ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. पुतिन ने कहा, सुरक्षा की गारंटी मिले तो अपने परमाणु हथियारों को छोड़ देगा उत्तर कोरिया

पुतिन ने कहा, सुरक्षा की गारंटी मिले तो अपने परमाणु हथियारों को छोड़ देगा उत्तर कोरिया

किम के साथ अपने पहले शिखर सम्मेलन के दौरान रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि मास्को और वॉशिंगटन दोनों चाहते हैं कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियारों को छोड़ दें।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: April 26, 2019 6:50 IST
Kim Jong Un needs international security guarantees to give up nuclear arsenal, says Vladimir Putin - India TV Hindi
Kim Jong Un needs international security guarantees to give up nuclear arsenal, says Vladimir Putin | AP

व्लादिवोस्तोक: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने गुरुवार को इस बात की पुष्टि की कि अगर उन्हें पहले से सुरक्षा की गारंटी दे दी जाए, तो वह अपने परमाणु हथियारों को छोड़ने के लिए तैयार हैं। किम के साथ अपने पहले शिखर सम्मेलन के दौरान रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि मास्को और वॉशिंगटन दोनों चाहते हैं कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियारों को छोड़ दें। लेकिन उन्होंने कहा है कि कई देशों द्वारा उन्हें सुरक्षा की गारंटी लिखित में देनी चाहिए।

पुतिन ने कहा कि किम ने उन्हें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को प्योंगयांग की स्थिति की बारीकियों को समझाने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ शिखर सम्मेलन का विवरण साझा करने के इच्छुक हैं। किम के साथ बैठक के बाद अपने दो दिवसीय दौरे पर बीजिंग के लिए रवाना होने से पहले पुतिन ने कहा, ‘मैं चीनी नेतृत्व के साथ कल इसके बारे में बात करूंगा। हम इस मुद्दे पर अमेरिकी नेतृत्व के साथ खुले तौर पर चर्चा करेंगे। कोई रहस्य नहीं हैं। रूस की स्थिति हमेशा पारदर्शी रही है।’

इससे पहले पुतिन और किम जोंग उन ने गुरुवार को अपनी पहली मुलाकात में दोनों देशों के बीच करीबी संबंध बनाने का संकल्प लिया। रूस के व्लादिवोस्तोक शहर में दोनों नेताओं के बीच शिखर वार्ता ऐसे समय हुई जब किम अमेरिका के साथ अपने परमाणु गतिरोध के संबंध में समर्थन हासिल करना चाहते हैं और पुतिन इस मामले में रूस को भी एक खिलाड़ी के तौर पर पेश करना चाहते हैं। वार्ता के लिए जाने से पहले दोनों नेता एक दूसरे को देखकर मुस्कुराए और उन्होंने हाथ भी मिलाया। किम और पुतिन की वार्ता उम्मीद से लंबी, करीब दो घंटे चली।

बैठक के लिए जाने से पहले दिए संक्षिप्त बयानों में दोनों नेताओं ने रूस और उत्तर कोरिया के ऐतिहासिक संबंधों को मजबूत बनाने की उम्मीद व्यक्त की। किम ने कहा कि वह रूस के साथ आधुनिक संबंधों को ‘अधिक स्थिर एवं मजबूत’ बनाना चाहते हैं और पुतिन ने कहा कि यह यात्रा दोनों देशों के बीच कूटनीतिक एवं आर्थिक संबंधों को मजबूत करेगी। किम ने ‘बहुत अच्छी’ बैठक के लिए पुतिन को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, ‘हमारे बीच साझा हित के मामलों पर अर्थपूर्ण वार्ता हुई।’ पुतिन ने कहा कि उन्होंने अमेरिका के साथ संबंधों को सामान्य बनाने के लिए किम के प्रयासों का समर्थन किया। उन्होंने किम के साथ हुई बैठक को सार्थक बताया।

elections-2022