1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. महाराष्ट्र
  4. मलाड इमारत हादसा: महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की

मलाड इमारत हादसा: महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की

महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को घोषणा की कि मुंबई के मलवनी इलाके में मकान ढहने की घटना में जान गंवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के परिजनों को पांच- पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: June 10, 2021 18:58 IST
मुंबई इमारत हादसा: महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की- India TV Hindi
Image Source : @CMOMAHARASHTRA मुंबई इमारत हादसा: महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को घोषणा की कि मुंबई के मलवनी इलाके में मकान ढहने की घटना में जान गंवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के परिजनों को पांच- पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। सरकार की तरफ से कहा गया कि घायलों के इलाज का खर्च भी उसके द्वारा ही उठाया जाएगा। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गुरुवार दोपहर मुंबई के मलाड में एक दिन पहले हुए बहुमंजिला इमारत हादसे में घायल हुए लोगों से मुलाकात की।

अधिकारियों ने बताया कि मलवनी इलाके में अब्दुल हमीद रोड पर न्यू कलेक्टर कंपाउंड में बुधवार की करीब रात सवा ग्यारह बजे तीन मंजिला इमारत की दो मंजिलों के बगल में स्थित एक मंजिला मकान पर गिरने से आठ बच्चों सहित 11 लोगों की मौत हो गई और सात अन्य लोग घायल हो गए। घायलों का इलाज यहां कांदिवली के डॉ बीआर अंबेडकर शताब्दी अस्पताल में चल रहा है। बता दें कि, इस साल मुंबई में ये पहली बड़ी मानसून संबंधी त्रासदी है।

मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने हादसे में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया और बृहस्पतिवार को शहर के शताब्दी अस्पताल का दौरा कर वहां भर्ती घायलों की हालत की जानकारी ली। इस बयान में कहा गया कि जैसे ही बीती रात ठाकरे को इस घटना के बारे में जानकारी हुई, उन्होंने नगर आयुक्त आई एस चहल से बात की और सावधानीपूर्वक राहत व बचाव कार्य चलाने का निर्देश दिया तथा घायलों को अस्पताल में भर्ती कर सरकारी खर्च पर उनका इलाज कराने को कहा। 

बीएमसी के अधिकारी ने बताया कि दमकल विभाग तथा अन्य एजेंसियों के कर्मी तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे और बचाव एवं तलाश अभियान शुरू किया। बयान में कहा गया कि अस्पताल में मुख्यमंत्री के दौरे के समय राज्य के पर्यावरण मंत्री तथा मुंबई उपनगर के लिये प्रभारी मंत्री आदित्य ठाकरे, बीएमसी प्रमुख चहल और महापौर किशोरी पेडनेगर भी उनके साथ थीं। अधिकारियों ने दावा किया कि बांद्रा, धारावी, जोगेश्वरी, मलाड, दहिसर और अन्य जगह पर स्थानीय निवासी प्राधिकरण की मंजूरी के बिना बहु-मंजिला घरों का निर्माण करते हैं।

उधर प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के मुताबिक, मुंबई के मलाड पश्चिम में एक इमारत गिरने से जान गंवाने वालों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपये और घायलों को 50,000 रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। भारतीय जनता पार्टी के नेता प्रतिपक्ष (परिषद) प्रवीण दारेकर ने दुर्घटनास्थल का दौरा किया और मामले में ढिलाई के लिए बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) को फटकार लगाई। दारेकर ने कहा, "स्थानीय सांसद गोपाल शेट्टी ने बीएमसी को लिखित रूप में चेतावनी दी थी कि इन अवैध बहुमंजिला घरों को मानसून में एक बड़ा जोखिम पैदा हो सकता है। लेकिन इसके बारे में कुछ भी नहीं किया गया।"

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। मलाड इमारत हादसा: महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की News in Hindi के लिए क्लिक करें महाराष्ट्र सेक्‍शन
Write a comment
X