बाबा भैरव नाथ उपासना करने से व्यक्ति को शीघ्र ही कर्ज से, निगेटिवीटी से, शत्रुओं से और मुकदमे के साथ ही भय, स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या आदि से भी छुटकारा मिलता है। साथ ही जीवन में विजय मिलती है और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। अतः आज के दिन श्री भैरवनाथ की उपासना अवश्य ही करनी चाहिए। इनकी कृपा से हर तरह का संकट टल जाता हैं और व्यक्ति को खुशहाली मिलती है। आइए जानते हैं आचार्य इंदु प्रकाश से आज के दिन किए जाने वाले उपायों के बारे में।

बाब काल भैरव की कृपा पाने के लिए आज करें ये उपाय

  1. अगर आप अपने बिजनेस को दूर शहरों या विदेशों में फैलाना चाहते हैं। तो उसके लिये आज के दिन किसी भैरव मन्दिर में जाकर भैरव जी को सवा सौ ग्राम साबुत उड़द चढ़ाएं और चढ़ाने के बाद उसमें से 11 उड़द के दाने गिनकर अलग निकाल लें और उन्हें एक काले कपड़े में बांधकर अपने कार्यस्थल पर तिजोरी में रख दें। साथ ही ध्यान रखें कि दानों को कपड़े में रखते समय हर दाने के साथ ये मंत्र पढ़ें। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। आज के दिन ऐसा करने से आपका बिजनेस दूर शहरों और विदेशों तक फैलेगा।
  2. अगर आप अपने सुख-साधनों में बढ़ोतरी करना चाहते हैं। तो आज के दिन आपको भैरव जी के आगे मिट्टी के दीपक में सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए और दीपक जलाते समय दो बार मंत्र पढ़ना चाहिए। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। साथ ही भैरव जी से अपने सुख-साधनों में बढ़ोतरी के लिये प्रार्थना करनी चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आपके सुख-साधनों में निश्चय ही बढ़ोतरी होगी।
  3. अगर आप आत्मविश्वास और साहस से भरपूर रहना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको भैरव जी के साथ ही अपने पितरों की भी पूजा करनी चाहिए और अपने पितरों के निमित्त तर्पण करना चाहिए। साथ ही किसी ब्राह्मण को श्रद्धापूर्वक भोजन खिलाना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आप आत्मविश्वास और साहस से भरपूर रहेंगे।
  4. अगर आपको जीवन में कोई परेशानी है। तो उसे अपने जीवन से दूर करने के लिये आज के दिन आपको सरसों के तेल में चुपड़ी हुई एक रोटी लेकर काले कुत्ते को डालनी चाहिए। रोटी पर तेल चुपड़ते समय भैरव का ध्यान करते हुए 5 बार मंत्र का जप करना चाहिए। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। आज के दिन ऐसा करने से आपके जीवन में जो भी परेशानी हैं, वो जल्द ही दूर हो जायेंगी।
  5. अगर आपको किसी प्रकार का भय बना रहता है, तो उस भय से छुटकारा पाने के लिये आज के दिन आपको भैरव जी के चरणों में एक काले रंग का धागा रखना चाहिए। उस धागे को 5 मिनट के लिये वहीं पर रखा रहने दीजिये और इस दौरान मंत्र का जाप कीजिये। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। 5 मिनट बाद उस धागे को वहां से उठाकर अपने दायें पैर में बांध लीजिये। आज ये उपाय करने से आपको जल्द ही भय से छुटकारा मिलेगा।
  6. अगर आपके जीवनसाथी को किसी प्रकार की परेशानी बनी हुई है, जिसके कारण आप भी परेशान हैं। तो अपनी और अपने जीवनसाथी की परेशानी को दूर करने के लिये आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद शिव जी की प्रतिमा के आगे आसन बिछाकर बैठना चाहिए और शिव चालीसा का पाठ करना चाहिए। शिव चालीसा के पाठ के बाद एक बार भैरव के मंत्र का भी जप करना चाहिए। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। आज के दिन ऐसा करने से आपके जीवनसाथी की परेशानी दूर होगी, जिससे आपकी भी परेशानी का हल निकलेगा।
  7. अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे को बुरी नजर लगी है, जिसके असर के चलते आपका बच्चा तरक्की नहीं कर पा रहा है तो आज के दिन एक मुट्ठी उड़द लेकर, भैरव बाबा का ध्यान करते हुए अपने बच्चे के सिर से सात बार वार दें। ध्यान रहे छ बार क्लॉक वाइज़ और एक बार एंटी क्लॉक वाइज़ वारना है। वारने के बाद उन उड़द को किसी बहते पानी के स्रोत में प्रवाहित कर दें और उड़द प्रवाहित करते समय मंत्र का जाप करें। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ। आज के दिन ऐसा करने से आपके बच्चे को लगी हुई बुरी नजर का असर खत्म होगा और वह तरक्की की ओर कदम बढ़ायेगा।
  8. अगर आप अपने आस-पास से निगेटिविटी को दूर रखना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको एक काले कपड़े में सवा किलो उड़द की दाल लेकर भैरव जी को चढ़ानी चाहिए और बैठकर भैरव ही के इस मन्त्र का एक माला यानि 108 बार जप करना चाहिए। मन्त्र है- आज के दिन ऐसा करने से आपके आस-पास निगेटिविटी नहीं रहेगी।
  9. अगर आप अपने आर्थिक रूप से लाभ को और अधिक बढ़ाना चाहते हैं। तो आज के दिन आपको स्नान आदि के बाद भैरव जी की विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए और उन्हें जलेबी का भोग लगाना चाहिए । साथ ही उनके मंत्र का जाप करना चाहिए। मन्त्र है- ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ।
  10. आज के दिन आपको एक कच्चा, जटावाला नारियल लेकर श्री भैरव का ध्यान करते हुए उसे जमीन पर फोड़ना चाहिए और फोड़ने के बाद उसके टुकड़ों को बहते जल में प्रवाहित कर देना चाहिए। इसके बाद मन ही मन भैरव जी का ध्यान करके उनके मंत्र का जप करें। मन्त्र है- ‘ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ‘आज के दिन ऐसा करने से आपको अपनी दुविधा से निकलने में आसानी होगी।
  11. अगर आपको लगता है कि आपके घर में निगेटिविटी बहुत अधिक हो गई है, जिसकी वजह से आपके परिवार के लोगों का किसी काम में अच्छे से मन नहीं लगता, तो आज के दिन आपको मौली से एक लंबा-सा धागा निकालकर, उसमें सात गांठे लगाकर अपने घर के मेन गेट पर बांधना चाहिए।एक-एक गांठ लगाते समय मंत्र का जप भी करें। मन्त्र है- ‘ऊँ ह्रीं बटुकाय आपद्उद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ऊँ’ आज के दिन ऐसा करने से आपके घर से निगेटिविटी दूर होगी और आपके परिवार के लोगों का काम में मन लगने लगेगा। 

(आचार्य इंदु प्रकाश देश के जाने-माने ज्योतिषी हैं, जिन्हें वास्तु, सामुद्रिक शास्त्र और ज्योतिष शास्त्र का लंबा अनुभव है। इंडिया टीवी पर आप इन्हें हर सुबह 7.30 बजे भविष्यवाणी में देखते हैं।)

ये भी पढ़ें-

05 December 2023 Ka Panchang: जानिए मंगलवार का पंचांग, राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय

अकाल मृत्यु को भी मात देने वाले महामृत्युंजय मंत्र की कैसे हुई थी रचना? पढ़ें इसकी रहस्यमयी कथा

 

 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Festivals News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement