1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. एजुकेशन
  4. न्‍यूज
  5. मध्य प्रदेश में छात्रों को बेहतर विकल्प का परामर्श देने की कवायद

मध्य प्रदेश में छात्रों को बेहतर विकल्प का परामर्श देने की कवायद

कई छात्रों के लिए अपने करियर को लेकर विकल्प का चुनाव करना बड़ा चुनौतीपूर्ण होता है और जब उन्हें बेहतर मार्गदर्शक नहीं मिलता तो वे अपनी क्षमताओं और अभिरुचि के विपरीत दिशा में बढ़ जाते हैं।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: July 28, 2020 12:37 IST
exercise to advise students of better options in madhya...- India TV Hindi
Image Source : PTI exercise to advise students of better options in madhya pradesh

भोपाल। कई छात्रों के लिए अपने करियर को लेकर विकल्प का चुनाव करना बड़ा चुनौतीपूर्ण होता है और जब उन्हें बेहतर मार्गदर्शक नहीं मिलता तो वे अपनी क्षमताओं और अभिरुचि के विपरीत दिशा में बढ़ जाते हैं। नतीजतन उन्हें वह सफलता नहीं मिलती, जिसके वे हकदार होते हैं या जितनी उनमें क्षमता होती है। छात्रों को इस समस्या से न जूझना पड़े इसके लिए मध्य प्रदेश में लेाक शिक्षण और स्कूल शिक्षा विभाग ने एक पहल की है। इसके तहत छात्रों को भविष्य में विषयों को चुनाव करने और लक्ष्य तय करने में विशेषज्ञ परामर्श दे रहे है।

राज्य के लोक शिक्षा विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों के लिए एमपी एस्पायर नाम से पोर्टल शुरू किया है। इसके साथ ही यूट्यूब चैनल पर भी काउंसलिंग दी जा रही है। इसका पहला सत्र आयोजित किया गया है, जिसमें विभिन्न जिलों के कक्षा नौंवी और दसवीं के लगभग 15 हजार छात्र के साथ जुड़े। इस पोर्टल को बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था यूनिसेफ का तकनीकी सहयोग मिल रहा है। पोर्टल को आसमान फोउंडेशन द्वारा बनाया गया था।

बताया गया है कि इस पोर्टल का उद्देश्य छात्रों को उनकी आकांक्षाओं, रुचि, झुकाव और योग्यता के साथ मेल खाते करियर मार्ग का चयन करने में सहायता प्रदान करना है। इसके जरिए छात्रों को छात्रवृत्ति, इंटर्नशिप के अवसरों से भी जोड़ने में मदद मिलेगी। यह एक गतिशील और अवसर उपलब्ध कराने वाला पोर्टल है जो करियर, शैक्षणिक निर्देशिका, सूचना और व्यवसाय और आवेदन प्रणाली को एक साथ उपलब्ध कराता है।

लोक शिक्षा की आयुक्त जयश्री कियावत का कहना है कि इससे छात्रों को भविष्य की संभावनाओं के साथ जुड़ने में मदद मिलेगी और बेहतर भविष्य बनाने के लिए मार्गदर्शन भी मिलेगा। यूनिसेफ के शिक्षा विशेषज्ञ, एफ.ए.जामी का कहना है कि करियर के लिए अपनी पसंद के मुद्दों पर कक्षा नवमीं से 12वीं तक के किशोर बच्चों से बात करके अच्छा लगा। इसके साथ ही किशोरों की व्यावसायिक पसंद और छात्रवृत्ति के बारे मे विस्तार से बताया गया। यह कोशिश किशोरों को सही विकल्प चुनने के साथ उन्हें अन्य लाभों को हासिल करने में काफी मदद देगी। छात्रों की जानकारी भी दुरुस्त होगी और उनके ज्ञान में भी बढ़ोतरी होगी

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। News News in Hindi के लिए क्लिक करें एजुकेशन सेक्‍शन
Write a comment
X