Sunday, June 16, 2024
Advertisement

क्लर्क की एक लापरवाही से बुजुर्ग महिला की रिहाई में हुई कई महीनों की देरी, यहां जानें क्या है पूरा मामला

कानपुर जेल में सुमित्रा नाम की एक महिला अपने परिवार के साथ दहेज हत्या मामले में सजा काट रही थी। राज्यपाल ने महिला की रिहाई के आदेश दिए मगर आदेश आने के बाद भी महिला को जेल में रहना पड़ा।

Edited By: Adarsh Pandey
Updated on: May 22, 2024 13:30 IST
प्रतीकात्मक फोटो- India TV Hindi
Image Source : PTI प्रतीकात्मक फोटो

कानपुर से बड़ा अजीब सा मामला सामने आया है जिसे पढ़ने के बाद आप पूरी तरह से हैरान हो जाएंगे। सुमित्रा नाम की एक महिला दहेज हत्या के मामले में कानपुर जेल में सजा काट रही थी। महिला के अलावा उसका परिवार भी इस मामले में जेल में था। सुमित्रा ने इस मामले में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के पास एक माफी याचिका भेजी। राज्यपाल ने महिला की याचिका को स्वीकार कर लिया और उसकी रिहाई के आदेश दे दिए। मगर एक विभाग के क्लर्क बाबू की गलती के कारण महिला को जेल से रिहाई नहीं मिल पाई। आइए अब आपको इस मामले की पूरी जानकारी देते हैं।

क्या है कानपुर का यह पूरा मामला?

TOI के मुताबिक दहेज हत्या के एक मामले में सुमित्रा नाम की महिला और उसका परिवार कानपुर जेल में सजा काट रहे थे। इनको आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। जेल में सजा काटते हुए सुमित्रा के पति की मौत हो गई जबकि वह और उसका बेटा जेल में ही थे। जेल से सुमित्रा ने राज्यपाल के पास एक माफी याचिका भेजी। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सुमित्रा की माफी याचिका को स्वीकार कर लिया और साल 2022 में रिहाई का आदेश दे दिया। मगर इसके साथ 2-2 लाख रुपेय की दो जमानतें लगाने का आदेश भी दिया। लेकिन सुमित्रा ने बताया कि वह गरीब है और यह जमानत राशि जमा नहीं कर सकती है। इसके बाद तहसीलदार ने इसकी जांच की और महिला की बात सही साबित हुई। इसके बाद 2023 की जुलाई में एक बगैर जमानत राशि के रिहाई करने का आदेश दिया गया।

महिला की फाइल जिला प्रोबेशन दफ्तर में आया जहां आशीष कुमार जला परिवीक्षा काउंटर सहायक के तौर पर तैनात थे। उनके पास फाइल पहुंची मगर उन्होंने फाइल को DM के पास नहीं भेजा और 10 महीनों तक अपने पास ही रखा। जब यह फाइल DM के पास पहुंची तो पूरा मामला सामने आया।

DM ने बाबू की लगाई फटकार

सोमवार को सुमित्रा के रिहाई से जुड़ी फाइल DM के पास पहुंची जिसके बाद पूरा मामला प्रकाश में आया। इसके बाद डीएम ने क्लर्क की क्लास लगा दी। मामले में DM राकेश कुमार सिंह ने बताया कि, लापरवाही के मामले में क्लर्क के निलंबन की सिफारिश की गई है और साथ में ही उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। इसके अलावा महिला की रिहाई के लिए भी आदेश दिया गया है। आपको बता दें कि दहेज हत्या के मामले में सुमित्रा का बेटा अभी भी जेल में बंद है, सिर्फ महिला की रिहाई हुई है।

ये भी पढ़ें-

कानपुर-प्रयागराज हाईवे पर हुआ दर्दनाक हादसा, वैन की टक्कर लगने से 4 महिलाओं की मौत

PM मोदी ने संकट मोचन मंदिर में नवाया शीश, वाराणसी में बोले- पहली बार बिना मां के नामांकन किया, अब गंगा ही मेरी मां

 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें उत्तर प्रदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement