1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. दिल्ली
  4. दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू हटेगा, खुलेंगे स्कूल ? आज होगी DDMA की अहम बैठक

दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू हटेगा, खुलेंगे स्कूल ? आज होगी DDMA की अहम बैठक

DDMA की अहम बैठक आज होनेवाली है जिसमें वीकेंड कर्फ्यू हटाने पर फैसला लिया जा सकता है।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: January 27, 2022 7:22 IST
अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली- India TV Hindi
Image Source : PTI अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

Highlights

  • आज होगी DDMA की अहम बैठक
  • स्कूल खोलने और वीकेंड कर्फ्यू खत्म करने पर हो सकता है फैसला
  • कोरोना संक्रमण बढ़ने के बाद वीकेंड कर्फ्यू लागू किया गया था

नयी दिल्ली: दिल्ली सरकार आज वीकेंड कर्फ्यू हटाने पर कोई बड़ा फैसला ले सकती है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में प्रतिबंधों में ढील देने पर विचार-विमर्श के लिए आज बैठक बुलाई है। बैठक में वीकेंड कर्फ्यू हटाने के साथ ही स्कूलों को खोलने पर भी विचार किया जा सकता है। 

कारोबारियों ने वीकेंड कर्फ्यू हटाने की मांग की

उधर, दिल्ली के सदर बाजार के कारोबारियों ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से महामारी की तीसरी लहर में लगाए गए वीकेंड कर्फ्यू को हटाने की मांग की है। इसके अलावा व्यापारियों ने सम-विषम आधार पर दुकानें खोलने की व्यवस्था को भी बंद करने का अनुरोध किया है। फेडरेशन ऑफ सदर ट्रेडर्स एसोसिएशन ने सोमवार को उपराज्यपाल को भेजे गए एक ज्ञापन में कहा कि तीसरी लहर के दौरान अब कोविड संक्रमण के नए मामलों में गिरावट आ गई है, लिहाजा दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) को अपनी पाबंदियों में ढील देने पर विचार करना चाहिए। बता दें कि बैजल इस प्राधिकरण के प्रमुख हैं।

दिल्ली सरकार स्कूलों को फिर से खोलने की करेगी सिफारिश
वहीं दिल्ली सरकार आज होने वाली डीडीएमए की बैठक में राष्ट्रीय राजधानी के स्कूलों को फिर से खोलने की सिफारिश करेगी क्योंकि बच्चों के सामाजिक और भावनात्मक कल्याण को और अधिक नुकसान से बचाने के लिए यह जरूरी हो गया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को यह टिप्पणी की। सिसोदिया ने जोर दिया कि ऑनलाइन शिक्षा कभी भी ऑफलाइन शिक्षा की जगह नहीं ले सकती। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने स्कूलों को उस समय बंद कर दिया था जब यह बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं था, लेकिन अब अत्यधिक सावधानी छात्रों को नुकसान पहुंचा रही है। 

स्कूली बच्चों का जीवन उनके कमरों तक सीमित-सिसोदिया
सिसोदिया ने कहा, "पिछले दो सालों में स्कूली बच्चों का जीवन उनके कमरों तक ही सीमित रह गया है। स्कूल जाने और खेल के मैदानों में समय बिताने के बजाय, उनकी सारी गतिविधियां अब सिर्फ मोबाइल फोन पर ही होती हैं।’’ सिसोदिया दिल्ली के शिक्षा मंत्री भी हैं। उन्होंने कहा, "महामारी के कारण स्कूल बंद होने से न केवल उनकी पढ़ाई बल्कि उनके मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ा है। कोविड के दौरान, हमारी प्राथमिकता बच्चों की सुरक्षा थी। लेकिन अब विभिन्न शोधों में पाया गया है कि कोविड बच्चों के लिए बहुत हानिकारक नहीं है, इसलिए स्कूलों को फिर से खोलना अहम है और अब परीक्षाएं तथा संबंधित तैयारियों का भी समय है।" सिसोदिया ने कहा कि कई देशों और यहां तक ​​कि कई भारतीय राज्यों में भी स्कूल फिर से खुलने लगे हैं। उन्होंने कहा, "इसी आधार पर, दिल्ली सरकार 27 जनवरी को डीडीएमए की बैठक में स्कूलों को फिर से खोलने की सिफारिश करेगी।

erussia-ukraine-news