Shardiya Navratri 2022: मां दुर्गा, लक्ष्मी और सरस्वती को करना है प्रसन्न, नवरात्रि में जरूर अपनाएं ये खास नियम

Shardiya Navratri 2022: आम और अशोक के पत्तों की माला बनाकर मुख्य द्वार पर बांध दें। यह आपके घर से सभी नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने में मदद करेगा। इसे नवरात्रि के सभी नौ दिनों तक किया जा सकता है। डॉ वैशाली गुप्ता से जानिए मां को प्रसन्न करने के कुछ खास उपाय...

Written By : Dr. Vaishali Gupta Edited By : Ritu Tripathi Updated on: September 25, 2022 12:31 IST
Shardiya navratri 2022- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Shardiya Navratri 2022

Highlights

  • जानिए अखंड ज्योति की दिशा
  • चंदन है सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत
  • शंख बजाने से होगा पर्यावरण शुद्ध

Shardiya Navratri 2022: नवरात्रि में हम मां लक्ष्मी, मां सरस्वती और मां दुर्गा के तीन रूपों की पूजा करते हैं। सबसे पहले 3 दिन मां दुर्गा को समर्पित होते हैं। वह शक्ति और ऊर्जा को दर्शाती है। अगले 3 दिन मां लक्ष्मी के लिए हैं जो समृद्धि और धन का प्रतीक हैं। अंतिम 3 दिन ज्ञान की सूचक मां सरस्वती के लिए हैं। इस दौरान देवी के नौ रूपों की भी पूजा की जाती है।

मूर्ति की दिशा

नवरात्रि के पहले दिन देवी दुर्गा की मूर्ति को अपने घर के ईशान कोण में (स्थापना) रखना चाहिए। इससे आपकी पूजा की प्रभावशीलता में वृद्धि होगी। इसके अलावा लकड़ी के बोर्ड पर स्थापना और कोई अन्य सामग्री नहीं करनी चाहिए।

भक्त को पूर्व और उत्तर दिशा का सामना करना चाहिए

नवरात्रि के दौरान, भक्तों को देवी मां की पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दिशा का सामना करना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि पूर्वी कंपास को साहस, बहादुरी और सफलता लाने वाला माना जाता है। नौ दिनों के दौरान, सभी देवी-देवताओं को लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिए।

अखंड ज्योति की दिशा

यदि आप नवरात्रि के पूरे नौ दिनों के लिए एक अखंड ज्योति जलाते हैं, तो इसे पूजा स्थल की ओर दक्षिण-पूर्व की ओर रखें (सूक्ष्म वास्तु सिद्धांतों के अनुसार)। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपका घर आनंद और धन से भर जाएगा, और आप अपने विरोधियों पर विजय प्राप्त करेंगे।

चंदन: सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत

वास्तु शास्त्र चंदन को अच्छी ऊर्जा का स्रोत मानता है। नतीजतन, भक्त पूजा के लिए चंदन का उपयोग कर सकते हैं। इसमें अनुष्ठानों की सफलता में सुधार करने की क्षमता है।

स्थापना स्थान का रंग

यदि आप देवी दुर्गा की कृपा चाहते हैं तो अपनी पूजा सामग्री को दक्षिण-पूर्व दिशा में रखें। जिस कमरे में देवी की मूर्ति की आकृति बनाई जाती है वह हल्का पीला, हरा या गुलाबी होना चाहिए।

घर से सभी नकारात्मकताओं को दूर करें

आम और अशोक के पत्तों की माला बनाकर मुख्य द्वार पर बांध दें। यह आपके घर से सभी नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने में मदद करेगा। इसे नवरात्रि के सभी नौ दिनों तक किया जा सकता है।

शंख बजाने से होगा पर्यावरण शुद्ध

वास्तु शास्त्र के अनुसार शंख बजाने और घंटी बजाने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं। इससे पर्यावरण की शुद्धता अधिक होगी। विज्ञान के अनुसार शंख ध्वनि करने पर विभिन्न जीवाणुओं के मारे जाने की बात कही जाती है।

सफाई का रखें ध्यान 

अपनी संपत्ति को साफ रखें, और अपने निवास में देवी दुर्गा का स्वागत करें। नवरात्रि में अपने घर को साफ सुथरा रखें। देवी दुर्गा के बारे में कहा जाता है कि जिन घरों में घाट स्थापना की जाती है, वे अक्सर आते हैं।

धूप जलाकर अपने पर्यावरण को शुद्ध करें

हल्की धूप बनाने के लिए सूखे गोबर और गुग्गुल को मिलाकर बनाया जाता है। इसे घरों और कार्यस्थलों की हवा और पर्यावरण को साफ करने के लिए कहा जाता है।

(डॉ. वैशाली गुप्ता, देश की जानी मानी वास्तु एक्सपर्ट, लाइफ कोच और ज्योतिषी हैं।)

Vastu Tips: इस दिशा में तिजोरी रखने से पैसे और आयु दोनों होंगे कम, जानिए वास्तु का सबसे जरूरी नियम

Vastu Tips: घर में भगवान की मूर्ति को गलत तरीके से रखना पड़ सकता है भारी, छिन सकता है पूरा धन

Vastu Tips: हर जगह मिलेगी सफलता और चारों ओर से आएगा पैसा, बस घर में रखनी होगी ये छोटी सी चीज

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Vastu Tips News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन