Friday, May 17, 2024
Advertisement

अद्भुत: अंतरिक्ष में मिला सबसे बड़ा ब्लैकहोल, इसमें समा जाएंगे 33 सूर्य, जानते हैं क्या है नाम?

अंतरिक्ष में वैज्ञानिकों ने अबतक के सबसे बड़े ब्लैक होल की खोज की है जिसमें 33 सूर्य समा सकते हैं। इसका नाम भी कुछ अनोखा रखा गया है। जानिए इसके बारे में रोचक तथ्य-

Edited By: Kajal Kumari @lallkajal
Updated on: April 17, 2024 11:32 IST
bigger black hole- India TV Hindi
Image Source : SOCIAL MEDIA अंतरिक्ष में मिला सबसे बड़ा ब्लैक होल

मंगलवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, खगोलविदों ने आकाशगंगा में अब तक खोजे गए सबसे बड़े तारकीय ब्लैक होल की पहचान कर ली है, जिसका द्रव्यमान सूर्य से 33 गुना अधिक है।

इसका नाम Gaia BH3 रखा गया है। इस नाम के ब्लैक होल की खोज यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के Gaia मिशन द्वारा एकत्र किए गए डेटा से अचानक "संयोग से" की गई थी, ऑब्जर्वेटोएरे डी पेरिस में नेशनल सेंटर फॉर साइंटिफिक रिसर्च (सीएनआरएस) के एक खगोलशास्त्री पास्क्वेले पैनुज़ो ने एएफपी न्यूज एजेंसी को बताया। Gaia, जो मिल्की वे आकाशगंगा का सबसे बड़ा ब्लैक होल है, वह एक्विला तारामंडल में पृथ्वी से BH3 2,000 प्रकाश वर्ष दूर स्थित है।

खगोलविदों ने बताया-ये है अद्भुत

चूंकि Gaia की दूरबीन आकाश में तारों की सटीक स्थिति दे सकती है, खगोलविद उनकी कक्षाओं को चिह्नित करने और तारों के अदृश्य द्रव्यमान को मापने में सक्षम थे, उन्होंने पता लगाया कि ऐसा बड़ा ब्लैकहोल है जो सूर्य के द्रव्यमान का 33 गुना ज्यादा बड़ा है। उन्होंने बताया कि ज़मीन पर मौजूद दूरबीनों से देखे जाने के बाद यह पुष्टि हुई कि यह एक ब्लैक होल था जिसका द्रव्यमान आकाशगंगा में पहले से मौजूद तारकीय ब्लैक होल से कहीं अधिक था। 

पनुज़ो ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "किसी को भी आस-पास छुपे हुए उच्च द्रव्यमान वाले ब्लैक होल को खोजने की उम्मीद नहीं थी, जिसका अब तक पता नहीं चला है। इस तरह की खोज आप अपने शोध जीवन में एक ही बार करते हैं।"

कैसे बनाता है ब्लैक होल

तारकीय ब्लैक होल की खोज तब हुई जब वैज्ञानिकों ने इसकी परिक्रमा कर रहे एक साथी तारे पर एक "डगमगाती" गति देखी।  पनुज़ो ने कहा, "हम सूर्य से थोड़ा छोटा (अपने द्रव्यमान का लगभग 75 प्रतिशत) और अधिक चमकीला तारा देख रहे थे, जो एक अदृश्य तारे के चारों ओर घूम रहा था।"

पानुज़ो ने कहा, तारकीय ब्लैक होल अपने जीवन के अंत में विशाल तारों के ढहने से बनते हैं और सुपरमैसिव ब्लैक होल से छोटे होते हैं जिनकी रचना अभी भी अज्ञात है। गुरुत्वाकर्षण तरंगों के माध्यम से दूर की आकाशगंगाओं में ऐसे दिग्गजों का पहले ही पता लगाया जा चुका है लेकिन यह अब भी कम ही है।

उन्होंने बताया कि दरअसल, BH3 एक "निष्क्रिय" ब्लैक होल है और यह अपने साथी तारे से इतना दूर है कि इसका पदार्थ उससे अलग नहीं हो पाता है और इसलिए कोई एक्स-रे उत्सर्जित नहीं करता है - जिससे इसका पता लगाना मुश्किल हो जाता है।

Gaia की दूरबीन ने आकाशगंगा में पहले दो निष्क्रिय ब्लैक होल (गैया BH1 और गैया BH2) की पहचान की है। Gaia पिछले 10 वर्षों से पृथ्वी से 1.5 मिलियन किलोमीटर दूर संचालित हो रहा है और 2022 में 1.8 बिलियन से अधिक सितारों की स्थिति और गति का 3डी मानचित्र भेज चुका है।

 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement