विधानसभा चुनाव 2022एग्जिट पोल नतीजे

गुजरात

  • BJP
    --
  • Cong
    --
  • Aap
    --
  • Others
    --
कुल सीटें : 182 Results

हिमाचल प्रदेश

  • BJP
    --
  • Cong
    --
  • Aap
    --
  • Others
    --
कुल सीटें : 68 Results

Shardiya Navratri 2022: नवरात्रि में मां दुर्गा के इन 9 रूपों की होती है पूजा, जानिए हर रूप की खास पूजा विधि

Shardiya Navratri 2022: जानते हैं कि नौ दिन में किस दिन मां दुर्गा के किस रूप की पूजा की जाती है। यहां जानिए हर रूप के लिए विशेष मंत्र और पूजा विधि...

Written By : Dr. Vaishali Gupta Edited By : Ritu TripathiPublished on: September 25, 2022 13:56 IST
Shardiya Navratri 2022- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Shardiya Navratri 2022

Highlights

  • जानिए कौन से हैं मां दुर्गा के नौ रूप
  • हर रूप के लिए जानिए अलग मंत्र
  • कैसे करना है किसे प्रसन्न

Shardiya Navratri 2022: आज का दिन देवी मां के भक्तों के लिए बहुत विशेष है क्योंकि सोमवार, 26 सितंबर से शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो रही है। इन नौ दिनों में मां दुर्गा के 9 रुपों की विधि- विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। शारदीय नवरात्रि इस साल 26 सितंबर से शुरू होकर 4 अक्टूबर यानी चलेगी। इस बीच मां दुर्गा के आराधक उन्हें प्रसन्न करने की पूरी कोशिश करते हैं, लोग मां की कृपा पाने के लिए व्रत रहते हैं, पूजन करते हैं, पाठ व जप के साथ यज्ञ और हवन भी करते हैं। क्योंकि यह मान्यता है कि नवरात्रि में मां दुर्गा भक्तों के घर में प्रवेश करती हैं। आइए डॉ. वैशाली गुप्ता से जानते हैं कि नौ दिन में किस दिन मां दुर्गा के किस रूप की पूजा की जाती है। साथ ही हर रूप के लिए विशेष मंत्र और पूजा विधि। 

पहला दिन मां शैलपुत्री (हिमालय की पुत्री): देवी के इस रूप से हमारे जीवन में पर्वत के समान समृद्धि, धन और दृढ़ता आती है। मां परमात्मा का पूर्ण रूप। उनके एक ओर त्रिशूल और दूसरी ओर कमल है। उसके सिर के पीछे आधा चांद है। ध्यान करते समय अगर हम उनकी प्रार्थना करें और अपनी एकाग्रता को मूलाधार चक्र पर ले जाएं तो हम अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव महसूस कर सकते हैं। 

मंत्र जाप : " ॐ ऐं ह्रीं क्लीं शैल पुत्री नमः" 

रंग: मां भ्रामचारिणी का प्रिय रंग पीला है।

दूसरा दिन मां भ्रामचारिणी: देवी के इस रूप का अर्थ है, मां का अविवाहित रूप। एक तरफ उनके पास कमंडल और दूसरी तरफ जप माला है। ध्यान करते समय अपना ध्यान स्वाधिष्ठान चक्र पर लगाएं। वह प्यार और बलिदान को दर्शाती है। उसका रंग हरा है।

मंत्र जाप: "ॐ ऐं ह्रीं क्लीं भ्रामचारिह्य नमः"

रंग: मां भ्रामचारिणी का प्रिय रंग हरा है।

तीसरा दिन है मां चंद्रघंटा: वह हमें बुरे कर्मों से मुक्ति दिलाती हैं और हमारे जीवन में वीरता बढ़ाती हैं। यदि आप पीले रंग के कपड़े पहनते हैं और मणिपुर पर हमारा ध्यान रखते हुए इस मंत्र का जाप करते हैं। चक्र हम अपने जीवन में उसकी सकारात्मकता महसूस करेंगे।

मंत्र जाप: "ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चंद्रघंताये नमः"
रंग: मां चंद्रघंटा पसंदीदा रंग पीला है

चौथा दिन मां कुष्मांडा: उनके चेहरे पर मुस्कान है। वह हमारे जीवन से अंधकार को दूर करती हैं। वह सिद्धि की देवी हैं और वह हमारे जीवन से बीमारी को दूर करती हैं और हमें खुश करती हैं। उनसे प्रार्थना करते समय आपको अहनत चक्र पर ध्यान केंद्रित करना होगा। 

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं कुष्मांडाये नमः"
रंग: मां कुष्मांडा का पसंदीदा रंग नारंगी है

पांचवां दिन मां सकंद माता: उनके 4 हाथ और 3 आंखें हैं। उनकी गोद में भगवान कार्तिकेय (शिशु) हैं। देवी का यह रूप हमें खुशी, समृद्धि और मोक्ष प्रदान करता है। हमें विशुद्धि चक्र पर ध्यान करना चाहिए। 

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं स्कंध मताय नमः”
रंग: मां सकंद माता का पसंदीदा रंग सफेद है

छठा दिन माँ कात्यायनी: उनके 4 हाथ हैं और वह एक बाघ की सवारी करती हैं। एक हाथ में उनके पास तलवार है और कहा जाता है कि जब हम देवी के इस रूप की पूजा करते हैं तो हम बीमारी और भय को हराने में सक्षम होते हैं। मंत्र का जाप करते समय आपको अपना ध्यान आज्ञा चक्र पर रखना चाहिए। 

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं कात्यायनि नमः" 
रंग: माँ कात्यायनी का पसंदीदा रंग लाल है

सातवां दिन माँ कालरात्रि: माना जाता है कि यह माँ का सबसे आक्रामक रूप है। देवी का यह रूप दुश्मनों को दूर कर हमें लंबी उम्र देता है। कहा जाता है कि ध्यान करते समय आपको माथे पर ध्यान देना चाहिए। 

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं कल रत्रिय्या नमः"
रंग: माँ कालरात्रि  का पसंदीदा रंग नीला है

आठवां दिन माँ गौरी:  वह हमारे जीवन को धन, स्वास्थ्य, नाम, प्रसिद्धि और सभी प्रकार की समृद्धि से भर देती है। उनका ध्यान सिर पर ध्यान के साथ किया जाता है।  

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं महा गौरिये नमः" 
रंग: माँ गौरी का पसंदीदा रंग गुलाबी है

नौवां दिन है मां सिद्धिदात्री: कहा जाता है कि इनके 4 हाथ हैं और ये कमल पर विराजमान हैं। ये हमारे जीवन में सिद्धियां लाती हैं। इनके पास हीलिंग शक्तियां हैं और ये किसी भी बीमारी को ठीक कर सकती हैं। इनका ध्यान माथे पर एकाग्रता के साथ करना चाहिए। 

मंत्र जाप: "ओम ऐं ह्रीं क्लीं सिद्धिदात्रिये नमः"
रंग: मां सिद्धिदात्री का पसंदीदा रंग बैंगनी है।

(डॉ. वैशाली गुप्ता, देश की जानी मानी वास्तु एक्सपर्ट, लाइफ कोच और ज्योतिषी हैं।)

Shardiya Navratri 2022: मां दुर्गा, लक्ष्मी और सरस्वती को करना है प्रसन्न, नवरात्रि में जरूर अपनाएं ये खास नियम

Vastu Tips: घर में भगवान की मूर्ति को गलत तरीके से रखना पड़ सकता है भारी, छिन सकता है पूरा धन

Vastu Tips: हर जगह मिलेगी सफलता और चारों ओर से आएगा पैसा, बस घर में रखनी होगी ये छोटी सी चीज

Gemini Weekly Horoscope 26 Sep - 2 Oct 2022: मिथुन राशि वालों को आर्थिक लाभ के बन रहे हैं योग, प्रमोशन के साथ बढ़ेगी सेलरी

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Festivals News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन