Tuesday, May 21, 2024
Advertisement

Explainer: चुनाव से पहले ही तीसरे कार्यकाल की कर ली पूरी तैयारी? PM मोदी के इंटरव्यू को गहराई से समझे

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक इंटरव्यू दिया है। इस इंटरव्यू में उन्होंने विजन 2047, लोकसभा चुनाव 2024, भारत का विकास, इलेक्टोरल बॉन्ड समेत कई मुद्दों पर खुलकर बात की।

Written By: Khushbu Rawal @khushburawal2
Updated on: April 16, 2024 11:10 IST
pm modi- India TV Hindi
Image Source : X- ANI प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

लोकसभा चुनाव की गर्माहट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ कर दिया कि उन्होंने अपने तीसरे कार्यकाल की तैयारी शुरू कर ली है। इतना ही नहीं, उन्होंने अपने 100 दिन का प्लान भी तैयार कर लिया है। इस बात का खुलासा कल उन्होंने न्यूज एजेंसी ANI को दिए इंटरव्यू में किया। इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने बताया कि 2019 में भी उनकी सरकार ने पहले 100 दिनों का प्लान तैयार किया था। सरकार में आने के बाद उसपर काम भी हुए। उन्होंने कहा, मैं एक मिनट भी बर्बाद नहीं करना चाहता। जब वापस आया तो धारा 370, तीन तलाक को निरस्त किया। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि वह सिर्फ एक बेटे की तरह भारत माता की सेवा कर रहे हैं और यही उनका मिशन है।

पीएम मोदी ने 2047 तक विकसित भारत के लिए अपना दृष्टिकोण सामने रखा। उनके भाषणों में 2024 नहीं 2047 लक्ष्य है, इसके जिक्र को लेकर भी उन्होंने इंटरव्यू में जवाब दिए और अपने तीसरे टर्म का एजेंडा बता दिया। उन्होंने 2047 तक विकसित भारत के लिए अपना दृष्टिकोण सामने रखा। इस इंटरव्यू में उन्होंने अपने 100 दिन के प्लान के बारे में बात करने के साथ ही कई मुद्दों पर बात की। तो आइए जानते हैं वो तमाम बातें जिनसे यह पता चलेगा कि पीएम मोदी ने अपने तीसरे कार्यकाल को लेकर कैसी तैयारी कर रखी है-

  1. 2047 का विजन- पीएम मोदी ने बताया कि उनका विजन 2047 कैसे काम करेगा। अपने विजन 2047 के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा, "जब मैं कहता हूं कि मेरे बड़े-बड़े प्लान हैं और बड़े-बड़े फैसले हैं तो मेरे निर्णय किसी को डराने या दबाने के लिए नहीं हैं। मेरे फैसले देश के सर्वांगीण विकास के लिए हैं, सर्वकल्याण के लिए हैं। मैं कभी भी समय खराब नहीं करना चाहता हूं।"
  2. 2024 नहीं 2047 लक्ष्य- पीएम मोदी ने कहा कि 2024 और 2047, दोनों अलग-अलग हैं। जब देश आजादी के 75 साल बाद अमृत महोत्सव मना रहा था, उसी समय मैंने ये विषय सबके सामने रखना शुरू किया था आज से एक दो वर्ष पहले कि 2047 को देश की आजादी के 100 साल पूरे होंगे। स्वभाविक रूप से ऐसे माइलस्टॉन होते हैं, वो एक प्रकार से नया उत्साह भरते हैं और नए संकल्प के लिए व्यक्ति को भरते हैं। जो अब हम 100 साल आजादी के पूरे करेंगे तो इस 25 साल का सर्वाधिक उपयोग हम कैसे करेंगे। हर कोई अपना एक लक्ष्य बनाए जैसे एक ग्राम प्रधान लक्ष्य बनाए कि वह 2024 तक अपने गांव में इतना कुछ करेगा।
  3. 'अभी तक मैंने सब कुछ नहीं किया है'-  पीएम मोदी ने तीसरे कार्यकाल की तैयारी अभी से कर ली है। इसको लेकर उन्होंने कहा, मैं नहीं मानता हूं कि अभी तक मैंने सब कुछ कर लिया है। बहुत कुछ है जो मुझे अभी भी करना है क्योंकि मैं देखता हूं कि मेरे देश की अभी भी कितनी आवश्यकताए हैं। हर परिवार का सपना, वो सपना कैसे पूरा होगा, ये मेरे दिल में है इसलिए मैं कहता हूं जो हुआ है वो ट्रेलर है।
  4. 'चुनाव में जाने से पहले प्लान बनाना शुरू कर दिया था'-  पीएम ने कहा, मैं बहुत अधिक करना चाहता हूं। मैंने चुनाव में जाने से पहले प्लान बनाना शुरू कर दिया था। मैं पिछले दो साल से 2047 को ध्यान में रखकर काम रह था इसलिए मैंने देश के करीब 15 लाख लोगों के सुझाव लिए हैं कि वो आने वाले 25 सालों में देश को कैसे देखना चाहते हैं। 15-20 लाख लोगों ने अपना सुझाव दिया है। उन्होंने बताया  कि सभी ने इनपुट भेजा, फिर एआई के इस्तेमाल से मैंने विजन बनाया। इसके बाद हर विभाग में अगले 25 सालों तक के लिए ऑफिसरों की टीम बनाई और फिर मैंने खुद बैठक कर उसके बारे में समझा।"
  5. कैसे होगा विजन पर काम?- पीएम मोदी ने आगे कहा, ये प्लान मोदी की बपौती नहीं है, ये 15-20 लाख लोगों के विचार हैं। मैं डॉक्यूमेंट के रूप में इसे तैयार कर रहा हूं। चुनाव के बाद इस प्लान को सभी राज्यों स्टेट को भेज दिया जाएगा। इस प्लान पर फिर सभी राज्य काम करेंगे। ये प्लान सिर्फ बीजेपी शासित राज्यों के लिए नहीं होगा। इसके बाद फिर मैं नीति आयोग की बैठक बुलाउंगा और फिर चर्चा करूंगा। इसके बाद फाइनल रिजल्ट सामने आएगा।
  6. क्या है पीएम की ताकत?- पीएम मोदी ने बताया कि उनकी सबसे बड़ी ताकत जनता है। उन्होंने कहा कि जनता मुझे मां भारती का बेटा मानती है। हम जो कहते हैं, जनता को उस पर भरोसा है। जनता का भरोसा ही मेरी सबसे बड़ी ताकत है।
  7. ED की तारीफ की- पीएम ने ईडी के काम की तारीफ करते हुए कहा, ईडी ने ज्यादातर जो केस रजिस्टर किए हैं, वह उन लोगों के खिलाफ हैं, जिनका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि ईमानदार आदमी को कोई डर नहीं होता है। लेकिन जो लोग भ्रष्टाचार में शामिल हैं, उन्हें पाप का डर है। पीएम ने कहा कि कोई मुझे नहीं बताता कि कितने विपक्ष के नेता जेल में हैं। जब मैं सीएम था तो उन लोगों ने मेरे होम मिनिस्टर को जेल में डाल दिया था। देश को समझना चाहिए कि राजनीतिक दलों के नेता ईडी केसों में महज 3 फीसदी ही शामिल हैं। 97 फीसदी केस ऐसे लोगों के खिलाफ हैं, जो राजनीति से वास्ता नहीं रखते।
  8. प्राण जाए पर वचन ना जाए- पीएम ने कहा कि मुझे लगता है कि राजनीतिक नेतृत्व संदिग्ध होता जा रहा है। ऐसी स्थिति में, हमें याद रखना चाहिए कि हमारे पास 'प्राण जाए पर वचन न जाए' की परंपरा है। मेरा मानना ​​है कि राजनेताओं को ऐसा करना चाहिए कि वह खुद स्वामित्व लें, उन्हें जिम्मेदारी लेनी चाहिए। मैं जो कहता हूं, वह मेरी जिम्मेदारी है और मैंने इसकी गारंटी भी दी है और मैं अनुच्छेद 370 का मामला लेता हूं, यह हमारी पार्टी की प्रतिबद्धता रही है। मैंने साहस दिखाया और 370 को हटा दिया। और आज जम्मू-कश्मीर का भाग्य बदल गया है।
  9. 'मैं किसी को डराने या चकमा देने के लिए फैसले नहीं लेता'- पीएम मोदी ने कहा कि जब मैं कहता हूं कि मेरे पास बड़ी योजनाएं हैं, तो किसी को डरना नहीं चाहिए। मैं किसी को डराने या चकमा देने के लिए फैसले नहीं लेता, मैं देश के संपूर्ण विकास के लिए फैसले लेता हूं। इसके अलावा, सरकारें हमेशा कहती हैं कि हमने सब कुछ किया है लेकिन मुझे विश्वास नहीं है कि मैंने सब कुछ किया है। मैंने सब कुछ सही दिशा में करने की कोशिश की है फिर भी मुझे बहुत कुछ करने की जरूरत है, क्योंकि मैं देखता हूं कि मेरे देश की बहुत सारी जरूरतें हैं।  
  10. विपक्ष को दिया करारा जवाब- जब पीएम नरेंद्र मोदी से विपक्ष के इस आरोप के बारे में पूछा गया कि एजेंसियां सरकार के नियंत्रण में हैं, और जब ईवीएम पर सवाल उठाया गया तो उन्होंने कहा, वास्तव में वे अपनी हार का कारण ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं। ताकि हार का दोष सीधे तौर पर उन्हें न दिया जाए। कल पीएम मोदी ने ANI के इंटरव्यू में उन कंपनियों के डोनेशन के बारे में खुलासा किया जिनके बारे में विपक्ष आरोप लगा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि ED या CBI जांच वाली 16 कंपनियों ने बीजेपी की तुलना में विपक्ष को दोगूना चंदा दिया। पीएम मोदी ने इलेक्टोरल बॉन्ड को कालाधन रोकने की दिशा में बड़ा कदम बताया। उन्होंने कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड्स से डोनेशन देने वाली 3 हजार कंपनियों में से सिर्फ 26 कंपनियां ऐसी हैं जिनके खिलाफ ED या CBI ने कोई कार्रवाई की। पीएम मोदी ने बताया कि सिर्फ उनमें से सिर्फ 16 कंपनियां ऐसी हैं जिनके खिलाफ ED का एक्शन होने के बाद उन्होंने इलेक्टोरल बॉन्ड खरीदे लेकिन इन कंपनियों के इलेक्टोरल बॉन्ड में से विपक्षी दलों को 63 फीसदी डोनेशन मिला और बीजेपी को सिर्फ 37 फीसदी मिला।

देखें पीएम मोदी की इंटरव्यू की खास बातें-

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें Explainers सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement